नीति आयोग के CEO बोले- राज्य तय नहीं कर सकते टूरिस्ट क्या खाएं क्या पिएं

एजेंसी/ नई दिल्ली Updated Fri, 06 Oct 2017 07:13 PM IST
Amitabh Kant said States can't tell people what to eat and drink
शराब प्रतिबंध का दायरा बढ़ने के साथ देश के पर्यटन उद्योग के लिए खतरा पैदा हो रहा है। ऐसे में नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अमिताभ कांत ने शुक्रवार को कहा कि यह तय करना राज्यों का काम नहीं है कि पर्यटकों को क्या पीना और क्या खाना चाहिए।

विश्व आर्थिक मंच के भारत आर्थिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कांत ने कहा, ‘राज्यों को इस मामले में नहीं पड़ना चाहिए कि पर्यटक क्या खाना चाहता है और क्या पीना चाहता है। ऐसा नहीं हो सकता है ... वह क्या खाना या पीना चाहते हैं। यह उनका निजी मामला है, यह राज्यों का काम नहीं है।’ 

पढ़ें- बैंक शाखाओं को खत्म कर देगी ऑनलाइन बैंकिगः नीति आयोग 

उनसे पूछा गया था कि क्या बीफ और शराब पर प्रतिबंध लगाने वाले राज्य यह नहीं समझ पाए हैं कि दुबई क्यों इतना शानदार प्रदर्शन करता है। जिस देश को भी पर्यटकों की जरूरत है तो वह उन्हें सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराता है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण, रेंज में आये चीन के कई शहर

भारत ने गुरुवार को अपनी परमाणु क्षमता से लैस मिसाइल अग्नि-5 का परीक्षण किया।

18 जनवरी 2018

Related Videos

400 लीटर रंगों ने बदली मुंबई के इस स्लम एरिया की तस्वीर

मुंबई के घाटकोपर स्थित असल्फा स्लम की तस्वीर बदल गई है। इसे देखकर अंदाजा लगाना मुश्किल है कि ये स्लम है। यहां की गलियों और झुग्गी झोपड़ी को खूबसूरत रंगों से सजाया गया है।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper