फागुन माह: महके मन खिले मन, जानिए फागुन माह का महत्व

बादरायण देवल Updated Fri, 09 Feb 2018 11:19 AM IST
know importance of february month
ख़बर सुनें
पंचांग के बारह महीनों में पहला महीना चैत्र का होता है, तो आखिरी माह फागुन का। फागुन को ऊर्जा और यौवन का माह भी माना जाता है। इस वर्ष फागुन माह फरवरी की पहली तारीख से शुरू होकर मार्च की पहली तारीख तक कुल 29 दिन रहेगा। यह वसंत का समय होता है। प्रकृति की विविध छटाओं से अलसाए माहौल में नई ऊर्जा का संचार हो उठता है। प्रकृति पूरी ऊर्जा, उत्साह से महक उठती है, तो लोगों में भी एक नई ऊर्जा और मस्ती का संचार होता है। 
कुदरत के नजरिए से फागुन मास जितना महत्वपूर्ण है, उतना ही यह माह धार्मिक दृष्टि से भी महत्‍वपूर्ण है। इस माह कई त्योहार पड़ रहे हैं, जैसे फागुन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को जानकी जयंती और सीता अष्टमी। फागुन कृष्ण पक्ष एकादशी को विजया एकादशी के नाम से जाना जाता है। तीन दिन बाद चतुर्दशी को भोलेनाथ की आराधना का पर्व महाशिवरात्रि मनाया जाता है। 

धार्मिक दृष्टि से अमावस का भी बहुत महत्व है। दान पुण्य तर्पण आदि के लिहाज से अमावस्या खास फलदायी मानी गई है। फागुन शुक्ल एकादशी को आमलकी एकादशी कहा जाता है। सुख समृद्धि व मोक्ष की कामना हेतु, इस दिन उपवास किया जाता है और विष्णु की पूजा की जाती है। रात को जागरण करते हुए द्वादशी के दिन व्रत का पारण किया जाता है। फागुन के अंतिम दिन पूर्णिमा या मास पूरा होने की द्योतक तिथि को होलिका पूजन और दहन के बाद अगले दिन रंग खेलने का रिवाज जगजाहिर है।
 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all spirituality news in Hindi related to religion, festivals, yoga, wellness etc. Stay updated with us for all breaking news from fashion and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Religion

सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करते ही शुरू हो जाएगा नौतपा, पड़ेगी भीषण गर्मी

नौतपा साल के वह 9 दिन होता है जब सूर्य पृथ्वी के सबसे नजदीक रहता है जिस कारण से इन 9 दिनों में भीषण गर्मी पड़ती है

22 मई 2018

Related Videos

विश्व में भारत का नाम करने वाला ये खिलाड़ी रह रहा भूखा

रकार खेल को लगातार बढ़ावा दे रही है। खिलाड़ियों को सम्मानित भी करती है, लेकिन शायद यह सम्मान कुछ ही खिलाड़ियों को मिल पाता है। तभी तो वुशु में नौ बार स्टेट और सात बार राष्ट्रीय चैंपियन बनने के बाद एक खिलाडी भूखे मरने की कगार पर है।

22 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen