विज्ञापन
Hindi News ›   Video ›   Uttar Pradesh ›   Baghpat ›   A child dead because of ban on note
बागपत में एक बच्चे की मौत

बागपत: नोटबंदी ने ली एक और जान, इलाज के लिए नहीं मिले पैसे

मदन बालियान, कुलदीप निषाद, अमर उजाला/ बागपत Updated Fri, 18 Nov 2016 02:49 PM IST

बागपत में नोटबंदी ने एक बच्चे की जान ले ली। मामला बागपत के निवाड़ा गांव का है जहां एक मजदूर का बेटा एहसान पांच दिन से बीमार था। बेटे के इलाज के लिए मजदूर बाप ने उधार लिया, लेकिन उधार में मिले, पांच सौ और एक हजार के नोट। वो नोट बदलने बैंक गये, लेकिन लाइन इतनी लंबी थी नंबर ही नहीं आया। रुपये नहीं थे तो दवाएं नहीं मिली और दुआ बेअसर हो गई। नतीजा ये हुआ कि एहसान की जान चली गई। एहसान की मौत के बाद से पूरा गांव सदमे में है और नोटबंदी को कोस रहा है। 
 

विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00