बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

BHEL के तीन अफसरों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा

ब्यूरो/अमर उजाला, हरिद्वार Updated Mon, 22 May 2017 10:37 PM IST
विज्ञापन
fir on three officers of bhel in haridwar

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
अपात्र कंपनी को खतरनाक कूड़े के निस्तारण का ठेका देने के मामले में सीबीआई ने भेल कि तीन अफसरों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। मामले की जांच के लिए सीबीआई की टीम ने भेल में डेरा डाल दिया है। सीबीआई के डेरा डालने के बाद भेल के अधिकारियों में हड़कंप मचा है।
विज्ञापन


 बताया जाता है कि मामला वर्ष 2014-2015 का है। भेल के कारखाने से निकलने वाले खतरनाक कूड़े को उठाने के लिए 46 लाख का ठेका अफसरों ने एक ऐसी कंपनी को दे दिया जो इस कार्य के लिए पात्र ही नहीं थी।


तीन माह में कूड़े का निस्तारण करना होता है। जितना कूड़ा उठना बताया गया उतना कूड़ा असल में था ही नहीं। आरोप है कि रकम भी कंपनी को एक सप्ताह में अदा कर दी गई। बताया जाता है कि इस मामले में सीबीआई ने देहरादून में पिछले माह सात अप्रैल को एफआईआर दर्ज की थी। मामले की पूरी जांच के लिए सीबीआई ने अब भेल में डेरा डाला है।

जानकारी के अनुसार सीबीआई ने रिटायर हो चुके तत्कालीन जीएम आरयू प्रसाद, वर्तमान एजीएम वीके सक्सेना, सीनियर मैनेजर ए भाई सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है।  

कूड़ा उठाने वाली कंपनी भारत रेडियो एंड इलेक्ट्रिक  वर्कस के प्रोपराइटर वीरेंद्र शर्मा और कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया है। भेल का पक्ष जानने के लिए जब स्थानीय स्तर पर कुछ अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई तो कोई कुछ बोलने को राजी नहीं हुआ। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us