लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Himachal Pradesh ›   Railway bridge built on Chakki Khad declared unsafe, thousands of passengers will no longer be able to travel

Kangra: चक्की खड्ड पर बना रेलवे पुल असुरक्षित घोषित, हजारों यात्री नहीं कर पाएंगे सस्ती रेल सेवा का सफर

संवाद न्यूज एजेंसी, जसूर(कांगड़ा) Published by: Krishan Singh Updated Fri, 05 Aug 2022 08:07 PM IST
सार

रेलवे मंडल फिरोजपुर (पंजाब) की तकनीकी टीम ने चक्की पुल के जर्जर पिलर और सुरक्षा दीवार का निरीक्षण करने के बाद नैरो गेज ट्रैक पर ट्रेन सेवा को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की सिफारिश की और पुल के पुनर्निर्माण का भी सुझाव दिया। टीम ने पुल की पटरी को लोहे के तार की बाड़ से बंद कर लोगों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी है।

चक्की खड्ड पर बना रेलवे पुल असुरक्षित घोषित
चक्की खड्ड पर बना रेलवे पुल असुरक्षित घोषित - फोटो : संवाद
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा और मंडी के हजारों यात्री अब पठानकोट-जोगिंद्रनगर नैरो गेज पर किफायती रेल परिवहन सेवा से वंचित हो जाएंगे। रेलवे अधिकारियों ने नूरपुर में कंडवाल के पास चक्की रेलवे पुल को असुरक्षित और ट्रेनों के चलने के लिए अनुपयुक्त घोषित करने के बाद अनिश्चितकाल के लिए ट्रेन सेवा निलंबित कर दी है। रेलवे मंडल फिरोजपुर (पंजाब) की तकनीकी टीम ने चक्की पुल के जर्जर पिलर और सुरक्षा दीवार का निरीक्षण करने के बाद नैरो गेज ट्रैक पर ट्रेन सेवा को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की सिफारिश की और पुल के पुनर्निर्माण का भी सुझाव दिया। टीम ने पुल की पटरी को लोहे के तार की बाड़ से बंद कर लोगों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी है। अमर उजाला ने भी चक्की रेलवे पुल के पास अवैध खनन के संदर्भ में खबर छापी थी।



गौरतलब है कि रेलवे विभाग ने पहली जुलाई को मानसून की बारिश और रेलवे ट्रैक पर भूस्खलन के खतरे को देखते हुए तीन रात की अप और डाउन ट्रेनों को शुरू में निलंबित कर दिया था। 17 जुलाई को चक्की रेलवे पुल की जर्जर स्थिति के कारण शेष सभी चार अप और डाउन डे टाइम ट्रेनों को निलंबित कर दिया गया था। पिछले तीन दशकों से अधिक समय से इस पुल के पास बेरोकटोक अवैध खनन के कारण पुल के सहायक स्तंभ और सुरक्षा दीवार कमजोर हो गई थी। रेलवे विभाग ने पिछले एक दशक में कई बार क्षतिग्रस्त खंभों और सुरक्षा दीवार की मरम्मत के लिए लाखों रुपये खर्च किए, लेकिन नब्बे साल से अधिक पुराने इस पुल को फिर से बनाने की कोई योजना तैयार करने में विफल रहा। अब नैरोगेज रेलवे ट्रैक के अचानक बंद होने से कांगड़ा जिले में हजारों दैनिक रेल यात्री मुश्किल में पड़ गए हैं।


मानसून के बाद स्थिति की फिर की जाएगी जांच
चक्की खड्ड में अचानक आई बाढ़ ने पुल के घाटों को क्षतिग्रस्त कर दिया था। इस पर ट्रेनों को चलाना असुरक्षित हो गया था। इस पुराने पुल की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए रेल परिवहन को निलंबित कर दिया गया था। मानसून के बाद इसकी स्थिति की फिर से जांच की जाएगी। -सीमा शर्मा, मंडल रेल प्रबंधक फिरोजपुर

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00