विज्ञापन

IL&FS संकटः प्रोविडेंट फंड के हजारों करोड़ रुपए पर मंडरा रहा खतरा, ट्रस्टों में घबराहट

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 14 Feb 2019 03:38 PM IST
आईएल एंड एफएस
आईएल एंड एफएस
ख़बर सुनें
करोड़ों के कर्ज में डूबे हुए IL&FS समूह में निवेश किए गए पेंशन और प्रोविडेंट फंड के हजारों करोड़ रुपए पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। कई प्रोविडेंट और पेंशन फंड ट्रस्टों ने लाखों मध्यवर्गीय वेतनभोगियों के पेंशन और प्रोविडेंट फंड का पैसा इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज में निवेश किया है। इन कंपनियों ने बकाए की वापसी की प्रक्रिया पर चिंता जाहिर करते हुए नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट में याचिका दायर की है और जल्द से जल्द दखल देने की मांग की है।
विज्ञापन
विज्ञापन
हालांकि निवेश की सही-सही रकम का अंदाजा नहीं लग सका है, लेकिन निवेश बैंकरों के मुताबिक यह रकम 15 से 20 हजार करोड़ रुपए मानी जा रही है। उनका मानना है कि यह रकम इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के बॉन्ड्स में लगी है, जो उस वक्त ‘एएए’ कैटेगरी में थे और उस वक्त रिटायरमेंट फंड्स की पहली पसंद थे, क्योंकि ब्याजदर कम होने के बावजूद उन पर सुनिश्चित रिटर्न मिलता है।

सूत्रों के मुताबिक याचिका दायर करने वाली कंपनियों में पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों के फंड्स का प्रबंध करने वाले ट्रस्ट हैं जिनमें एमएमटीसी, इंडियन ऑयल, सिडको, हुडको, आडीबीआई, एसबीआई और हिमाचल प्रदेश गुजरात इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड प्रमुख हैं। इनके अलावा प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां हिन्दुस्तान यूनिलीवर और एशियन पैंट्स भी शामिल हैं।अपनी याचिकाओं में इन कंपनियों ने इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) की धारा 53 पर सवाल उठाए हैं। आईबीसी की धारा-53 के तहत बिक्री का बंटवारा वाटरफाल सिस्टम से किया जाता है। इस धारा के तहत सबसे पहले बड़े और सुरक्षित कर्जदाताओं का पैसा चुकाया जाता है और शेष राशी अनुषंगी कर्जदाताओं को जाती है। आखिर में इक्विटी धारकों को इसका भुगतान किया जाएगा।

माना जा रहा है कि याचिका दायर करने की अंतिम तिथि 12 मार्च है। अब तक कई प्रोविडेंट फंड कंपनियां सामने आ चुकी हैं और जल्द ही बाकियों के शामिल होने की भी उम्मीद है। माना जाता है कि IL&FS के संपर्क में अभी तक 14 लाख कर्मचारियों के सेवानिवृत लाभ का प्रबंध करने वाले 50 से ज्यादा फंड शामिल हैं।

IL&FS समूह में 302 कंपनियों में से 169 भारतीय कंपनियां शामिल हैं और IL&FS ने इन्हें 3 श्रेणीयों ग्रीन, एंबर और रेड में बांटा है। जिनमें 22 कंपनियों (ग्रीन) की पहचान उनके सभी दायित्वों को पूरा करने की स्थिति में की गई है, वहीं एंबर मार्क वाली 10 कंपनियां सुरक्षित लेनदारों को पैसे वापस कर सकती हैं, जबकि 38 कंपनियों को रेड कैटेगरी में रखा गया है जो अपने दायित्वों को पूरा करने में अक्षम हैं। साथ ही कंपनी का कहना है कि 100 और संस्थाओं का अभी आकलन किया जा रहा है। इन कंपनियों की चिंता है कि अगर केवल सुरक्षित लेनदारों का बकाया वापस किया जाएगा, तो उनमें केवल बैंक ही शामिल होंगे और बाकी बॉन्डधारकों को बकाया रकम नहीं मिलेगी।

गौरतलब है कि IL&FS समूह पर 90 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है, जिसमें सबसे ज्यादा हिस्सेदारी सरकारी बैंकों की है। वहीं इसमें सबसे ज्यादा हिस्सेदारी बैंक ऑफ इंडिया की 50.5 प्रतिशत और यूटीआई की हिस्सेदारी 30.5 प्रतिशत है। वहीं एलआईसी की 26.01 प्रतिशत, जापान की ओरिक्स कॉरपोरेशन की 23.54  प्रतिशत, आबूधाबी इनवेस्टमेंट अथॉरिटी की 12.5  प्रतिशत, एचडीएफसी 9.02 प्रतिशत और एसबीआई की 6.42 प्रतिशत हिस्सेदारी है।   

Recommended

समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा
ज्योतिष समाधान

समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Business

जीएसटी काउंसिल की बैठक: सस्ते घर खरीदने के लिए अभी और करना होगा इंतजार

वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में आज जीएसटी काउंसिल की 33वीं बैठक चल रही है। इस बैठक में वित्त मंत्री ने कहा कि रीयल एस्टेट और लॉटरी पर जीएसटी दर में बदलाव का निर्णय 24 फरवरी तक टाला गया है। 

20 फरवरी 2019

विज्ञापन

क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करना आपके भविष्य के लिए नुकसानदायक, देखिए रिपोर्ट

अगर आपकी सैलरी का बड़ा हिस्सा क्रेडिट कार्ड का बिल पेमेंट करने में ही जा रहा है तो इस तरफ ध्यान देने की जरूरत है।

20 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree