विज्ञापन

होली 2018: ठंडाई का मतलब भांग नहीं, कई रोगों से पल में छुटकारा दिलाती है

पुष्पेश पंत Updated Tue, 20 Feb 2018 09:44 AM IST
thandai
thandai
ख़बर सुनें
अक्सर लोग ठंडाई को भांग से जोड़कर देखते हैं। मगर वास्तव में ठंडाई का मतलब शीतल पेय से है। ऐसा पारंपरिक पेय, जो गर्मी से झुलसते शरीर को शीतलता प्रदान करता है, यह प्यास ही नहीं बुझाता मन को भी आह्लादित करता है। 
विज्ञापन
रा याद करें वह गाना ‘जय जय शिव शंकर! कांटा लगे ना कंकड़, कि प्याला तेरे नाम का पिया!’ सुनते ही आंखों के आगेे पीतल के लोटे को एक घूंट में गटककर भंग की तरंग में बहकने वाले बनारसी का एक चित्र उभरने लगता है। यह ‘खइके पान बनारस वाला’ छोरा नहीं, उम्रदराज पंडित जी भी हो सकते हैं। कद्दावर पहलवान भी हो सकते हैं। मैथिली के कालजयी लेखक खट्टर काका की कहानियों में ठंडाई की उपस्थिति एक सजीव पात्र जैसी रहती है। बुरा हो 1960 वाले दशक के हिप्पियों का, जिन्होंने इसकी चुस्की लेते ही, इसे ‘आमंड-ग्रास ड्रिंक’ का नाम दे दिया और फिरंगियों के साथ ही हिंदुस्तानियों की निगाह में यह नशीली चीज बन गई। वहीं, रही सही कसर पूरी कर दी चालू फिल्मी गानों ने।

ठंडाई का नाम जुड़ा है, भोलेनाथ शंकर, बनारस की नगरी और होली के त्योहार के साथ। इस रिश्तेदारी ने भी इस गलतफहमी को बढ़ावा दिया कि बिना बूटी यानी भांग के ठंडाई घोटी-छानी नहीं जा सकती है। यह सच है कि कई शौकीन बिना हल्के सुरूर के प्याले ही रह जाते हैं, पर अधिकांश बादाम की गिरी और औंटा कर गाढ़े गए दूध से सुवासित इस दिव्य शरबत का सेवन सात्विक अवतार में कर ही तृप्त हो जाते हैं।

वास्तव में, ठंडाई पारंपरिक शीतल पेय है, जो गर्मी से झुलसते शरीर को दाह, ताप-संताप से मुक्ति दिलाता है। प्यास ही नहीं बुझाता मन को भी आह्लादित करता है। दूसरे देसी शरबतों से यह अलग इसलिए है, क्योंकि यह पौष्टिक भी है। वहीं, होली में मौसम बदलने की सार्वजनिक घोषणा करता है ठंडाई।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all update about cricket news, Entertainment news , fitness news, bollywood news in hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Food

बचे चावलों से बनाएं टेस्टी रसमलाई, स्वाद ऐसा कि लोग भी पूछेंगे रेसिपी

rasmalai with leftover rice: उबले हुए चावल बच गए हैं तो इनसे बना सकते हैं टेस्टी रसमलाई। जानें कैसे।

13 दिसंबर 2018

विज्ञापन

Saas bahu or kitchen: सास-बहू और किचन में सीखिए वेज बिरयानी बनाने की रेसिपी

Saas bahu or kitchen: सास-बहू और किचन में सीखिए वेज बिरयानी बनाने की रेसिपी

10 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree