लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Udham Singh Nagar ›   arms dealer son and father arrested

असलहों के सौदागर पिता-पुत्र गिरफ्तार 

अमर उजाला ब्यूरो, रुद्रपुर Updated Tue, 16 Jan 2018 12:40 AM IST
तमंचा
तमंचा
विज्ञापन
ख़बर सुनें

 जिले में अपराधियों को असलहे मुहैया कराने वाले यूपी निवासी पिता-पुत्र को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। दोनों के कब्जे से आठ देसी तमंचे भी बरामद हुए हैं। आरोपियों ने सितारगंज और किच्छा में तमंचों का सौदा किया था। दोनों के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है। पुलिस अब सितारगंज और किच्छा में आरोपियों के सहयोगियों की धरपकड़ के लिए जुटी है। 
सोमवार को पुलभट्टा थाने में एसपी सिटी देवेंद्र पींचा ने मामले का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि कुछ दिन पूर्व एसटीएफ को ऊधमसिंह नगर में यूपी से असलहों की खेप पहुंचने की सूचना मिली थी। एसटीएफ निरीक्षक एमपी सिंह ने असलहों की खेप लाने वालों की सुरागकशी शुरू दी। सोमवार सुबह मुखबिर ने सूचना दी कि पुलभट्टा क्षेत्र में दो लोग तमंचे लेकर पहुंच रहे हैं। इस पर एमपी सिंह ने पुलभट्टा थाना प्रभारी विद्याधर जोशी के साथ मिलकर पुलभट्टा और बहेड़ी के बीच दो संदिग्धों को पकड़ा। तलाशी लेने पर उनके कब्जे से 315 बोर के आठ देसी तमंचे बरामद हुए। पकड़े गए लोगों की पहचान वसीम अहमद पुत्र अब्दुल नईम और उसके पिता अब्दुल नईम निवासी वार्ड नंबर नौ मोहल्ला मस्तान थाना देवनरिया कस्बा रिछा जिला बरेली के रूप में हुई है। 

पूछताछ में दोनों ने कबूला कि वे यूपी के रिछा से तमंचे लाकर यूएसनगर और नैनीताल जिले में सप्लाई करते थे। बरामद तमंचों का सौदा उन्होंने सितारगंज और किच्छा में रहने वाले युवकों के साथ 56 हजार रुपये में किया था। दोनों चार हजार में तमंचा लाकर सात हजार में यहां बेचते थे। वे साल भर से तमंचे सप्लाई करने का काम कर रहे थे। इधर, पुलिस के अनुसार रिछा में तमंचों का कारोबार बड़े स्तर पर होता है और यहां से तमंचे पूरे कुमाऊं में सप्लाई किए जाते हैं। टीम में एसआई केपी टम्टा, आरक्षी गोविंद सिंह, महेंद्र गिरी, किशोर कुमार, दुर्गा सिंह और सलमान थे। 

बेहद सफाई से बनाए गए थे तमंचे 
रुद्रपुर। पुलभट्टा थाना क्षेत्र में असलहा बेचने वाले पिता-पुत्र से बरामद देसी तमंचों को बेहद सफाई के साथ तैयार किया गया था। ये आकार में इतने छोटे हैं कि अपराधी इन्हें आराम से अपने साथ छिपाकर ले जा सकते हैं। जहां आमतौर पर देसी तमंचा दो से तीन हजार में मिल जाता है, वहीं इन्हें खरीदने के लिए सात हजार रुपये तक खर्च करने होते थे। 

एसटीएम यूएसनगर को जिले में अवैध असलहों की सप्लाई किए जाने की सूचना मिली थी, इस पर तत्काल कार्रवाई की गई है। आगे पकड़े गए लोगों से मिले कुछ महत्वपूर्ण सुराग पर भी काम किया जा रहा है। 
- रिधिम अग्रवाल, एसएसपी एसटीएफ, उत्तराखंड। 


एसटीएफ को साढ़े सात हजार का इनाम
देहरादून। बरेली से उत्तराखंड में हथियारों की तस्करी करने वाले बरेली के दो आर्म्स डीलरों को गिरफ्तार करने वाली एसटीएफ टीम को अपर पुलिस महानिदेशक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) अशोक कुमार ने पांच हजार इनाम देने की घोषणा की है। इसके अलावा एसटीएफ की एसएसपी रिधिम अग्रवाल ने भी टीम को ढाई हजार का इनाम देने की घोषणा की है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00