Helmet Movie Review: अपारशक्ति और अभिषेक बनर्जी की ये है असली ‘स्टारवैल्यू’, जी5 की एक और खराब फिल्म

Swati Singh स्वाति सिंह
Updated Sun, 05 Sep 2021 05:37 PM IST
हेलमेट
हेलमेट - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
विज्ञापन
Movie Review
हेलमेट
कलाकार
अपारशक्ति खुराना , प्रनूतन बहल , अभिषेक बनर्जी , जमील खान और आशीष विद्यार्थी और आशीष वर्मा आदि।
लेखक
गोपाल मुधाने , रोहन शंकर और सतरा रमानी
निर्देशक
सतराम रमानी
निर्माता
ओटीटी
जी5
रेटिंग
1/5

आमिर खान के भाई फैसल खान तो याद ही होंगे आपको। उनकी एक फिल्म बीते हफ्ते रिलीज हुई है। एक और भाई हिंदी सिनेमा के उसी रास्ते पर हैं। आयुष्मान खुराना के भाई अपारशक्ति। वह साबित करने में जुटे हैं कि नाम में क्या रखा है। और, लगता है कोशिश उनकी कामयाब भी हो रही है। वीर्यदान पर एक फिल्म ‘विकी डोनर’ करके आयुष्मान रातोंरात सुपरस्टार बन गए थे। वीर्यसंकलन पर फिल्म ‘हेलमेट’ करके अपराशक्ति खुराना अपने पैकअप की कहानी लिखना शुरू कर चुके हैं। दोनों फिल्मों में फर्क है, कॉमेडी और फूहड़पन का। ओटीटी पर तमाम अच्छी कहानियों के साथ साथ ढेर सारा कचरा भी पहुंच रहा है। फिल्म ‘हेलमेट’ इसी बाढ़ में बह आई कहानी है जिसे देखने का मतलब अपना कीमती समय बर्बाद करना तो है ही, ये जी5 के नए प्रबंधन की अपने ग्राहकों के साथ वादाखिलाफी की भी नई मिसाल है।

विज्ञापन

हेलमेट
हेलमेट - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
देसी कहानियों को दुनिया तक पहुंचाने के वादे के साथ शुरू हुआ जी5 अब उस दौर में पहुंच चुका है जहां कहानियां ही उसके पास नहीं हैं, बाकी सब है। बड़े बड़े नाम हैं। बड़े बड़े प्रोडक्शन हाउस हैं। बस नहीं हैं तो कहानियां। और कहानियां लेकर जी5 तक कोई जाए भी तो कैसे, अगर जज ऐसा हो जो पहले ‘स्कैम 1992’ को रिजेक्ट कर चुका है। ख़ैर, जो एक्सेप्ट हुआ उसकी भी कुछ न कुछ अलग ही कहानी होगी नहीं तो फिल्म ‘हेलमेट’ को तो स्क्रिप्ट लेवल पर ही रिजेक्ट करना बनता है।

हेलमेट
हेलमेट - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
21वीं सदी को शुरू हुए 21 साल बीत चुके हैं और ऐसे में 21 साल का लड़का तो अब गांव में किराने की दुकान पर भी झट से ‘केएस’ खरीद लेता है। यहां शहर का बालक मेडिकल स्टोर में कंडोम नहीं खरीद पा रहा है। कहानी तो यही होनी चाहिए कि आखिर ये किस बस्ती का बालक है जहां बालिग लड़के को अब भी कंडोम खरीदते शरम आती है। निर्देशक ने इस कंडोम खरीद की कहानी की पृष्ठभूमि भी बताई है। और, फिर यही कहानी आगे चलकर भानुमती का पिटारा बनने की कोशिश में अपना ही बाजा बजवा लेती है। तीन दोस्त मिलकर मोबाइल से भरी वैन लूटने का प्लान बनाते हैं और लूट लेते हैं कंडोम की थोक डिलीवरी करने जा रही वैन। जिनको कंडोम खरीदते शरम आ रही थी, वे इसे घर घर पहुंचाने की ‘समाजसेवा’ में जुटते हैं।

प्रनूतन बहल
प्रनूतन बहल - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
फिल्म ‘हेलमेट’ कॉन्सेप्ट लेवल पर ही फेल फिल्म है। अमोल पालेकर की जवानी के दिनों की ये अच्छी फिल्म हो सकती थी। तब से पिछले पचास साल में दुनिया बहुत लाल त्रिकोण देख चुकी है। कहानी चुनने में गच्चा खाने के बाद निर्देशक सरताम रमानी ने फिल्म की कास्टिंग करने में भी गोता खाया है और फिल्म में एक भी कलाकार ऐसा नहीं है जो अपने नाम से फिल्म चला सके। अपराशक्ति का भी खुद को सुपरस्टार समझने का गुमान ऐसी ही फिल्मों से टूटना है। अभिषेक को ये गलतफहमी अरसे से है कि ‘स्त्री’ और ‘पाताललोक’ को अकेले उन्होंने ही हिट करा दिया है। दोनों की ‘स्टारवैल्यू’ दर्शकों को यहां आकर पता चली है।

हेलमेट
हेलमेट - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
कलाकारों में अगर किसी कलाकार पर वाकई तरस आता है तो वह हैं प्रनूतन बहल। नूतन जैसे कलाकार की तीसरी पीढ़ी की अदाकारा को अच्छा अभिनय आने के बाद भी अगर खेमेबाजी के चलते अच्छी फिल्में नहीं मिल रही हैं, तो ये हिंदी सिनेमा की हार है। जमील खान, आशीष वर्मा ने अपना काम अपने हिसाब से ही कर दिया है और इन दोनों के फिल्म में होने न होने से कोई खास फर्क भी नहीं पड़ता है। जिनके नाम से फिल्म बनी है, उन्होंने ही पूरा खेल खराब पहले ही कर दिया है। अपारशक्ति को एक्टिंग नहीं आती, ये उन्हें मान लेना चाहिए। अभिषेक बनर्जी के लिए अब भी समय है कि वह संभल जाएं। अपने खीसे से स्टारडम को निकालकर बाहर फेंके और अपनी कदकाठी व नापतौल के हिसाब के किरदार करें तो लंबा चल सकते हैं। फिल्म बहुत ही बोरिंग फिल्म है और इस सीजन की सबसे खराब फिल्म भी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00