निजीकरण के विरोध में 20 को ब्लैक आउट!

अमर उजाला, गाजियाबाद Updated Tue, 28 Jan 2014 01:14 AM IST
20 February is Black out
पावर कारपोरेशन संयुक्त संघर्ष समिति की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक सोमवार को चीफ इंजीनियर आफिस पर संपन्न हुई। इसमें निजीकरण के खिलाफ आरपार की लड़ाई का निर्णय लिया गया।

पदाधिकारियों ने 20 फरवरी से ब्लैक आउट करने की घोषणा की है। इस दौरान कर्मचारी प्रदेशभर में न तो पावर सप्लाई करेंगे और न ही होने देंगे।

बैठक में सर्वसम्मति से आंदोलन को तेज करने का लिया गया। निजीकरण के विरोध सहित अन्य मांगों को लेकर छह फरवरी को कर्मचारी सत्याग्रह करेंगे। लखनऊ में शक्तिभवन के साथ ही चीफ व एसई आफिसों पर सत्याग्रह आंदोलन किया जाएगा। 17 व 18 फरवरी को 48 घंटे का कार्य बहिष्कार करेंगे

इस पर भी सुनवाई न होने पर 19 फरवरी की सुबह छह बजे से पूर्ण हड़ताल की जाएगी। यदि पावर कारपोरेशन प्रबंधन ने मांगों को स्वीकार नहीं करता है तो 20 फरवरी से ब्लैकआउट कर दिया जाएगा। इस दौरान कर्मचारी न तो पावर सप्लाई करेंगे और न ही किसी अन्य को करने देंगे।

संघर्ष समिति की बैठक में संयुक्त संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष आरके सिंह, पदाधिकारी राजेंद्र घिल्डियाल, गिरीश कुमार पांडे, सीपी अवस्थी, गिरीश चंद शर्मा, पूसे लाल, भगवान मिश्र, आरएस वर्मा, विमलेश श्रीवास्तव ने भी विचार रखा। बैठक अध्यक्षता एसई आरएस यादव और वीके अग्रवाल के संचालन में संपन्न हुई।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

गुरुग्राम में धारा 144 लागू, ‘पद्मावत’ देखने जाने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

फिल्म 'पद्मावत' की रिलीज को लेकर हो रहे हिंसक प्रदर्शन और विवाद को देखते हुए गुरुग्राम में धारा 144 लगा दी गई है।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls