विज्ञापन
विज्ञापन

लोकसभा चुनाव 2019: अजेय गढ़ रहे बंगाल में भी साफ होता वाममोर्चा

रीता तिवारी, अमर उजाला, कोलकाता Updated Wed, 22 May 2019 03:36 AM IST
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
ख़बर सुनें
क्या कभी देश में सबसे मजबूत लाल किला समझे जाने वाले पश्चिम बंगाल में भी वाममोर्चा का कोई नामलेवा नहीं बचा है? लोकसभा चुनावों के बाद आए एग्जिट पोल्स के नतीजे तो यही बताते हैं कि लगातार 34 साल बंगाल पर राज करने वाली माकपा और उसके सहयोगी दलों का इस बार सूपड़ा साफ होना तय है। वैसे, राजनीतिक पर्यवेक्षक तो पहले से ही ऐसी अटकल लगा रहे थे। लेकिन एग्जिट पोल्स ने उनके आकलन पर लगभग मुहर लगा दी है।
विज्ञापन
राजनीति बड़ी बेरहम होती है। वाममोर्चा से बेहतर भला इस बात को कौन समझ सकता है। कभी लालकिले के नाम से मशहूर इसी बंगाल में इन लोकसभा चुनावों में ऐड़ी-चोटी का पसीना एक करने के बावजूद चार दशकों में पहली बार उसका खाता खुलने की भी उम्मीद नहीं नजर आ रही है। मोर्चा ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों में राज्य की 42 में से दो सीटें जीती थीं। वे सीटें भी माकपा के खाते में गई थीं। माकपा अपनी उन दो सीटों को बचाने में ही नाकाम नजर आ रही है।

करिश्माई नेता की कमी अखर रही
पश्चिम बंगाल में बीते एक दशक से वामदलों के पैरों तले की जमीन खिसक रही है। पंचायत से लेकर तमाम चुनावों में पार्टी तीसरे-चौथे नंबर पर खिसकती रही है। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी और पूर्व महासचिव प्रकाश कारत के बीच लगातार बढ़ती खाई ने बंगाल में वाममोर्चा को राजनीतिक हाशिए पर पहुंचा दिया है। बंगाल में उसके पास ज्योति बसु या बुद्धदेव भट्टाचार्य जैसा कोई करिश्माई नेता नहीं बचा है। ग्रामीण इलाकों के बलबूते लगभग साढ़े तीन दशकों तक बंगाल पर राज किया, लेकिन उन इलाकों में हुए पंचायत चुनावों में भी उसे मुंह की खानी पड़ी। इस दौरान राज्य में भाजपा ही नंबर दो के तौर पर उभरी। 

राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि नई सामाजिक-आर्थिक संरचना के अनुरूप नीतियों में जरूरी बदलाव करने में नाकामी, आत्ममंथन का अभाव, आंतरिक मतभेदों, प्राथमिकताएं तय नहीं होने और खासकर पश्चिम बंगाल में पूर्व मुख्यमंत्रियों—ज्योति बसु व बुद्धदेव भट्टाचार्य की कद-काठी के नेताओं की कमी ने पार्टी को आम लोगों से दूर कर दिया है। 

29 साल पहले चुनाव में मिले थे 50 प्रतिशत वोट
वर्ष 1980 के लोकसभा चुनावों में वाममोर्चा को यहां सबसे ज्यादा 38 सीटें मिली थीं। तब उसे 50 फीसदी वोट मिले थे। उसके बाद वर्ष 1996 औऱ 2004 के आम चुनावों में क्रमशः 33 और 34 सीटें मिलीं। लेकिन उसके बाद उसके पैरों तले की जमीन खिसकने का सिलसिला शुरू हो गया। वर्ष 2009 के चुनावों में उसे भारी झटका लगा और पहली बार उसकी सीटों की तादाद घट कर 15 रह गई। वर्ष 2014 में तो उसे महज 29 फीसदी वोट और दो सीटों से ही संतोष करना पड़ा।

करात और येचुरी की दिशा अलग-अलग
आखिर अपने सबसे मजबूत गढ़ में वामपंथियों की ऐसी हालत कैसे हुई? दरअसल, लेफ्ट के सबसे बड़े घटक माकपा के शीर्ष नेतृत्व के बीच बढ़ते मतभेदों ने पार्टी को हाशिए पर पहुंचा दिया। विपक्षी महागठबंधन के सवाल पर प्रकाश करात और सीताराम येचुरी की अलग-अलग लाइन रही। माकपा की बंगाल प्रदेश समिति इस मुद्दे पर येचुरी के साथ रही। शीर्ष नेतृत्व ने बंगाल में माकपा को कांग्रेस से गठबंधन की अनुमति नहीं दी। नतीजतन पार्टी के पैरों तले जमीन खिसकने का सिलसिला नहीं रुक सका।

हमने ऐसी कल्पना भी नहीं की : मौला
माकपा के पोलित ब्यूरो सदस्य हन्नान मौला मानते हैं कि यह चुनाव वामदलों के लिए बंगाल में सबसे कठिन राजनीतिक लड़ाई थी। हमने कभी इस हालत में पहुंचने की कल्पना तक नहीं की थी। माकपा की केंद्रीय समिति के नेता सुजन चक्रवर्ती मानते हैं कि अगर यहां कांग्रेस के साथ तालमेल हो गया होता तो, तस्वीर कुछ अलग होती।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

बदलते वक्त से तालमेल नहीं रख पाई पार्टी

विज्ञापन

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।
Astrology

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

लोकसभा में जहरबुझे तीरों से पहले दिन महफिल लूट ले गए अधीर रंजन चौधरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सदन में मौजूदगी के दौरान अधीर रंजन चौधरी ने केंद्र सरकार के कामकाज की जमकर बखिया उधेड़ी।

24 जून 2019

विज्ञापन

पुलिस की पाठशाला में शामिल हुए अभिनेता आयुष्मान खुराना, फिल्म आर्टिकल-15 को बताया सबसे खास

अमर उजाला की 'पुलिस की पाठशाला' में पहुंचे अभिनेता आयुष्मान खुराना ने फिल्म आर्टिकल 15 का जिक्र करते हुए इसे प्रशासनिक व्यवस्था पर सवाल बताया। लखनऊ में आयोजित इस कार्यक्रम में कई स्कूलों और संस्थान के छात्र शामिल हुए।

24 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election