Movie Review: 'एक हसीना थी एक दीवाना था' देखकर कहेंगे किस जमाने की फिल्म है!

रवि बुले Updated Sat, 01 Jul 2017 11:35 AM IST
movie review of ek haseena thi ek deewana tha starting upen patel
एक हसीना थी एक दिवाना था
निर्माता-निर्देशकः सुनील दर्शन
सितारेः शिव दर्शन, नताशा फर्नांडिस, उपेन पटेल

रेटिंग *

यह एक चुटकुला है। अगर आपने लंबे समय से ऐसी फिल्म न देखी हो, जिसमें बेसिर-पैर की बातें और दिमागी दिवालियेपन के साक्षात दर्शन होते हैं तो निर्देशक सुनील दर्शन की एक हसीना थी एक दीवाना था देखिए। आप निराश नहीं होंगे। अजीब ढंग से फिल्म भूत-प्रेत- आत्मा टाइप की बातों से शुरू होती है। हीरो एक आत्मा है, जो किसी जमाने में मरने से पहले हीरोइन की हमशक्ल नानी के साथ ‘मन की बात’ नहीं कर पाया था, इसलिए पोती को देखते ही फिदा है। 

हीरोइन को भी लगता है कि यूरोप की एक खूबसूरत लोकेशन के भव्य मेंशन में वह पहली बार नहीं आई। पुराना कनेक्शन जरूर है। इस बीच कहानी में चर्चा होती  है कि क्या भूत सचमुच होते हैं? पता लगता है कि नहीं होते! फिर क्या चक्कर है...? हीरो को किसी ने आत्मा होने का ड्रामा करने और हीरोइन को आत्महत्या के लिए मजबूर करा देने के वास्ते पैसे दिए हैं।

कौन है जिसे हीरोइन की मौत से फायदा होगा और क्यों? हॉरर के रास्ते फिल्म रोमांस की तरफ बढ़ती है, जिसमें हीरो सौ परसेंट दुखी आत्मा है। उसके चेहरे पर कभी मुस्कान नहीं आतीऔर अंतः मैं क्लाइमेक्स ऐसे खुलता है, जैसे ढाक के तीन पात। इन दिनों टीवी के डेली सोप में भी इससे अच्छी राइटिंग होती है।
आगे पढ़ें

सुनील दर्शन ने बेटे शिव को लेकर बनाई फिल्म

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all entertainment news in Hindi related to bollywood news, Tv news, hollywood news, movie reviews etc. Stay updated with us for all breaking hindi news from entertainment and more news in Hindi.

Spotlight

Related Videos

श्रीदेवी की जिंदगी के आखिरी क्षण, शादी में पति बोनी को किया था HUG

बॉलीवुड एक्ट्रेस श्रीदेवी के निधन की खबर ने सबको चौंका दिया। श्रीदेवी का निधन दिल का दौरा पड़ने से हुई है। हम आपको श्रीदेवी का वो आखिरी वीडियो दिखाएंगे जिसमें वो डांस कर रही हैं और साथ ही अपने पति बोनी कपूर को गले लगाए हुए हैं।

25 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen