उत्तराखंड: नए मुख्य सचिव बने एसएस संधू, ओम प्रकाश को राजस्व परिषद का अध्यक्ष बनाया

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal Updated Mon, 05 Jul 2021 08:02 PM IST

सार

संधू इस समय केंद्र में राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण के चेयरमैन हैं। 2019 में उन्हें राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण का दायित्व सौंपा गया था।
sukhbir singh sandhu
sukhbir singh sandhu - फोटो : twitter
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

सत्ता की कमान संभालते ही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक्शन में आ गए हैं। सरकार के गठन के साथ ही मुख्य सचिव पद पर तैनात ओम प्रकाश को हटा दिया गया है। उनकी जगह 1988 बैच के उत्तराखंड कैडर के आईएएस अधिकारी डॉ.सुखबीर सिंह संधू उत्तराखंड के नए मुख्य सचिव बनाए गए हैं। संधू प्रदेश के 17वें मुख्य सचिव के तौर पर कार्यभार संभालेंगे। वह मंगलवार को कार्यभार ग्रहण कर सकते हैं।
विज्ञापन


उत्तराखंडः प्रधानमंत्री मोदी ने फोन पर की मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से बात, दी शुभकामनाएं और आशीर्वाद


सोमवार को अपर मुख्य सचिव कार्मिक राधा रतूड़ी ने संधू के मुख्य सचिव पद पर नियुक्ति के आदेश जारी किए। उन्हें अविलंब तैनाती लेने के लिए कहा गया है। उधर, मुख्य सचिव पद से कार्यमुक्त हुए 1987 बैच के आईएएस अधिकारी ओम प्रकाश को राजस्व परिषद का अध्यक्ष बनाया गया है। वह नई दिल्ली में मुख्य स्थानिक आयुक्त पद पर रहेंगे। अध्यक्ष राजस्व परिषद पर उनकी मूल तैनाती होगी। इस संबध में भी अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने आदेश जारी कर दिया है।
 
उत्तराखंडः अतिथि शिक्षकों का वेतन बढ़ाकर किया 25 हजार, नए मुखिया की पहली कैबिनेट में हुए ये फैसले

संधू के रिलीविंग लेटर में लिखा है कि उन्हें उनके मूल कैडर उत्तराखंड भेजा जा रहा है। सुखवीर सिंह संधू 1988 बैच के आईएएस हैं। वह मूल रूप से उत्तराखंड कैडर के अफसर हैं। संधू उत्तराखंड सरकार में कई अहम पदों पर रह चुके हैं।

संधू इस समय केंद्र में राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण के चेयरमैन हैं। 2019 में उन्हें राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण का दायित्व सौंपा गया था।

राज्य सरकार ने केंद्र से किया था अनुरोध
डॉ.सुखबीर सिंह संधू 1988 बैच उत्तराखंड के आईएएस अधिकारी हैं। वह दिल्ली में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर थे। केंद्र सरकार ने उन्हें उत्तराखंड के लिए कार्यमुक्त कर दिया है। राज्य सरकार ने संधू की मूल कैडर में वापसी के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध किया था।

तेजतर्रार अफसरों में गिने जाते हैं संधू

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी एसएएस संधू का लंबा प्रशासनिक अनुभव है। वह तेजतर्रार अफसरों में गिने जाते हैं। अभी तक वह केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर थे। उनका केंद्र सरकार में सचिव पद के लिए इंपैनलमेंट हो रखा है। वे अक्तूबर 2019 में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के चेयरमैन बने, जनवरी 21 तक उनका कार्यकाल था। केंद्र सरकार ने 31 जुलाई 2021 तक का सेवा विस्तार दे दिया था।

डॉ.संधू केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय में अपर सचिव उच्च शिक्षा थे। वह 2011 तक पंजाब सरकार में प्रतिनियुक्ति पर रहे। वह ऊधमसिंह नगर जिले के पहले कलेक्टर भी रहे। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री जनरल बीसी खंडूड़ी, विजय बहुगुणा और हरीश रावत के सचिव का दायित्व भी निभाया। बादल सरकार में वह मुख्यमंत्री के सचिव रहे। उत्तराखंड सरकार में उन्हें लोनिवि, कार्मिक, औद्योगिक विकास समेत कई महत्वपूर्ण विभागों का अनुभव रहा।

अब तक रहे उत्तराखंड के मुख्य सचिव
1.अजय विक्रम सिंह
2. मधुकर गुप्ता
3. डॉ.आरएस टोलिया
4. एम. रामचंद्रन
5. एसके दास
6. इंदु कुमार पांडे
7. नृप सिंह नपलच्याल
8. सुभाष कुमार
9. आलोक कुमार जैन
10. सुभाष कुमार
11. एन रविशंकर
12. राकेश शर्मा
13. शत्रुघ्न सिंह
14. एस. रामास्वामी
15. उत्पल कुमार सिंह
16. ओम प्रकाश

गडकरी ने उत्तराखंड के मुख्य सचिव संधू की तारीफ की

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने उत्तराखंड के मुख्य सचिव बनाए गए 1988 बैच के आईएएस अधिकारी सुखबीर सिंह संधू की तारीफ की है। संधू एनएचएआई के अध्यक्ष रहे हैं। उन्हें इस पद से केंद्र सरकार ने उत्तराखंड के लिए कार्यमुक्त कर दिया है। 

गडकरी ने ट्विटर पर लिखा है कि एनएचएआई के अध्यक्ष सुखबीर सिंह संधू अब उत्तराखंड सरकार के मुख्य सचिव के रूप में सेवारत होंगे। उनके कार्यकाल के दौरान कोविड 19 महामारी के चुनौतीपूर्ण समय के बावजूद राष्ट्रीय राजमार्गों का रिकार्ड निर्माण हुआ, विवादों के समाधान निकले और पुरस्कार हासिल किए। संधू का यह सर्वश्रेष्ठ कार्यकाल था। पूरे भारत में ऑक्सीजन प्लांट के निर्माण में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा।

उन्होंने संधू को शुभकामनाएं दी और राष्ट्रीय राजमार्गों के विकास के लिए उनके निरंतर समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। भाजपा नेता अजेंद्र अजय ने गडकरी के ट्वीटर पर रिप्लाई किया, पुष्कर धामी सरकार का यह निर्णय सराहनीय और स्वागत योग्य है। उत्तराखंड के परिप्रेक्ष्य में यह निरंकुश अधिकारियों के लिए एक बहुत बड़ा संदेश है। उम्मीद की जानी चाहिए की संधू के अनुभव और क्षमताओं का लाभ उत्तराखंड को प्राप्त होगा।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00