विज्ञापन
विज्ञापन

सपा नेता ने की महिला से छेड़खानी, गिरफ्तार

ब्यूरो/अमर उजाला, हरिद्वार Updated Sun, 02 Nov 2014 04:54 PM IST
sp leader arrested in molestation.
ख़बर सुनें
हरियाणा की महिला से छेड़छाड़ के आरोप में पुलिस ने सपा के पूर्व शहर अध्यक्ष कुणाल गिरि को गिरफ्तार किया है। महिला एक सप्ताह से सपा नेता के ही लॉज में ठहरी हुई थी। घटना हरिद्वार के श्रवणनाथ नगर की है।
विज्ञापन
21 अक्टूबर से बहादुरगढ़ हरियाणा निवासी तलाकशुदा महिला ठहरी थी। आरोप है कि लॉज स्वामी सपा नेता ने उसके कमरे में आकर उसके साथ छेड़छाड़ की लेकिन, लोक लाज के कारण वह चुप रही।

करीब एक सप्ताह तक लॉज में ठहरी महिला ने 30 अक्तूबर को पास के दूसरे होटल में कमरा लिया। शनिवार की सुबह महिला ने सपा नेता के लॉज पर पहुंचकर छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया।

सूचना पर पहुंचे मायापुर चौकी प्रभारी महानंद महिला को कोतवाली ले आए। सपा नेता के छेड़छाड़ करने की खबर फैलते ही राजनीतिक दल से जुड़े लोग और क्षेत्रीय नागरिक कोतवाली में पहुंचने लगे।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

पहले दिन से ही कर रहा था छेड़छाड़

विज्ञापन

Recommended

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम
Invertis university

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

चारधाम यात्रा 2019: ऋषिकेश गंगोत्री हाईवे देर रात से बंद, दोनों ओर दर्जनों वाहन फंसे

ऋषिकेश गंगोत्री हाईवे नरेंद्र नगर हिंडोलखाल के समीप बीती रात दो बजे फिर यातायात के लिए अवरुद्ध हो गया है।

17 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मदर टेरेसा को मिला था शांति के लिए नोबेल पुरस्कार, लेकिन कुछ लोगों ने दिया था नकार

17 अक्टूबर 1979 को मदर टेरेसा को शांति का नोबेल मिला था। नोबेल पुरस्कारों का इतिहास काफी रोचक रहा है। साथ ही विवादास्पद भी। ऐसा भी हुआ है जब विश्व का यह सर्वोच्च सम्मान लेने से लोगों ने मना कर दिया।

17 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree