विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Uttarakhand LockDown: रुड़की के तीन गांव की 17,500 की आबादी पर नजर रखने को टीमें तैयार

उत्तराखंड में रविवार को पांच और जमाती कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। प्रदेश में कुल 27 मरीज संक्रमित हो चुके हैं।

6 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

पिथौरागढ़

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

50 प्रतिशत घटा धारचूला का व्यापार

धारचूला (पिथौरागढ़)। लॉकडाउन के कारण नेपाल से ग्राहकों के नहीं आने से सीमांत धारचूला के व्यापार में 50 प्रतिशत का असर पड़ा है। सीमांत के धारचूला बाजार में नेपाल से ताजी सब्जियां, घी, दूध, दही सहित अन्य चीजें आती थीं। और नेपाल से ही बड़ी संख्या में ग्राहक भी भारतीय बाजार में आते थे। लॉकडाउन के कारण भारत और नेपाल को जोड़ने वाले अंतर्राष्ट्रीय झूला पुलों के गेट बंद हैंं। ऐसे में नेपाल से ग्राहक भारत नहीं आ रहे हैं। लॉक डाउन के दौरान दुकानें खोलने का समय सुबह सात बजे से दिन के एक बजे तक है, लेकिन ग्राहक नहीं होने से अधिकांश दुकानदार सुबह 11 बजे ही दुकानें बंद करने को मजबूर हैं। सब्जी के थोक विक्रेता जीवन कुटियाल ने बताया कि हल्द्वानी मंडी से सप्ताह में तीन गाड़ी माल लगभग 280 क्विन्टल सब्जियां मंगाते थे। नेपाल पुल बंद होने और गाड़ियां नहीं चलने से गांव से लोग नहीं आ रहे हैं। अब सप्ताह में केवल 150 क्विन्टल सामान ही मंगा रहे हैं। परचून विक्रेता गंभीर कुटियाल और विनोद अग्रवाल ने बताया कि नगर का व्यापार 70 प्रतिशत नेपाल और शेष स्थानीय गांव के लोगों पर ही निर्भर है। नेपाल और भारत में लॉकडाउन के बाद झूला पुल बंद होने और गाड़ियां नहीं चलने से व्यापार 50 प्रतिशत गिर गया है। ... और पढ़ें

50 प्रतिशत घटा धारचूला का व्यापार

धारचूला (पिथौरागढ़)। लॉकडाउन के कारण नेपाल से ग्राहकों के नहीं आने से सीमांत धारचूला के व्यापार में 50 प्रतिशत का असर पड़ा है। सीमांत के धारचूला बाजार में नेपाल से ताजी सब्जियां, घी, दूध, दही सहित अन्य चीजें आती थीं। और नेपाल से ही बड़ी संख्या में ग्राहक भी भारतीय बाजार में आते थे। लॉकडाउन के कारण भारत और नेपाल को जोड़ने वाले अंतर्राष्ट्रीय झूला पुलों के गेट बंद हैंं। ऐसे में नेपाल से ग्राहक भारत नहीं आ रहे हैं। लॉक डाउन के दौरान दुकानें खोलने का समय सुबह सात बजे से दिन के एक बजे तक है, लेकिन ग्राहक नहीं होने से अधिकांश दुकानदार सुबह 11 बजे ही दुकानें बंद करने को मजबूर हैं। सब्जी के थोक विक्रेता जीवन कुटियाल ने बताया कि हल्द्वानी मंडी से सप्ताह में तीन गाड़ी माल लगभग 280 क्विन्टल सब्जियां मंगाते थे। नेपाल पुल बंद होने और गाड़ियां नहीं चलने से गांव से लोग नहीं आ रहे हैं। अब सप्ताह में केवल 150 क्विन्टल सामान ही मंगा रहे हैं। परचून विक्रेता गंभीर कुटियाल और विनोद अग्रवाल ने बताया कि नगर का व्यापार 70 प्रतिशत नेपाल और शेष स्थानीय गांव के लोगों पर ही निर्भर है। नेपाल और भारत में लॉकडाउन के बाद झूला पुल बंद होने और गाड़ियां नहीं चलने से व्यापार 50 प्रतिशत गिर गया है। ... और पढ़ें

50 प्रतिशत घटा धारचूला का व्यापार

धारचूला (पिथौरागढ़)। लॉकडाउन के कारण नेपाल से ग्राहकों के नहीं आने से सीमांत धारचूला के व्यापार में 50 प्रतिशत का असर पड़ा है। सीमांत के धारचूला बाजार में नेपाल से ताजी सब्जियां, घी, दूध, दही सहित अन्य चीजें आती थीं। और नेपाल से ही बड़ी संख्या में ग्राहक भी भारतीय बाजार में आते थे। लॉकडाउन के कारण भारत और नेपाल को जोड़ने वाले अंतर्राष्ट्रीय झूला पुलों के गेट बंद हैंं। ऐसे में नेपाल से ग्राहक भारत नहीं आ रहे हैं। लॉक डाउन के दौरान दुकानें खोलने का समय सुबह सात बजे से दिन के एक बजे तक है, लेकिन ग्राहक नहीं होने से अधिकांश दुकानदार सुबह 11 बजे ही दुकानें बंद करने को मजबूर हैं। सब्जी के थोक विक्रेता जीवन कुटियाल ने बताया कि हल्द्वानी मंडी से सप्ताह में तीन गाड़ी माल लगभग 280 क्विन्टल सब्जियां मंगाते थे। नेपाल पुल बंद होने और गाड़ियां नहीं चलने से गांव से लोग नहीं आ रहे हैं। अब सप्ताह में केवल 150 क्विन्टल सामान ही मंगा रहे हैं। परचून विक्रेता गंभीर कुटियाल और विनोद अग्रवाल ने बताया कि नगर का व्यापार 70 प्रतिशत नेपाल और शेष स्थानीय गांव के लोगों पर ही निर्भर है। नेपाल और भारत में लॉकडाउन के बाद झूला पुल बंद होने और गाड़ियां नहीं चलने से व्यापार 50 प्रतिशत गिर गया है। ... और पढ़ें

