कैप्टन के बयान पर विज का पलटवार, बोले- न SYL का मुद्दा रहेगा, न अमरिंदर सिंह

ब्यूरो/अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 07 Jun 2017 09:39 AM IST
Captain Amarinder singh And Anil Vij
Captain Amarinder singh And Anil Vij
ख़बर सुनें
हरियाणा और पंजाब एसवाईएल के पानी को लेकर एक बार फिर आमने-सामने हैं। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के हरियाणा को पानी न देने का राग अलापने पर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने तीखी टिप्पणी की है।
विज ने यहां हरियाणा निवास में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आने वाले समय में न एसवाईएल का मुद्दा रहेगा, न ही कैप्टन अमरिंदर सिंह। हरियाणा अपने हक का पानी लेकर एसवाईएल के मुद्दे को ही खत्म कर देगा। इसके बाद अमरिंदर की चाहे जो भी गति क्यों न हो। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का बयान निंदनीय है। विज यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि हरियाणा की जनता के लिए पंजाब का मुख्यमंत्री कोई मुद्दा नहीं, बल्कि प्रदेश में एसवाईएल का पानी लाना प्रमुख मुद्दा है।

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय हरियाणा के पक्ष में आ चुका है। नहर का निर्माण होने के बाद प्रदेश की जनता को पानी मिलकर रहेगा। हरियाणा में कानून-व्यवस्था सुचारू रूप से चल रही है और नियंत्रण में हैं। इस पर किसी को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है।
आगे पढ़ें

अनिल विज के बयान पर पंजाब कांग्रेस का तीखा जवाब

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

ग्वालियर में आंध्र प्रदेश एक्सप्रेस के 4 डिब्बों में लगी आग, बचाए गए 37 डिप्टी कलेक्टर

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले के बिरला नगर पुल के पास आंध्रा एक्सप्रेस की चार बोगियों में आग लगने की खबर है।

21 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस एलान के बाद अब मुसलमान सिर्फ मस्जिद में पढ़ सकेंगे नमाज

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नमाज को लेकर बयान दिया है। खट्टर ने कहा है कि हरियाणा में सार्वजनिक जगहों पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। सिर्फ मस्जिदों में ही नमाज पढ़ी जाए।

6 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen