पीएम मोदी बोले- आत्मनिर्भर भारत से शोनार बांग्ला का संकल्प करना है पूरा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोलकाता Updated Thu, 22 Oct 2020 02:12 PM IST
विज्ञापन
प्रधानमंंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंंत्री नरेंद्र मोदी - फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दुर्गा पूजा पंडाल का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री के शुभेच्छा संदेश का लाइव प्रसारण राज्य की सभी 294 विधानसभा क्षेत्रों के 78,000 पोलिंग बूथ पर सुना और देखा गया। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने देशवासियों को दुर्गा पूजा की बधाई दी। उन्होंने देशवासियों को कोरोना को लेकर एहतियात बरतने की भी सलाह दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत से शोनार बांग्ला का संकल्प पूरा करना है। उन्होंने कहा कि हमें सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ना है। प्रधानमंत्री ने लोगों से कहा कि मेरा आपसे आग्रह है कि मां दुर्गा की पूजा के साथ दो गज की दूरी, मास्क पहनने सहित सभी नियमों का पालन करें।
विज्ञापन

यहां पढ़ें पीएम मोदी के संबोधन की बड़ी बातें-
  • हमारे शास्त्रों में कहा गया है- या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता। अर्थात, हर जन में मां दुर्गा ही शक्ति रूप से स्थित हैं। हमें इसी भाव से पूरी ताकत से काम करना है। जन-जन तक पहुंचना है।
  • आत्मनिर्भर भारत से शोनार बांग्ला का संकल्प पूरा करना है। बंगाल के तेज विकास के लिए निरंतर काम किया जा रहा है। शांति के साथ हमें भाईचारे को आगे बढ़ाना है और देश की एकता के लिए काम करना है।
  • हमारी भावना है की- या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता। यानि की, मां दुर्गा ही सभी के साथ लक्ष्मी रूप में रहती हैं। इसलिए हमें सबके सुख के लिए, सबके विकास के लिए काम करना है। हमें सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ना है।
  • भाजपा की केंद्र सरकार ने पूर्वोदय का मंत्र अपनाया है, पूर्वी भारत के विकास के लिए निरंतर फैसले लिए हैं। पूर्वोदय के इस मिशन में पश्चिम बंगाल को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। मुझे भरोसा है कि पूर्वोदय का केंद्र बनकर पश्चिम बंगाल जल्द ही एक नई दिशा की तरफ बढ़ेगा।
  • बंगाल के इनफ्रास्ट्रक्चर के लिए, कनेक्टिविटी सुधारने के लिए भी लगातार काम हो रहा है। कोलकाता में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर परियोजना के लिए भी साढ़े 8 हजार करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं।
  • प्रधानमंत्री जनधन योजना के जरिए बंगाल के लगभग चार करोड़ गरीबों के बैंक खाते खोले गए हैं। इतना ही नहीं, जल जीवन मिशन योजना के जरिए बंगाल के लगभग 4 लाख घरों में पाइप से साफ पानी पहुंचाने का काम हुआ।
  • बंगाल के तेज विकास के लिए, बंगाल के लोगों को मूलभूत सुविधाएं पहुंचाने के लिए निरंतर काम हो रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बंगाल में करीब-करीब 30 लाख गरीबों के लिए घर बनाए जा चुके हैं। उज्जवला योजना के तहत करीब 90 लाख गरीब महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए गए हैं।
  • 21वीं सदी में आत्मनिर्भर भारत का ये नया संकल्प भी बंगाल की धरती से ही मजबूत होगा। बंगाल के गौरव, यहां के उद्योग को, यहां की समृद्धि और संपन्नता को नई ऊंचाई पर पहुंचाना है।
  • मां दुर्गा का ये आशीर्वाद तभी पूरा होगा जब हमारा किसान आत्मनिर्भर बने, हमारा श्रमिक आत्मनिर्भर बने, हमारा देश आत्मनिर्भर बने। आत्मनिर्भर भारत के इसी संकल्प से हमें सोनार बांग्ला के संकल्प को पूरा करना है।
  • मैं भोलेनाथ की नगरी काशी का सांसद हूं। काशी में मां दुर्गा, माता अन्नपूर्णा के रूप विराजमान हैं। मां के रूप में दुर्गा जी को हमेशा से चिंता रहती है कि उनकी कोई संतान भूखी न रहे, कोई गरीब न रहे।
  • नेपाल और बांग्लादेश के साथ संचार और संपर्क बढ़ाने के लिए काम चल रहा है और इसकी सुविधा के लिए कई सड़क और राजमार्ग परियोजनाएं चल रही हैं। हमारे गांवों के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग, जलमार्ग से ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी तक, हम आम बंगाली के जीवन से समस्याओं को कम करने की कोशिश कर रहे हैं।
  • ये बंगाल की ही धरती थी जिसने आजादी के आंदोलन में स्वदेशी को एक संकल्प बनाने का काम किया था। बंगाल की ही धरती से गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर और बंकिम चंद्र चटर्जी ने आत्मनिर्भर किसान और आत्मनिर्भर जीवन का संदेश दिया था।
  • दुष्कर्म की सजा से जुड़े कानूनों को बहुत सख्त किया गया है, दुराचार करने वालों को मृत्युदंड तक का प्रावधान हुआ है। भारत ने जो नया संकल्प लिया है- आत्मनिर्भर भारत के जिन अभियान पर हम निकले हैं, उसमें भी नारी शक्ति की बहुत बड़ी भूमिका है।
  • चाहे गहरी खदानों में भी काम करने की स्वीकृति हो या फिर सेना में परमानेंट कमीशन देना हो, देश की नारीशक्ति को सशक्त करने के लिए निरंतर काम किया जा रहा है। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भी सरकार सजग है।
  • चाहे गर्भावस्था के दौरान मुफ्त चेक-अप की सुविधा हो या फिर पोषण अभियान हो, चाहे स्वच्छ भारत के तहत घरों में शौचालय का निर्माण हो या फिर रसोई में धुएं से आजादी देना हो, चाहे नाइट शिफ्ट में काम करने के अधिकार हों या फिर मातृत्व अवकाश को 12 हफ्ते से बढ़ाकर 26 हफ्ते करना हो।
  • देश में आज महिलाओं के सशक्तिकरण का भी अभियान तेज गति से जारी है। चाहे जन-धन योजना के तहत 22 करोड़ महिलाओं के बैंक खाते खोलना हो या फिर मुद्रा योजना के तहत करोड़ों महिलाओं को आसान ऋण देना हो चाहे 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान हो या फिर तीन तलाक के खिलाफ कानून हो।
  • भाजपा के विचार यही है, संस्कार यही है और संकल्प भी यही है। इसलिए देश में आज महिलाओं के सशक्तिकरण का अभियान तेज गति से जारी है।
  • महिषासुर का वध करने के लिए माता का एक अंश ही पर्याप्त था, लेकिन इस कार्य के लिए सभी दैवीय शक्तियां संगठित हो गई थीं। वैसे ही नारी शक्ति हमेशा से सभी चुनौतियों को परास्त करने की ताकत रखती है। ऐसे में सभी का दायित्व है कि संगठित रूप से सभी उनके साथ खड़े हों।
  • हमारी मां दुर्गा ‘दारिद्रय दु:ख भय हारिणि’ कही जाती हैं, ‘दुर्गति-नाशिनी’ कही जाती हैं। अर्थात, वो दुखों को, दरिद्रता को, दुर्गति को दूर करती हैं। इसलिए, दुर्गापूजा तभी पूरी होती है जब हम किसी के दुख को दूर करते हैं, किसी गरीब की मदद करते हैं।
  • आज अवसर है इन सबके सामने शीश झुकाने का जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन को जीवंत किया, नई ऊर्जा से भर दिया ऐसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस, श्यामा प्रसाद मुखर्जी, शहीद खुदीराम बोस, शहीद प्रफुल्ल चाकी, मास्टर दा सूर्य सेन, बाघा जतिन को मैं नमन करता हूं।
  • गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर, बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय, शरद चंद्र चट्टोपाध्याय को मैं प्रणाम करता हूं। जिन्होंने समाज को नई राह दिखाई, उन ईश्वरचंद्र विद्यासागर, राजा राम मोहन राय, गुरुचंद ठाकुर, हरिचंद ठाकुर, पंचानन बरमा का नाम लेते हुए नई चेतना जगती है। 
  • बंगाल की माटी को अपने माथे से लगाकर जिन्होंने पूरी मानवता को दिशा दिखाई, उन श्री रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, चैतन्य महाप्रभु, श्री ऑरोबिंदो, बाबा लोकनाथ, श्री श्री ठाकुर अनुकूल चंद्र, मां आनंदमयी को मैं प्रणाम करता हूं।
  • बंगाल की भूमि से निकले महान व्यक्तित्वों ने जब जैसी आवश्यकता पड़ी, शस्त्र और शास्त्र से, त्याग और तपस्या से मां भारती की सेवा की है।
  • दुर्गा पूजा का पर्व भारत की एकता और पूर्णता का पर्व भी है। बंगाल की दुर्गा पूजा भारत की इस पूर्णता को एक नई चमक देती है, नए रंग देती है, नया श्रृंगार देती है। ये बंगाल की जागृत चेतना का, बंगाल की आध्यात्मिकता का, बंगाल की ऐतिहासिकता का प्रभाव है।
  • जब आस्था अपरम्पार हो, मां दुर्गा का आशीर्वाद हो, तो स्थान, स्थिति, परिस्थिति, से आगे बढ़कर पूरा देश ही बंगालमय हो जाता है।
  • पश्चिम बंगाल के मेरे भाइयों और बहनों आज भक्ति की शक्ति ऐसी है, जैसे लग रहा है कि मैं दिल्ली में नहीं लेकिन आज मैं बंगाल में आप सभी के बीच उपस्थित हूं।
     
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X