UPDATE: बाढ़ से कई राज्यों में हाहाकार, गुजरात से लेकर केरल तक बिगड़े हालात, अबतक 114 की मौत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई/तिरुवनंतपुरम/चेन्नई Updated Sat, 10 Aug 2019 10:47 PM IST
विज्ञापन
kerala, Karnataka and Maharashtra floods, toll rises to 86

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सार

  • कोच्चि हवाईअड्डा रविवार तक बंद
  • 83 एनडीआरएफ टीमें चार राज्यों के लिए रवाना
  • राहुल ने पीएम से मांगी मदद
  • छह राज्यों में मूसलाधार बारिश का अलर्ट
  • सेल्फी लेकर घिरे महाराष्ट्र के मंत्री
  • पवार की अपील पर कुछ घंटे में जुटे एक करोड़ रुपये

विस्तार

केरल और कर्नाटक में शनिवार को भी बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी रही तथा भारी वर्षा, बाढ़ और भूस्खलन से 83 लोगों की मौत हो गयी जबकि महाराष्ट्र में चार लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया एवं गुजरात में बारिश से जुड़ी घटनाओं में 19 लोगों की जान चली गई।
विज्ञापन

महाराष्ट्र में बाढ़ की वजह से अबतक 12 लोगों की मौत हो गयी है। बाढ़ की सबसे अधिक मार झेलने वाले सांगली और कोल्हापुर जिलों में पानी घटने लगा है। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि आठ अगस्त से राज्य में वर्षाजनित घटनाओं में 57 लोगों की जान चली गयी जबकि आठ जिलों में 80 भूस्खलन हुए हैं। 
मलप्पुरम के कावलप्परा और वायनाड के मेप्पाडी केपुथुमला में बड़े भूस्खलनों के बाद कई लोगों के अब भी मलबे में दबे होने की आशंका है। भारतीय मौसम विभाग ने वायनाड, कन्नौर और कसारगोड जिलों में वर्षा को लेकर रेड अलर्ट जारी किया गया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि वह अपने बाढ़ प्रभावित निर्वाचन क्षेत्र वायनाड 11 अगस्त को जाएंगे।
जानिए अबतक का अपडेट- 

कर्नाटक

कर्नाटक सरकार ने शनिवार को 17 जिलों में 80 तालुका को बाढ़ प्रभावित घोषित किया। राज्य में वर्षा और बाढ़ से जुड़ी घटनाओं में मृतकों की संख्या 26 हो गई और हजारों लोग बेघर हो गए हैं । 
सरकार ने आदेश जारी कर फसल, मृतकों, मवेशी और बुनियादी संरचना को हुए नुकसान के कारण 80 तालुका को बाढ़ प्रभावित घोषित किया है। बाढ़ प्रभावित तालुका बेलगावी, बागलकोट, रायचुर, कलबुर्गी, यादगीर, विजयपुरा, गडग, हावेरी, धावाड, शिवमोगा, चिकमंगलुरू, कोडागु, दक्षिण कन्नड़, उडूपी, उत्तरी कन्नड़ और मैसुरु जिले में हैं। अधिकारियों ने बताया कि पिछले एक सप्ताह में बाढ़ और वर्षा जनित घटनाओं में 26 लोगों की मौत हो गयी।

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में बाढ़ग्रस्त इलाकों से अब तक चार लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है और सांगली और कोल्हापुर जिलों में बाढ़ का पानी कम होना शुरू हो गया है। जिन लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है उनमें कोल्हापुर और सांगली के 3.78 लाख लोग भी शामिल हैं जहां शनिवार को हालात में थोड़े सुधार के संकेत मिले हैं क्योंकि वहां बाढ़ का पानी अब धीरे-धीरे कम होना शुरू हो गया है।


राज्य सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार समूचे राज्य में बाढ़ प्रभावित इलाकों से 4,24,333 लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। बाढ़ से राज्य में 69 ‘तालुकाओं’ में 761 गांव प्रभावित हुए हैं। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को सांगली में राहत व बचाव अभियानों की समीक्षा की और लोगों से बातचीत की। उन्होंने लोगों को हर तरह की मदद का आश्वासन भी दिया।

47 छात्रों और 6 शिक्षकों को बचाया

-गुजरात के मोरबी में एनडीआरएफ टीम ने कस्तूरबा गांधी गर्ल्स स्कूल से 47 छात्रों और छह शिक्षकों को बचाया।
 

-केरल के पलक्कड़ में बाढ़ प्रभावित इलाके में एक गर्भवती महिला ने इस तरह नदी पार की।
 

