विज्ञापन

अधिकारियों ने नहीं की मदद, ग्रामीणों के जज्बे से ऐसे बचा 700 साल पुराना मंदिर

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोटा Updated Tue, 01 May 2018 02:51 PM IST
without the help of government, villagers of cota's jolpa village saved 700 old temple
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कोटा शहर से 70 किमो दूर जोलपा गांव में एक छोटा सा 700 साल पुराना मंदिर है। देख रेख के अभाव में इस मंदिर की हालत काफी खराब हो गई थी। सांगोद-खानपुर मार्ग पर स्थित इस मंदिर को बेहतर बनाने के लिए गांव वालों ने जनप्रतिनियों से लेकर अधिकारियों तक के चक्कर लगाए। लेकिन फिर भी उनकी तरफ से कभी कोई जवाब नहीं आया।
विज्ञापन
ऐसे में गांव वाले मंदिर को कैसे भी करके बचाना चाहते थे। लक्ष्मीनाथ भगवान का यह मंदिर गांव वालों की भावनाओं से जुड़ा है। सभी गांव वालों ने हिम्मत ना हारते हुए सरकारी मदद के बिना ही मंदिर को बचाने की ठान ली। गांव वालों ने इसके लिए एक रास्ता निकाला। उन्होंने पूरे गांव से करीब 11 लाख रुपये का चंदा एकत्रित किया। गांव के अधिकतर किसान सामान्य वर्ग के हैं। ग्रामीणों के ऐसे जज्बे से गैर सरकारी संगठन के ठाकुर रणवीर सिंह इतने खुश हुए कि उन्होंने अपनी तरफ से मंदिर के विकास के लिए 24 लाख रुपये दे दिए।

तीन सालों की कड़ी मेहनत के बाद मंदिर पहले जैसा दिखने लगा। लक्ष्मीनाथ मंदिर ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष निशांत भारद्वाज का कहना है कि मंदिर को बचाने के लिए जनप्रतिनिधियों से कई बार मदद की गुहार लगाई गई थी लेकिन किसी ने भी एक ना सुनी। इसके बाद गांव के लोगों ने ही अपनी हैसियत के मुताबिक चंदा एकत्रित किया। किसी ने अपनी फसल बेचकर पैसे जमा किए तो किसी ने अपनी बचत के पैसे दिए। सबके सफल प्रयासों से मंदिर अपने पुराने स्वरूप में वापस आ गया।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News

एफआईआर ने रोकी राकेश अस्थाना के ईडी निदेशक बनने की राह

सीबीआई में शीर्ष स्तर पर जारी घमासान के चलते सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ उनके ही महकमें द्वारा की गई एफआईआर की वजह से अस्थाना प्रवर्तन निदेशालय का निदेशक बनते बनते रह गए।

22 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

अमृतसर रेल हादसा: सिद्धू ने कहा- लाश पर राजनीति कर रही है बीजेपी

अमृतसर रेल हादसे पर पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बयान दिया है। सिद्धू ने हादसे के लिए रेलवे को जिम्मेदार बताया है। सुनिए सिद्धू ने क्या कहा।

23 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree