देहरादून: राजद्रोह के आरोप में पत्रकार गिरफ्तार, झूठी खबरें प्रकाशित करने का आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Sun, 02 Aug 2020 11:26 AM IST
विज्ञापन
पत्रकार गिरफ्तार
पत्रकार गिरफ्तार - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

सार

  • मुख्यमंत्री पर झूठे आरोप लगाए, साजिश के तहत प्रदेश सरकार को अस्थिर करने के प्रयास का आरोप
  • पुलिस ने पत्रकार राजेश शर्मा को कोर्ट में किया पेश, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

विस्तार

झूठी खबरें प्रकाशित कर राजद्रोह करने के आरोप में नेहरू कालोनी पुलिस ने देहरादून के एक समाचार पत्र संचालक राजेश शर्मा को गिरफ्तार किया है। मुकदमे में एक चैनल के पूर्व सीईओ उमेश शर्मा और पर्वतजन पोर्टल के संचालक शिव प्रसाद सेमवाल समेत तीन और नामजद हैं। आरोप है कि इन सभी ने मुख्यमंत्री पर झूठा आरोप लगाते हुए साजिश के तहत प्रदेश सरकार को अस्थिर करने का प्रयास किया है। पुलिस के अनुसार सभी आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।
विज्ञापन

जानकारी के मुताबिक, पूर्व प्रोफेसर और कॉलेज ऑफ एजुकेशन मियांवाला के प्रबंधक डॉ. हरेंद्र सिंह रावत (निवासी एस-1 डी-6 डिफेंस कॉलोनी) ने थाना नेहरू कॉलोनी में तहरीर दी थी। इसमें बताया गया कि उनके परिचित ज्योति विजय रावत ने उन्हें जानकारी दी है कि उमेश शर्मा नामक व्यक्ति ने फेसबुक के माध्यम से सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट की है।
इसमें उसने उनके और उनकी पत्नी सविता रावत के बैंक खाते में नोटबंदी के दौरान झारखंड के एक व्यक्ति अमृतेश चौहान द्वारा झारखंड गौ सेवा आयोग का अध्यक्ष बनाने के एवज में बतौर रिश्वत धनराशि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को देने के लिए भेजना बताया है। धनराशि के लेनदेन से संबंधित फर्जी दस्तावेज वीडियो के माध्यम से दिखाए गए। साथ ही यह भी दावा किया गया कि उनकी पत्नी मुख्यमंत्री की पत्नी की सगी बड़ी बहन है। उन्होंने आरोप लगाया कि उमेश शर्मा और अमृतेश चौहान ने उनकी निजी सूचनाओं को गैरकानूनी तरीके से प्राप्त करते हुए सार्वजनिक किया। 
पुलिस के मुताबिक तहरीर के बाद जब वीडियो में दिखाए गए सभी तथ्यों की जांच राजपत्रित अधिकारी से कराई गई तो सभी दस्तावेज कूटरचित पाए गए। जांच में यह भी सामने आया कि उमेश शर्मा ने ही पर्वतजन पोर्टल, पहाड़ टीवी समाचार चैनल और क्राइम स्टोरी समाचार के संचालकों के साथ मिलकर झूठी खबर चलाईं और प्रदेश सरकार को अस्थिर करने का प्रयास किया। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

डीआईजी ने गठित की एसआईटी

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us