लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Jignesh mevani reached delhi to challenge pm modi

गुजरात के बाद देशभर में दलित चेहरा बनने में जुटे मेवानी, दिल्ली पहुंच पीएम से दो-दो हाथ का ऐलान

संजय मिश्र/नई दिल्ली Updated Fri, 05 Jan 2018 08:33 PM IST
Jignesh mevani reached delhi to challenge pm modi
ख़बर सुनें
गुजरात विधानसभा का चुनाव जीतने के बाद जिग्रेश मेवानी अब दलित राजनीति को लेकर देश का चेहरा बनने में जुट गए हैं। पुणे के कोरेगांव मामले से महाराष्ट्र की राजनीति गर्माने के बाद मेवानी शुक्रवार को सीधे दिल्ली पहुंचे। कोरेगांव मामले में दर्ज प्रथमिकी की परवाह किए बिना उन्होंने यहां सीधे पीएम मोदी से दो-दो हाथ करने का ऐलान किया। मेवानी ने कहा कि वे 9 जनवरी को संसद मार्ग पर आयोजित हुंकार रैली को संबोधित करने के बाद पैदल चलकर पीएम आवास जाएंगे और वहां पीएम से मनु स्मृति या संविधान में से किसी एक को चुनने की बात करेंगे। उत्तर भारत में भाजपा के खिलाफ सियासी लड़ाई के लिए मेवानी ने भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर की रिहाई को मुद्दा बनाया है। 


उत्तर भारत की राजनीति में एंट्री के दिए संकेत 
पीएम मोदी पर सियासी हमले के साथ ही मेवानी ने दिल्ली से चंद्रशेखर की रिहाई की मांग कर अब देश के सबसे बड़े प्रदेश में यूपी की राजनीति में एंट्री के भी संकेत दे दिए हैं। पीएम के गृह राज्य में भाजपा का संकट बढ़ाने वाले मेवानी अब देश के सबसे बड़े प्रदेश में भी अपनी गतिविधि बढ़ाने के प्रयास में हैं जहां से मोदी सांसद हैं। उनके इस कदम को भाजपा और बसपा के लिए अहम माना जा रहा है। गुजरात के उना दलित कांड को उभारकर मेवानी दलित राजनीति का प्रभावी चेहरा बनकर उभरे हैं। हाल ही में तमाम चुनौतियों को पार करते हुए वे गुजरात की वीरमगांव विधानसभा सीट से बतौर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीतकर विधानसभा भी पहुंच चुके हैं। हालांकि कांग्रेस ने अपने वर्तमान विधायक से सीट खाली कराकर मेवानी के लिए यह सीट छोड़ी थी। कांग्रेस की मदद से गुजरात विधानसभा का चुनाव जीतने के बाद मेवानी के हौसले बढ़े हुए हैं। महाराष्ट्र पहुंचकर उन्होंने भीमा-कारेगांव के मामले के जरिए सूबे की सियासत गर्मा दी है, तो अब कड़ाके की ठंढ़ में देश की राजधानी में आकर यहां के सियासी पारे को भी गर्म कर दिया है। दलित सियासत का नया सितारा बनकर उभरे जिग्रेश मेवानी केंद्र सरकार की मुश्किलें बढ़ाने के लिए अब दिल्ली के मैदान में डट गए हैं। 


पीएम के पास मनु स्मृति और संविधान लेकर जाएंगे जिग्रेश 
मेवानी अब सीधे पीएम मोदी से अपनी राजनीति जोड़ रहे हैं ताकि सुर्खियां बटोर सकें। मेवानी ने कहा है कि वे 9 जनवरी को संसद मार्ग पर आयोजित हुंकार रैली को संबोधित करने के बाद पीएम से मिलने के लिए पैदल चलकर पीएम आवास जाएंगे। उन्होंने ऐलान किया है कि पीएम मोदी से मुलाकात के वक्त वे एक हाथ में संविधान और दूसरे हाथ में मनु स्मूति रखेंगे और पीएम से आग्रह करेंगे कि वे संविधान और मनु स्मृति दोनों में से किसी एक का चयन करें। 

9 जनवरी को है मेवानी की हुंकार रैली 
मेवानी ने सामाजिक न्याय के नाम पर दिल्ली के संसद मार्ग पर 9 जनवरी को युवा हुंकार रैली का आयोजन रखा है। इस रैली के जरिए मेवानी की मुख्य मांग केंद्र सरकार से दो-दो हाथ करते हुए भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर को रिहा करने की रहेगी। उनकी इस कोशिश को राष्ट्रीय स्तर पर दलित राजनीति का चेहरा बनने की कवायद माना जा रहा है। उनकी वैचारिक लड़ाई वैसे तो सीधे भाजपा और उसकी सरकारों के खिलाफ है। मगर उनके सियासी कदमों से उत्तर भारत में सबसे ज्यादा नुकशान बसपा और उसकी मुखिया मायावती को होगा। भगवा परिवार के खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए मेवानी ने कहा है कि भाजपा को दलितों की हत्या बंद करनी चाहिए। मेवानी की ओर से हुंकार रैली के जरिए दलित और मुस्लिम गठजोड़ को पुख्ता करने के लिए अल्पसंख्यकों को भी रिझाने की कवायद की गई है। रैली के नारों में लिखा गया है कि युवाओं को रोजगार दो और अल्पसंख्यकों पर हमला नहीं चलेगा। इस युवा हुंकार रैली में मेवानी के साथ असम के नेता अखिल गोगोई भी शामिल रहेंगे। 
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00