खूब चली सियासी नूराकुश्ती, आरोपों की लगी झड़ी, आज यूं मिले पायलट और गहलोत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर Published by: गौरव पाण्डेय Updated Thu, 13 Aug 2020 07:11 PM IST

सार

  • विधायक दल की बैठक से पहले सीएम गहलोत के आवास पर पहुंचे पायलट
  • दोनों नेताओं ने मिलाए हाथ, दिए विवाद और मतभेद समाप्त होने के संकेत
  • गहलोत ने कहा, हमें मतभेद भुलाने और माफ करने की नीति पर चलना है
  • भाजपा ने लिया है कल विधानसभा सत्र में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला
कांग्रेस के विधायक दल की बैठक से पहले मिले मुख्यमंत्री गहलोत और सचिन पायलट
कांग्रेस के विधायक दल की बैठक से पहले मिले मुख्यमंत्री गहलोत और सचिन पायलट - फोटो : एएनआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अभी तक बागी तेवर अपनाए और राजस्थान में कांग्रेस की सरकार के लिए संकट बने सचिन पायलट की पार्टी में वापसी के साथ उनके और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ विवादों का पटाक्षेप होता दिख रहा है। करीब एक महीने चले इस संकट के दौरान दोनों नेताओं के बीच गंभीर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला था, लेकिन आज कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले दोनों नेता हाथ मिलाते हुए दिखाई दिए। बता दें कि शुक्रवार को राजस्थान विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है। 
विज्ञापन






कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने बीते दिनों सचिन पायलट से मुलाकात की थी और पार्टी में उनकी वापसी सुनिश्चित की थी। इस दौरान कांग्रेस आलाकमान ने पायलट की ओर से उठाए गए मुद्दों के निपटारे के लिए तीन सदस्यीय समिति गठित करने का एलान किया था, जिसका पायलट और गहलोत दोनों ने स्वागत किया था। अब सत्र से एक दिन पहले दोनों की 'खुशनुमा' मुलाकात को देख कर पार्टी का शीर्ष नेतृत्व भी संतुष्ट होगा।

जब गहलोत ने पायलट को कहा था नाकारा और निकम्मा

बता दें कि जब पायलट और गहलोत के बीच विवाद चरम पर था तब गहलोत ने भाषायी मर्यादाओं को तार-तार करते हुए पायलट पर कई आरोप लगाए थे। यहां तक कि वह पायलट को नाकारा और निकम्मा तक कह गए थे। गहलोत ने कहा था, हमने कभी सचिन पायलट पर सवाल नहीं उठाया, लेकिन पायलट ने ही कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंपा। किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक भोले चेहरे के पीछे ऐसा साजिश करने वाला होगा।

गहलोत ने कहा था, 'हम जानते थे कि वो निकम्मा है, नाकारा है और कुछ काम नहीं कर रहा है। खाली लोगों को लड़वा रहा है। लेकिन मैं यहां बैंगन बेचने नहीं आया हूं, मुख्यमंत्री बनकर आया हूं।' गहलोत ने पायलट पर भाजपा से मिले होने का आरोप भी लगाया था। बता दें कि दोनों के बीच विवाद और पायलट के बागी तेवरों को देखते हुए पार्टी ने सचिन पायलट को प्रदेश के उप मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया था।

सीएम गहलोत ने कही भूल जाने और माफ करने की बात

पायलट के खिलाफ अब तक आक्रामक तेवर अपनाए मुख्यमंत्री गहलोत के सुर भी अब बदल गए हैं। उन्होंने कहा कि हमें भूल जाओ और माफ करो की भावना के साथ लोकतंत्र की लड़ाई में जुटना होगा। उन्होंने कहा, ' पिछले एक माह में पार्टी में आपस में जो भी मतभेद हुआ है, उसे देश के हित में, प्रदेश के हित में, प्रदेशवासियों के हित में और लोकतंत्र के हित में हमें भुलाना होगा और माफ करके आगे बढ़ने की भावना के साथ लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई में लगना होगा।'

गहलोत ने कहा, 'कांग्रेस की लड़ाई तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में लोकतंत्र को बचाने की है। लोकतंत्र की रक्षा करना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। देश में चुनी हुई सरकारों को एक-एक करके तोड़ने की जो साजिश चल रही है, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश आदि राज्यों में सरकारें जिस तरह गिराई जा रही हैं, ईडी, सीबीआई, आयकर, न्यायपालिका का जो दुरुपयोग हो रहा है, वह लोकतंत्र को कमजोर करने का बहुत खतरनाक खेल है।'

भाजपा लाएगी गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

इससे पहले जयपुर में आज भारतीय जनता पार्टी की विधायक दल की बैठक आयोजित हुई। इसमें पार्टी ने गहलोत सरकार के खिलाफ विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया। बैठक के बाद नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कहा कि विधानसभा के शुक्रवार से शुरू हो रहे सत्र में अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा। उन्होंने कहा, 'हम अपनी तरफ से अविश्वास प्रस्ताव लेकर आ रहे हैं। हमने अपने प्रस्ताव में वो सभी बिंदु शामिल किए हैं, जो आज राज्य में ज्वलंत हैं।'

पायलट की पार्टी में वापसी और विवादों की समाप्ति को लेकर उन्होंने कहा, 'अब भी पैचिंग की कोशिश की है। लेकिन एक पूरब जा रहा है तो एक पश्चिम जा रहा है। ऐसी गति में मुझे लगता है कि सरकार ज्यादा दिन तक जी नहीं सकेगी। भले ही इसका टांका लगाने की कोशिश की है लेकिन कपड़ा फट चुका है। आज नहीं तो कल कपड़ा फटेगा।' वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि विधायक दल की बैठक में भाजपा व घटक दल के 75 में से 74 विधायक मौजूद थे।

पायलट की वापसी का असर, दो विधायकों का निलंबन रद्द

कांग्रेस ने गहलोत सरकार के खिलाफ बगावत करने वाले विधायकों विश्वेंद्र सिंह और भंवर लाल शर्मा का निलंबन बृहस्पतिवार को रद्द कर दिया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा,'कांग्रेस के संगठन महासचिव और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे ने विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र  सिंह के पार्टी से निलंबन को वापस ले लिया है।' इससे पहले पांडे ने ट्वीट कर बताया था कि व्यापक विचार विमर्श के बाद दोनों विधायकों का निलंबन रद्द किया गया है।

उल्लेखनीय है कि राज्य में राजनीतिक संकट के दौरान कांग्रेस ने 17 जुलाई को विधायक विश्वेंद्र सिंह और भंवर लाल शर्मा की प्राथमिक सदस्यता निलंबित कर दी थी। पार्टी ने इन दोनों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया था। कांग्रेस ने इससे पहले 14 जुलाई को सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह व रमेश मीणा को उनके मंत्री पद से हटाने की घोषणा की थी। इन दोनों नेताओं का निलंबन रद्द करने की घोषणा यहां कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू होने से ठीक पहले की गई।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00