-केरल के वायनाड में बाढ़ से स्थिति बेहद गंभीर। राहुल गांधी रविवार को करेंगे दौरा। 
 

-गुजरात के मोरबी में कांडला बाइपास के पास उमिया सर्किल में एक दीवार गिर जाने से आठ लोगों की मौत। 
 

-कर्नाटक के बादामी शहर में सुरक्षाबल जोर-शोर से बचाव कार्य में लगे हैं। 
 

-महाराष्ट्र में कोल्हापुर जिला के हसुर और रुसिन्हवाड़ी में बाढ़ के चलते ऐसे हैं हालात।   
 

-गुजरात के वडोदरा में भारी बारिश के विश्वमित्र नदी के पास के इलाकों में बाढ़। 
 

-गुजरात के राजकोट में भारी बारिश।  
 

एनडीआरएफ की टीमें लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा रही हैं। सेना, नौसेना, वायुसेना और तट रक्षकों की 173 टीमें भी बचाव और राहत कार्य में जुटी हैं। महाराष्ट्र में सबसे बुरा हाल सांगली और कोल्हापुर जिले में है। नौसेना की 12 टीमें बृहस्पतिवार रात सांगली पहुंचीं। यह टीमें शुक्रवार से राहत कार्य में जुट गईं।

महाराष्ट्र के पांच पश्चिमी जिलों में बाढ़ में फंसे करीब 2.85 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। संभागीय आयुक्त डॉ. दीपक म्हैसेकर ने बताया कि राज्य सरकार ने 76 करोड़ रुपये बाढ़ पीड़ितों में बांटने के लिए दिए हैं। शहरों में हर पीड़ित परिवार को 15 हजार और गांवों में दस हजार रुपये दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ेंः 2040 तक पूरे देश में ढाई करोड़ से ज्यादा लोग आ सकते हैं बाढ़ की चपेट में

कर्नाटक के 15 जिलों में भारी बारिश में फंसे 80 हजार लोगों को बचाया गया है। तमिलनाडु के नीलगिरी जिले के एवलांचि में बृहस्पतिवार को 911 मिमी बारिश हुई। इसके चलते कई जगहों पर भूस्खलन हुआ। राज्य सरकार ने 100 करोड़ रुपये की राहत राशि जारी कर दी है। केरल के पलक्कड़ प्रभाग में भारी बारिश के चलते दक्षिण रेलवे ने दो रूटों की 20 ट्रेनें रद्द कर दी हैं।

कहां कितनी मौत

केरल    42
महाराष्ट्र  27
कर्नाटक 12
तमिलनाडु  05

केरल में भारी बारिश से 42 लोगों की मौत

केरल में मूसलाधार बारिश का कहर अब भी जारी है और बाढ़, भूस्खलन तथा बारिश संबंधी घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 42 हो गई है। वहीं, एक लाख से अधिक लोगों ने राहत शिविरों में पनाह ली है। अधिकारियों ने सुबह सात बजे मिली रिपोर्ट के हवाले से बताया कि आठ अगस्त से अभी तक बारिश संबंधी घटनाओं में कोझिकोड और मलप्पुरम में जिले में 20 और वायनाड में नौ लोगों की जान गई है। उन्होंने बताया कि राज्य के 988 राहत शिविरों में 1,07,699 लोगों को सुरक्षित पहुंचाया गया। वायनाड से सबसे अधिक 24,990 लोगों ने इन शिविरों में पनाह ली है।

राहुल ने पीएम से मांगी मदद

केरल के आठ जिले बाढ़ की चपेट में हैं। मल्लपुरम और वायनाड में हालत सबसे ज्यादा खराब हैं। यहां शुक्रवार को 25 जगहों पर भूस्खलन हुआ जिसमें दो जगह 40 लोगों के दबे होने की आशंका है। वायनाड में छह लोगों की मौत हुई।

इन इलाकों से 64 हजार लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शुक्रवार को केरल में बाढ़ के हालात पर चर्चा की और राज्य को संकट के इस दौर से निपटने में केंद्र सरकार से मदद मांगी है।

यह भी पढ़ेंः बारिश की भविष्यवाणी पर क्यों गलत साबित हो रहा मौसम विभाग, नया सिस्टम भी फेल?

राहुल गांधी ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से भी बाढ़ ग्रस्त इलाकों में राहत कार्य में मदद करने की अपील की है। राहुल गांधी ने अपने वायनाड सांसद वाले ट्विटर हैंडल पर कहा, केंद्र सरकार ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।

कोच्चि हवाईअड्डा रविवार तक बंद

कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रनवे पर पानी भरने से उड़ानों का संचालन रविवार दोपहर 3 बजे तक के लिए बंद कर दिया गया। इस बीच नौसेना ने राज्य सरकार की मांग पर अपना हवाई अड्डा गरुड़ नागरिक उड़ानों के लिए खोल दिया है। वहीं, यूएई से ईद के मौके पर केरल अपने घर आने वाले हजारों भारतीयों की मुश्किलें भी बढ़ गई हैं।

83 एनडीआरएफ टीमें चार राज्यों के लिए रवाना

दक्षिण के चार राज्याें में बारिश और बाढ़ के हालात देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एनडीआरएफ की 83 टीमें रवाना की हैं। गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा, गृह मंत्री अमित शाह हालातों पर नजर रख रहे हैं और संबंधित विभागों को निर्देशित कर रहे हैं।

छह राज्यों में मूसलाधार बारिश का अलर्ट

मौसम विभाग ने शुक्रवार को छह राज्यों के लिए मूसलाधार बारिश का अलर्ट जारी किया है। इनमें केरल, महाराष्ट्र, गोवा, मध्यप्रदेश, कर्नाटक और राजस्थान शामिल हैं। 

सेल्फी लेकर घिरे महाराष्ट्र के मंत्री

महाराष्ट्र के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन के दो वीडियो सामने आए जिनमें वह कोल्हापुर में बाढ़ ग्रस्त इलाके में दौरा करते वक्त मुस्कुरा रहे हैं और हाथ हिलाते हुए दिख रहे हैं। इस पर निशाना साधते हुए विपक्षी दल एनसीपी के धनंजय मुंडे ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडण्वीस से सवाल किया कि क्या मंत्री पर्यटन दौरे पर थे। धनंजय ने महाजन के इस्तीफे की मांग की।

केंद्र ने दिया मदद का भरोसा : येदियुरप्पा

कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र को बाढ़ के हालात से अवगत करा दिया गया है। येदियुरप्पा ने सभी मृतकों के परिजनों को पांच पांच लाख रुपये देने की घोषणा की है। वहीं पूर्व सीएम और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने घोषणा की है कि उनकी पार्टी के सभी विधायक अपना एक माह के वेतन बाढ़ पीड़ितों के लिए दान करेंगे। जेडीएस प्रमुख एचडी देवेगौड़ा और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने प्रधानमंत्री से कर्नाटक बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने और पांच हजार करोड़ की विशेष अनुदान देने की मांग की।

पवार की अपील पर कुछ घंटे में जुटे एक करोड़ रुपये

एनसीपी प्रमुख शरद पवार की अपील पर उनके गृह जिले बारामती में बाढ़ राहत फंड के लिए शुक्रवार को कुछ घंटों में ही एक करोड़ रुपये जमा हो गए। पवार ने शुक्रवार सुबह कोल्हापुर, सांगली और सतारा जिलों में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए लोगों से मदद का आह्वान किया था।

सांगली में गुस्से का शिकार हुए मंत्री

बाढ़ ग्रस्त सांगली का दौरा करने गए जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन को बाढ़ पीड़ितों के गुस्से शिकार होना पड़ा। पीड़ितों ने आरोप लगाया कि सरकार ने उनकी मदद के लिए उपयुक्त कदम उठाने में देरी की। राहत टीमें उन तक नहीं पहुंच पा रहीं हैं, जरूरत की चीजें भी मुहैया नहीं कराई गईं।

गढ़वाल के दो जिलों में बादल फटने से 4 की मौत

टिहरी और चमोली जिले में बादल फटने से दो महिलाओं और दो बच्चों की मौत हो गई। टिहरी जिले के भिलंगना ब्लॉक की नैलचामी पट्टी के थार्ती गांव में बृहस्पतिवार देर रात करीब डेढ़ बजे बादल फटने से एक मकान मलबे में समा गया। दूसरी घटना चमोली जिले के देवाल क्षेत्र के फल्दिया गांव में घटी। यहां बरसाती मलबे में दबने से मां-बेटी की मौत हो गई। गांव में कुल 11 मकान मलबे के सैलाब में समा गए। यमनोत्री-गंगोत्री हाईवे समेत राज्य की कई संपर्क मार्ग बंद हो गए। 

हिमाचल के कुल्लू में बादल फटा 150 सड़कें बंद

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में मणिकर्ण घाटी के कटागला में बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है। लोग घर छोड़कर भाग गए। भारी बारिश के कारण चंडीगढ़-मनाली और हिंदुस्तान-तिब्बत एनएच ठप हो गया। कुल्लू में सभी उड़ानें रद्द रहीं। वहीं शिमला समेत प्रदेश में भूस्खलन से करीब 150 सड़कें बंद हो गईं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X