विज्ञापन
विज्ञापन

शीला दीक्षित के कंधे पर एक बार दिल्ली में कांग्रेस को उबारने का बोझ

शशिधर पाठक, नई दिल्ली Updated Thu, 10 Jan 2019 10:08 PM IST
Sheela Dixit Delhi Congress
Sheela Dixit Delhi Congress - फोटो : PTI
ख़बर सुनें
80 साल की अनुभवी दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री, केरल की पूर्व राज्यपाल शीला दीक्षित के कंधे पर एक बार राजधानी में कांग्रेस को उबारने का बोझ है। शीला दीक्षित के समय के विकास को दिल्ली वासी आज भी नहीं भूल पा रहे हैं। शीला दीक्षित के नेतृत्व में ही कांग्रेस ने 1998 में भाजपा को धूल चटाया था।
विज्ञापन
2013 तक वह दिल्ली की एक छत्र मुख्यमंत्री बनी रही और 2013 में शीला दीक्षित की सरकार को आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल ने चुनौती दी थी। दिलचस्प है कि वहीं अरविंद केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं और कांग्रेस ने एक बार फिर शीला दीक्षित के कंधे पर पार्टी को ऊबारने का बोझ सौंप दिया है।

शीला दीक्षित की कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं, नेताओं पर गहरी पकड़ है। दिल्ली में करारी हार के बाद कांग्रेस ने अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी अरविंदर सिंह लवली को सौंप दी थी। इस हार के बाद दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष जय प्रकाश अग्रवाल ने नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया था।

लवली के बाद प्रदेश कांग्रेस की जिम्मेदारी पार्टी के युवा नेता, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अजय माकन को सौंप दी गई, लेकिन 2013 से आज तक दिल्ली प्रदेश कांग्रेस का बूथ से लेकर राज्य स्तर तक जोरदार संगठन खड़ा नहीं हो सका। शीला भी जिला से लेकर राज्य स्तर का संगठन गठित किए जाने पर जोर देती रही। समझा जा रहा है कि इसी को ध्यान में रखकर कांग्रेस पार्टी ने एक बार फिर शीला दीक्षित के कंधे पर यह भार दिया है।

सबको साधकर चलती हैं

राजनीति के कौशल में शीला दीक्षित का जवाब नहीं है। जब वह दिल्ली सरकार में मुख्यमंत्री बनी थी, तो आंतरिक और वाह्य चुनौती चरम पर थी। भाजपा के मदन लाल खुराना, साहिब सिंह वर्मा जैसे कद्दावर चेहरे थे। शीला दीक्षित को यह कुर्सी भाजपा की सुषमा स्वराज जैसी फायर ब्रांड नेता से मिली थी।  वहीं कांग्रेस के भीतर चौ. प्रेम सिंह जैसा कद्दावर व्यक्तित्व था। शीला दीक्षित पूर्व केन्द्रीय मंत्री उमाशंकर दीक्षित की बहू और प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे विनोद दीक्षित की पत्नी हैं।

उ.प्र. के कानपुर क्षेत्र से आने वाले उमाशंकर दीक्षित के परिवार से होने के नाते शीला जहां बाहरी थी, वहीं 31 मार्च 1938 को पैदा हुई शीला दीक्षित की शिक्षा दिल्ली के कान्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी, मिरांडा हाऊस से की है। इस लिहाज से वह दिल्ली के लोगों के बीच दिल्ली की होकर अपना प्रभाव जमाने में सफल रही। 

शीला की खासियत है कि उनके विरोधी को भी उनके सामने आने में परेशानी नहीं होती। यह बात अलग है कि शीला राजनीतिक विरोधियों को कभी अपने पैर पर खड़ा होने का ठीक से अवसर भी नहीं देती। शीला दीक्षित के राजनीति की अपनी एक अलग शैली है। उनकी राजनीति का अपना एक मॉडल है। 

शीला की राजनीति

शीला दीक्षित की राजनीति में शुरू से दिलचस्पी थी। 1970 में यंग वोमन्स ेसोसियेशन की अध्यक्ष रहने के दौरान भी उन्होंने काफी किए ते। इंदिरा गांधी स्मारक ट्रस्ट की सचिव के तौर पर उनके काम की सराहना होती है। 1980 के दशक में शीला दीक्षित को केन्द्रीय मंत्रिमंडल में स्थान मिल गया था। 1984 में शीला ने उ.प्र. की कन्नौज लोकसभा सीट से चुनाव लड़कर जीता था। राजीव गांधी मंत्रिमंडल में वह 1986-89 तक संसदीय कार्य राज्यमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री थी।

1990 में शीला दीक्षित ने उ.प्र. में महिलाओं के विरुद्ध अत्याचार को लेकर आंदोलन छेड़ दिया था। 82 साथियों के साथ 23 दिन तक उन्होंने जेल यात्रा की थी। 1998 में कांग्रेस पार्टी ने उन्हें अहम जिम्मेदारी देकर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया। शीला ने इस चुनौती को स्वीकार किया और भाजपा सरकार को चुनाव में सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया। 2008 के चुनाव में उनके नेतृत्व में पार्टी 43 सीट जीतकर सत्ता में बनी रही। शीला दीक्षित तीसरी बार मुख्यमंत्री बनी रही।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

अयोध्या मामला: सीजेआई गोगोई बोले- कल है सुनवाई की आखिरी तारीख‏

उच्चतम न्यायालय में इस समय राम जन्मभूमि और बबीर मस्जिद विवाद की नियमित सुनवाई हो रही है। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली संवैधानिक पीठ इसकी सुनवाई कर रही है।

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाल सकता है FATF, नहीं मिला किसी भी देश का साथ

पाकिस्तान को तगड़ा झटका लगा है। दरअसल एफएटीएफ की बैठक में पाकिस्तान अलग-थलग पड़ गया है। संभावना ये भी है कि पाकिस्तान को डार्क ग्रे लिस्ट में रखा जा सकता है।

15 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree