बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

भारत को समझने के लिए सड़कों पर 27 हजार किमी घूमा ये फिल्म निर्देशक, हर बार अखबार से मिली नई कहानी

Pankaj Shukla पंकज शुक्ल
Updated Thu, 13 Aug 2020 01:31 PM IST
विज्ञापन
फारुक कबीर
फारुक कबीर - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
ख़बर सुनें
कोरोना संक्रमण काल में हिंदी फिल्मों को सीधे ओटीटी पर रिलीज करने के क्रम में अगली फिल्म विद्युत जामवाल की फिल्म ‘खुदा हाफिज’ है। अखबार की एक खबर से निकली इस फिल्म के लिए इसके निर्देशक फारुक कबीर ने काफी रिसर्च की है, उनकी पिछली फिल्म ‘अल्लाह के बंदे’ की प्रेरणा भी उन्हें अखबार में छपी एक खबर से ही मिली थी। ‘खुदा हाफिज’ की टीम ने अमर उजाला के साथ एक वीडियो मुलाकात भी की।
विज्ञापन


‘अमर उजाला’ से खास बातचीत में फारुक कबीर शुरू में ही ये कहकर चौंका देते हैं, ‘मेरी अगली फिल्म भी अखबार की एक कटिंग से ही निकली है।’ मशहूर अभिनेता मुराद के नाती (बेटी के बेटे) फारुख कबीर को पढ़ने का बहुत शौक है, खासतौर से रोज का अखबार। वह कहते हैं, ‘अखबार मेरे लिए एडिक्शन जैसा है। हाथ में सुबह अखबार न आए तो दिन खाली खाली लगता है। कोरोना के दौरान मुंबई में लंबे अरसे तक अखबार घर नहीं पहुंच पाए तो बड़ा खाली खाली सा फील होता रहा।’
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us