गल्ले की दुकानों में चीनी नहीं, उपभोक्ता परेशान

Pithoragarh Updated Sat, 24 Nov 2012 12:00 PM IST
अस्कोट। अस्कोट की 20 हजार की आबादी को सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों से चीनी नहीं मिल रही है। इससे नाराज लोगों ने पूर्ति विभाग को ज्ञापन भेजकर शीघ्र आपूर्ति नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।
सामाजिक कार्यकर्ता ललित सिंह लुंठी, विक्रम सिंह, इंद्र बहादुर पाल, बहादुर सिंह बिष्ट, नारायण सिंह आदि ने पूर्ति विभाग को ज्ञापन भेजकर बताया कि अस्कोट का पूर्ति विभाग यहां की 17 सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों को खाद्यान्न आवंटित करता है। लेकिन दीपावली से पूर्व तो दूर तीन हफ्ते से अधिक बीतने पर भी नवंबर की चीनी नहीं मिल सकी है। अब नवंबर का महीने भी समाप्त होने को है पर चीनी मिलने की संभावना नजर नहीं आ रही है। इसकी वजह से लोगों को बाजार से महंगे दामों में चीनी खरीदनी पड़ रही है। यहां के नागरिकों ने एक सप्ताह के भीतर कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।
उधर पूर्ति विभाग के सहायक खाद्य निरीक्षक जगदीश पांडे ने बताया कि अस्कोट के गोदाम में अभी तक चीनी नहीं पहुंची है। उच्चाधिकारी से वार्ता करने पर पता चला कि टनकपुर से ही चीनी की सप्लाई बंद है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अमित शाह के इस बयान पर उत्तराखंड कांग्रेस हुई हमलावर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राहुल गांधी पर की गई टिप्पणी के बाद उत्तराखंड कांग्रेस आग-बबूला हो गई है।

21 सितंबर 2017