विज्ञापन
विज्ञापन

टेंडर दिलाने के नाम पर उद्यमी से 12 लाख की रकम हड़पी

Dehradun Bureauदेहरादून ब्यूरो Updated Sat, 18 May 2019 12:12 AM IST
ख़बर सुनें
ब्यूरो/अमर उजाला, हरिद्वार
विज्ञापन
विज्ञापन
खेल एवं पर्यटन विभाग में ठेका दिलवाने के नाम पर एक उद्यमी से 12 लाख की रकम ठग लेने का मामला सामने आया है। पीड़ित उद्यमी ने आरोपी दंपति और खुद को सचिवालय में तैनात अफसर बता रहे जालसाज के खिलाफ कोतवाली रानीपुर में मुकदमा दर्ज कराया है।
बहादराबाद औद्योगिक क्षेत्र में संजीव पांधी पुत्र वीके पांधी की प्रणव ऑटो टेक के नाम से कंपनी है। उद्यमी ने पुलिस को दी गई तहरीर में बताया कि शिवालिक नगर में वह लीलावती अस्पताल में बने प्रकाश मेडिकोज पर दवा लेने जाता था। आरोप है कि उसकी जान पहचान मेडिकल स्टोर स्वामी माणिक टंडन से हो गई। इसी बीच मेडिकल स्टोर स्वामी ने उसे कहा कि जौलीग्रांट एयरपोर्ट के विस्तारीकरण कार्य के दौरान प्लाईवुड की आवश्यकता है। यदि उसका कोई परिचित प्वाईवुड का कार्य करता है तो उसे टेंडर मिल जाएगा। उद्यमी ने अपने रिश्तेदार संजीव अरोड़ा निवासी मुरादाबाद यूपी को यहां बुला लिया। आरोप है कि माणिक टंडन ने अपने मेडिकल स्टोर पर उनकी मुलाकात सौरभ वत्स के नाम से युवक से कराई। युवक ने अपना परिचय चीफ फंगशनरी अधिकारी पर्यटन विभाग के तौर पर देत हुए अपना आईडी कार्ड भी दिखाया। भरोसा होने पर माणिक टंडन, सौरभ वत्स ने उनकी अलग फर्म भी रजिस्टर्ड कराई और रजिस्ट्रेशन फीस के नाम पर भी रकम ली गई।
आरोप है कि देहरादून के विधायक हॉस्टल के कमरा संख्या 49 में उससे एक फार्म भी भरवाया गया, यह प्रक्रिया दो बार हुई। आरोप है कि इस दौरान समय समय पर उससे कुल 12 लाख की रकम ले ली गई और रकम लेने के दौरान माणिक टंडन की पत्नी रोशनी टंडन भी मेडिकल स्टोर पर मौजूद रही। आरोप है कि वर्ष 2018 के गुजरने के बाद भी जब उसे टेंडर नहीं मिला तब पड़ताल करने पर पता चला कि विभाग ने ऐसा कोई टेंडर निकाला ही नहीं था। कोतवाली प्रभारी शंकर सिंह बिष्ट ने बताया कि इस संबंध में प्रभावी धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
सौरभ को हाल ही में भेजा जेल
खुद को सचिवालय में तैनात अधिकारी बताने वाले शातिर सौरभ वत्स को कुछ दिन पूर्व ही ज्वालापुर पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है। उसके खिलाफ एक उद्यमी सागर मनचंदा ने इसी तरह की धोखाधड़ी कर 47 लाख की रकम ठग लेने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया था। उद्यमी को भी टेंडर दिलाने का झांसा दिया गया था। उस मुकदमे में भी पुलिस को मेडिकल स्टोर स्वामी एवं मुख्य आरोपी सौरभ की पत्नी की तलाश है।
सचिवालय तक जाएंगी जांच
पुलिस की जांच की आंच सचिवालय तक जाना तय है। सूत्रों की मानें तो मुख्य आरोपी सौरभ ने सचिवालय में एक बड़े अधिकारी के ठीक सामने बने उसके अधीनस्थ के कार्यालय में उद्यमियों से मुलाकात कर विभागीय अधिकारी होने का विश्वास दिलाया था। चर्चा है कि सचिवालय के बड़े अफसर के अधीनस्थ से सौरभ के करीबी रिश्ते हैं और उसी के चलते ही वह उसकी कुर्सी पर खुद बैठा था। यह भी कहा जा रहा है कि अधिकारी के अधीनस्थ को भी पूरे मामले की भली भांति जानकारी थी।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
ज्योतिष समाधान

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

छात्रवृत्ति घोटाला: एसआईटी ने उठाया बड़ा कदम, पांच लोगों को हरिद्वार से किया गिरफ्तार

छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही पुलिस की एसआईटी ने इस मामले में एक और बड़ा कदम उठाया है।

19 मई 2019

विज्ञापन

दिल्ली में फिर गैंगवार, दो बदमाश मारे गए, वारदात के वक्त पुलिस ने की ये बड़ी कार्रवाई

देश की राजधानी दिल्ली की सड़क पर ताबड़तोड़ गोलियां चलीं। दो अपराधी गैंग आपस में भिड़ गए। इस रिपोर्ट में जानिए सरेआम हुई इस वारदात में आखिर क्या हुआ।

20 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election