जनता को लोन नहीं देने वाले बैंकों के साथ लेनदेन नहीं रखेगी बिहार सरकार- सुशील मोदी

amarujala.com- Presented by: ऋतुराज त्रिपाठी Updated Sun, 05 Nov 2017 04:26 AM IST
Bihar government will not deposit its money in those banks which hesitate in giving loans to people
सुशील मोदी - फोटो : ANI
बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार उन बैंकों में अपना पैसा नहीं रखेगी जो सरकारी योजना के लाभार्थियों को लोन देने में आनाकानी करती हैं। उन्होंने कहा कि हम समीक्षा करके उन बैंकों को चिन्हित करेंगे जो लाभार्थियों को लोन देने से मना करती हैं और ऐसे बैंकों में सरकार अपना पैसा नहीं रखेगी।
पढ़ें:  सुशील मोदी बोले- बिना नुकसान पहुंचाए बंगला सौंपे तेजस्वी यादव

सुशील मोदी ने कहा कि इस तरह के बैंको के साथ सरकार किसी तरह का लेनदेन भी नहीं करेगी। 62वें तिमाही की SLBC की बैठक में सुशील ने कहा कि राज्य सरकार ऐसे नियम बनाएगी जिसके आधार पर बैंकों का वर्गीकरण होगा। साल के आखिर तक सरकार द्वारा मापदंडों को तैयार कर दिया जाएगा। 

पढ़ें: सुशील मोदी की बहन करती थी सृजन के लिए हीरे की खरीद

जो बैंक सरकार के मापदंडों पर खरा उतरेंगी, सरकार ऐसे बैंकों के साथ ही लेनदेन करेगी और उनमें अपना पैसा रखेगी। आपको बता दें कि साल 2012-13 में भी सरकार ने बैंकों में पैसा जमा करने के लिए कुछ निर्धारित मापदंड बनाए थे। 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Meerut

मेरठ में राष्ट्रोदय आज, अनूठे रिकॉर्ड की साक्षी बनेगी क्रांतिधरा

सर संघ चालक मोहन भागवत तीन लाख स्वयं सेवकों को आज संबेधित करेंगे।

25 फरवरी 2018

Related Videos

UNFPA के अधिकारी पर लगा छेड़खानी का आरोप, मामला दर्ज

बिहार की रहने वाली प्रशांती तिवारी ने संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (UNFPA)  के अधिकारी पर छेड़खानी का आरोप लगाया है। प्रशांती ने यूएनएफपीए के भारत प्रमुख सहित दो अन्य पर आरोप लगाए हैं कि उन लोगों ने उसे गालियां दी और उसके साथ जबरदस्ती की।

24 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen