इस वजह से 'ठाकरे' में अमृता राव को मिला बाला साहब ठाकरे की पत्नी का किरदार, इंटरव्यू में किया खुलासा

भाषा Updated Thu, 24 Jan 2019 03:39 PM IST
विज्ञापन
amrita rao
amrita rao

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
अभिनेत्री अमृता राव ‘‘ठाकरे’’ से फिल्मी दुनिया में लौट रही हैं और उनका मानना है कि मनोरंजन उद्योग में बदलते समीकरणों के साथ वह प्रयोग करने के लिए तैयार हैं। राव को साल 2000 की शुरुआत में ‘‘इश्क विश्क’’, ‘‘मैं हूं ना’’ और ‘‘विवाह’’ जैसी फिल्मों के लिए पहचान जाता है।
विज्ञापन

उनकी आखिरी फिल्म 2013 में ‘सत्यग्रह’ थी और उन्होंने तीन साल बाद छोटे पर्दें के लिए म्यूजिकल ड्रामा ‘‘मेरी आवाज ही पहचान है’’ किया था। राव ने कहा कि उन्होंने बॉलीवुड के कई बड़े प्रोजेक्ट नकार दिए क्योंकि वे उनकी पसंद के अनुरूप नहीं थे।
उन्होंने पीटीआई-भाषा को एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘यह बड़ी फिल्मों को छोड़ने की यात्रा रही है क्योंकि मैं स्क्रीन की जरुरतों को लेकर सहज नहीं थी। चलन बदला, अभिनेत्रियों की ऑन-स्क्रीन मांग बदली। सिनेमा सच्चाई का अंश है। अब स्कूल और कॉलेज के बच्चे अंतरंग संबंध बना रहे है और शादी की तो कहीं बात ही नहीं है, इसलिए यही चीज वे सिनेमा में दिखाते हैं।’’ 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us