विज्ञापन

'बदलाव को स्वीकार करने की क्षमता ही बुद्धिमत्ता है'

स्टीफन हॉकिंग Updated Thu, 15 Mar 2018 03:41 AM IST
Stephen Hawking
Stephen Hawking
ख़बर सुनें
भले ही मैं चल नहीं सकता और कंप्यूटर के माध्यम से बात करता हूं, पर मेरा मस्तिष्क स्वतंत्र है। बदलाव को स्वीकार करने की क्षमता ही बुद्धिमत्ता है। पूरी तरह से कृत्रिम बुद्धिमत्ता का विकास मानव जाति के अंत का कारण बन सकता है। जब कोई मुझसे पूछता है कि क्या मैं इस बात में विश्वास करता हूं कि ईश्वर ने ब्रह्मांड की रचना की है, तो मैं उनसे कहता हूं कि इस सवाल का कोई मतलब नहीं है। बिग बैंग से पहले समय का कोई अस्तित्व नहीं था, इसलिए ईश्वर के पास ब्रह्मांड की रचना के लिए कोई समय नहीं था। यह धरती के किनारे की दिशा पूछने जैसा है, यह पृथ्वी गोलाकार है, जिसका कोई किनारा नहीं है, इसलिए इसके किनारे की तलाश करना व्यर्थ की कवायद है। मैं इस सामान्य व्याख्या में विश्वास करता हूं कि कोई ईश्वर नहीं है। किसी ने भी ब्राह्मांड को नहीं बनाया और कोई हमारे भाग्य का निर्देशन नहीं करता है। इससे मुझे लगता है कि संभवतः कोई स्वर्ग भी नहीं है और जीवन के बाद कुछ नहीं है। ब्रह्मांड की शानदार रचना की प्रशंसा करने के लिए हमारे पास यही एक जीवन है और इसके लिए मैं बहुत आभारी हूं। ब्रह्मांड को यदि ईश्वर ने बनाया, तो फिर सवाल उठता है कि ईश्वर को किसने बनाया। पिछले सौ वर्षों में हमने काफी प्रगति की है, लेकिन आगे भी प्रगति करनी है, तो हमारा भविष्य अंतरिक्ष में है। आश्चर्य की भावना रखना और सवाल पूछते रहना युवाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण है। किताबें पढ़ने और ज्यादा से ज्यादा ज्ञान हासिल करने से बेहतर कुछ भी नहीं है।
विज्ञापन
विज्ञापन
-मशहूर वैज्ञानिक, जो अब हमारे बीच नहीं हैं

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

उन्हें ‘सभ्य’ बनाने का स्वार्थ

सेंटिनल द्वीप में एक अमेरिकी मिशनरी के मारे जाने पर आदिवासियों को सभ्य बनाने की बहस जोरों पर है। एक पुलिस अधिकारी के तौर पर मैंने पाया कि आदिवासियों को सभ्य बनाने की कोशिश के पीछे लोगों का अपना स्वार्थ है।

13 दिसंबर 2018

विज्ञापन

अब नए नोटों को बदलने पर बैंक से वापस मिलेंगे सिर्फ इतने ही पैसे!

आपके पास मौजूद नए नोटों में से कोई नोट किसी तरह से खराब हो जाए और आप उसे बैंक में बदलने जाएं तो आपको कितने रुपये वापस मिलेंगे। जवाब जानने के लिए देखिए ये जरूरी रिपोर्ट।

13 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree