मां-बेटे को दो साल कैद

Panchkula bureau Updated Mon, 05 Jun 2017 07:52 PM IST
ख़बर सुनें
सरकारी वकील से झगड़ा करने वाले मां-बेटे को दो-दो साल कैद
अमर उजाला ब्यूरो
चंडीगढ़।
जिला अदालत में कार्यरत एक सरकारी वकील से झगड़ा करने, सरकारी ड्यूटी से रोकने और धमकाने के मामले में जिला अदालत ने मां-बेटे को दो-दो साल की सजा सुनाई है। सजा पाने वालों में सेक्टर-38 वेस्ट निवासी डॉली रानी और संदीप कुमार उर्फ सनी रंधावा हैं। अदालत ने दोनों को 5500-5500 रुपये जुर्माना भी लगाया है। दोनों के खिलाफ सेक्टर-36 थाने में सरकारी वकील जतिंदर पाल सिंह की शिकायत पर केस दर्ज किया था।
मामला 13 फरवरी 2014 का है। जिला अदालत में बतौर एडिशनल डिस्ट्रिक्ट अटार्नी कार्यरत जेपी सिंह दोपहर 3 बजे के करीब जैसे ही कोर्ट रूम से बाहर आए तो वहां दोनों मां-बेटा पहले से खड़े थे। दोनों ने पहले उनसे उनका नाम पूछा और बाद में मोबाइल नंबर मांगा। सरकारी वकील के इंकार करने पर वे जबरदस्ती करने लगे। इस पर सरकारी वकील अपने आफिस में चले गए।
थोड़ी देर में मां-बेटा उनके आफिस पहुंच गए और हंगामा करने लगे। इस दौरान वहां सेक्टर-17 थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर जसविंदर कौर सरकारी काम से उनके पास आई हुईं थी। दोनों सरकारी काम में रुकावट डालते हुए सरकारी वकील से झगड़ा करने लगे और सरकारी वकील और एसआई को हाईकोर्ट जज का रिश्तेदार बताते हुए धमकाने लगे। हंगामा सुनकर वहां डिस्ट्रिक्ट अटार्नी राजेंद्र सिंह भी पहुंच गए।
बाद में सरकारी वकील जेपी सिंह ने पुलिस कंट्रोल रूम पर इसकी सूचना दी।



- अदालत ने सरकारी कार्य में रुकावट पैदा करने का भी पाया दोषी
- अदालत ने 5550 रुपये जुर्माना भी लगाया

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Una

धू-धू के जल रहे उपमंडल बंगाणा के जंगल

धू-धू के जल रहे उपमंडल बंगाणा के जंगल

24 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस्लाम न कबूल करने पर पति ने की ये घिनौनी हरकत!

पंचकूला से एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक महिला ने अपने पति के ऊपर इस्लाम न कबूल करने पर न्यूड तस्वीरें वायरल करने का आरोप लगाया है। आपको बता दें कि पुलिस ने इस मामले को दर्ज कर एक शख्स को हिरासत में लिया है।

7 अप्रैल 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen