असली कशमकश यह है कि दर्शकों को कितना समझाया जाए: श्रीराम राघवन

भाषा Updated Sun, 25 Nov 2018 02:38 PM IST
विज्ञापन
Sriram Raghavan
Sriram Raghavan - फोटो : twitter

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
फिल्म निर्देशक श्रीराम राघवन ने कहा कि वह फिल्म बनाने के दौरान सबसे ज्यादा इस चीज को लेकर संघर्ष करते हैं कि दर्शकों को कितना समझाया जाना चाहिए।
विज्ञापन

राघवन की हालिया थ्रिलर फिल्म ‘‘अंधाधुंध’’ ने सिनेमाघरों में 50 दिन पूरे कर लिये हैं। फिल्मकार का कहना है कि वह पर्दे पर चीजों को स्पष्ट रूप में नहीं दिखाना चाहते हैं।
राघवन ने कहा, ‘‘वास्तविक संघर्ष यह है कि आप दर्शकों को कितना समझा देते हैं और मैं अपने हिसाब और समझ से काम करता हूं। यह ही ठीक है, यह स्पष्ट है। हमें इसे दिखाने की जरूरत नहीं है। हमें यह कहने की भी जरूरत नहीं है।’’ 
वह एनएफडीसी की ‘फिल्म बाजार नॉलेज सीरीज’ के सत्र ‘‘द डार्क, द पल्पी एंड द लव स्टोरी’’ में बोल रहे थे। राघवन ने कहा कि वह कई चीजों को अपने-अपने हिसाब से समझने के लिए दर्शकों पर छोड़ देते हैं। निर्देशक का मानना है कि इस प्रकार से जनता चीजों के बारे में कल्पना कर पाएंगे।
विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us