लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   China claimed on Pamir mountain area of Tajikistan rising tension in Middle Asia

अब ताजिकिस्तान पर पड़ी ड्रैगन की नजर, पामीर के पठारों पर जताया अपना दावा

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बीजिंग Published by: गौरव पाण्डेय Updated Fri, 07 Aug 2020 04:46 PM IST
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो) - फोटो : पीटीआई
विज्ञापन

अपने विस्तारवादी नजरिए के चलते अक्सर सवालों के घेरे में रहने वाला चीन अब छोटे और गरीब मध्य एशियाई देश ताजिकिस्तान पर नजर जमा रहा है। बीते कुछ सप्ताहों में चीनी मीडिया में बार-बार यह कहा जा रहा है कि ताजिकिस्तान के क्षेत्र में आने वाले पामीर के पठार चीन के अधिकार क्षेत्र में होने चाहिए। ताजिकिस्तान इससे काफी चिंतित है। 



चीन के इतिहासकार चो याओ लू ने एक लेख में चीनी सूत्रों के हवाले से लिखा है कि पूरा पामीर इलाका चीन का हुआ करता था और अब यह चीन को वापस मिलना चाहिए। चीन के सरकारी मीडिया में प्रकाशित इस लेख को लेकर ताजिकिस्तान की चिंता तो बढ़ी भी है, रूस का भी इस ओर ध्यान गया है जो मध्य एशियाई देशों को अपना रणनीतिक क्षेत्र मानता है।


बता दें कि साल 2010 में चीन और ताजिकिस्तान के बीच एक सीमा समझौता हुआ था। इसमें ताजिकिस्तान को पामीर इलाके में अपना करीब 1158 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र चीन को सौंपना पड़ा था। चीन ताजिकिस्तान और अफगानिस्तान की सीमा के पास ताशकुरगां पर एक एयरपोर्ट का निर्माण भी कर रहा है, जो कि चिंता का एक और विषय है। 

याओ लू ने लिखा है, 'चीन राज्य के नवीनतम निर्माण के साथ (1911) अधिकारियों का पहला कार्य था कि अपनी खोई हुई जमीन वापस पाई जाए। कुछ क्षेत्र चीन को वापस कर दिए गए वहीं, कुछ इलाकों पर अभी भी पड़ोसी देशों का नियंत्रण है। ऐसा ही एक बेहद प्राचीन क्षेत्र पामीर है, जो वैश्विक शक्तियों के दबाव में करीब 128 साल तक चीन से बाहर रहा।'

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00