Hindi News ›   Spirituality ›   Religion ›   Anant Chaturdashi 2021 know the date time shubh muhurat and vidhi of Ganesh Visarjan keep these things in mind during Ganpati Visarjan

Ganpati visarjan 2021: इस मुहूर्त में करें बप्पा को विदा, विसर्जन करते समय इन बातों का रखें ध्यान

धर्म डेस्क, अमर उजाला Published by: शशि सिंह Updated Sun, 19 Sep 2021 12:57 PM IST
गणपति विसर्जन
गणपति विसर्जन - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

Ganesh Visarjan 2021 Shubh Muhurat of Ganpati Visarjan Significance Puja Vidhi: इस समय हर जगह गणेश उत्सव मनाया जा रहा है। घर-घर बप्पा विराजे हुए हैं। दस दिनों तक चलने वाले गणेश उत्सव में प्रतिदिन विधि-विधान से बप्पा की पूजा-अर्चना की जाती है। इसके बाद अनंत चतुर्दशी के दिन बप्पा का विसर्जन कर दिया जाता है और बप्पा को अगले वर्ष आने की प्रार्थना की जाती है। कुछ लोग अपनी कामना अनुसार सातवें या नवें दिन भी विसर्जन कर देते हैं लेकिन बप्पा का विसर्जन गणेश उत्सव के पूर्ण होने पर ही करना चाहिए। जिस तरह से पूरे गणेश उत्सव के दौरान विधि पूर्वक पूजा अर्चना की जाती है उसी तरह से गणपति बप्पा का विसर्जन भी पूरे विधि-विधान से करना आवश्यक होता है। गणपति विसर्जन शुभ मुहूर्त में ही करना चाहिए और कुछ बातों को ध्यान में अवश्य रखना चाहिए। इस बार अनंत चतुर्दशी 19 सितंबर दिन रविवार को पड़ रही है, इसलिए इसी दिन गणेश विसर्जन किया जाएगा। तो आइए जानते हैं गणेश विसर्जन का शुभ मुहुर्त और ध्यान रखने योग्य बातें...

विज्ञापन

गणेश विसर्जन
गणेश विसर्जन - फोटो : Istock
गणेश विसर्जन शुभ मुहूर्त-
चतुर्दशी तिथि आरंभ- 19 सितंबर 2021 दिन रविवार प्रातः 05 बजकर 59 मिनट से
चतुर्दशी तिथि समाप्त- 20 सितंबर 2021 दिन सोमवार प्रातः 05 बजकर 28 मिनट पर
प्रातः काल विसर्जन मुहूर्त- 07 बजकर 40 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 15 मिनट तक
दोपहर विसर्जन मुहूर्त- 01 बजकर 46 मिनट से लेकर शाम को 03 बजकर 18 मिनट तक
संध्या काल विसर्जन मुहूर्त- शाम को 06 बजकर 21 मिनट से लेकर रात 10 बजकर 46 मिनट तक

गणेश विसर्जन
गणेश विसर्जन - फोटो : Istock

गणेश विसर्जन
गणेश विसर्जन - फोटो : Istock
गणेश विसर्जन करते समय इन बातों का रखें ध्यान-
गणेश विसर्जन करने से पहले क्षमा प्रार्थना अवश्य करनी चाहिए।
कई बार लोग ऐसे ही दूर से प्रतिमा को पानी में डाल देते हैं लेकिन यह गलती नहीं करनी चाहिए।
गणपति जी को आराम से पूरे सम्मान के साथ विसर्जित करना चाहिए। इसके साथ ही समस्त समाग्री को भी सम्मान के साथ प्रवाहित करें।
अपने द्वारा की गई गलतियों की क्षमा के साथ मंगल करने की प्रार्थना करनी चाहिए। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00