नेपाल में लाक डाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ाई

धारचूला। नेपाल सरकार ने कोरोना की आशंका को देखते हुए लॉक डाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ा दी है। लॉक डाउन की अवधि बढ़ने से भारत में फंसे एक हजार से अधिक नेपाली नागरिकों की मुश्किलें बढ़ सकती है। बता दें कि कोरोना महामारी की आशंका को देखते हुए भारत में लॉक डाउन के बाद हजारों की तादाद में काम करने वाले नेपाली नागरिक अपने देश लौटने के लिए एक सप्ताह पूर्व अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पहुंचे थे। लेकिन नेपाल की ओर से लॉक डाउन के चलते अंतरराष्ट्रीय झूला पुल के गेट नहीं नहीं खोले गए इसके चलते बड़ी संख्या में नेपाली भारत में ही फंसे हुए हैं। धारचूला में इस वक्त एक हजार जबकि झुलाघाट में ढाई सौ से अधिक नेपाली नागरिक फंसे हुए हैं इन सभी नेपाली नागरिकों को राजकीय इंटर कॉलेज सहित अन्य सरकारी भवनों में ठहराया गया है। इन सभी नागरिकों के लिए जिला प्रशासन भोजन की व्यवस्था कर रहा है। शिविर में रह रहे नेपाली नागरिकों को उम्मीद थी कि शीघ्र ही नेपाल के गेट खुल जाएंगे लेकिन नेपाल सरकार की ओर से लॉक डाउन की अवधि बढ़ा देने से शिविर में रह रहे नागरिकों को और अधिक मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। ... और पढ़ें

नेपाल में लाक डाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ाई

धारचूला। नेपाल सरकार ने कोरोना की आशंका को देखते हुए लॉक डाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ा दी है। लॉक डाउन की अवधि बढ़ने से भारत में फंसे एक हजार से अधिक नेपाली नागरिकों की मुश्किलें बढ़ सकती है। बता दें कि कोरोना महामारी की आशंका को देखते हुए भारत में लॉक डाउन के बाद हजारों की तादाद में काम करने वाले नेपाली नागरिक अपने देश लौटने के लिए एक सप्ताह पूर्व अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पहुंचे थे। लेकिन नेपाल की ओर से लॉक डाउन के चलते अंतरराष्ट्रीय झूला पुल के गेट नहीं नहीं खोले गए इसके चलते बड़ी संख्या में नेपाली भारत में ही फंसे हुए हैं। धारचूला में इस वक्त एक हजार जबकि झुलाघाट में ढाई सौ से अधिक नेपाली नागरिक फंसे हुए हैं इन सभी नेपाली नागरिकों को राजकीय इंटर कॉलेज सहित अन्य सरकारी भवनों में ठहराया गया है। इन सभी नागरिकों के लिए जिला प्रशासन भोजन की व्यवस्था कर रहा है। शिविर में रह रहे नेपाली नागरिकों को उम्मीद थी कि शीघ्र ही नेपाल के गेट खुल जाएंगे लेकिन नेपाल सरकार की ओर से लॉक डाउन की अवधि बढ़ा देने से शिविर में रह रहे नागरिकों को और अधिक मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। ... और पढ़ें

ग्रीन वैली स्कूल के बच्चों ने यूनिफार्म में की ऑनलाइन पढ़ाई

पिथौरागढ़। ग्रीन वैली स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो गई है। सोमवार को बच्चों ने यूनिफार्म में घरों में बैठकर ऑनलाइन पढ़ाई की। प्रबंधक मनोज जोशी और प्रधानाचार्य रंजना भट्ट ने बताया कि घर में बैठकर पढ़ाई के दौरान भी सभी बच्चों से यूनिफार्म में रहने को कहा गया है। यह अनुशासन का महत्वपूर्ण हिस्सा है। कहा कि बच्चों ने अपनी फोटो अपलोड कर उपस्थिति लगाई। प्रतिदिन सुबह 9:30 बजे से अपराह्न तीन बजे तक नियमित पढ़ाई होगी।
विश्व भारती पब्लिक स्कूल में ऑनलाइन कक्षाएं शुरू हो गई हैं। बच्चे बड़े उत्साह से पढ़ रहे हैं। शिक्षक समस्याओं का समाधान घर से ही कर रहे हैं। प्रबंधक चंद्रकला गोबाड़ी ने बताया किअभिभावकों का भी सहयोग मिल रहा है। विवेकानंद विद्या मंदिर में ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो गई है। प्रधानाचार्य कृष्णवर्द्धन जोशी ने स्कूल के सभी शिक्षकों को विषय से संबंधित वीडियो बनाकर पाठ्यक्रम आगे बढ़ाने को कहा है। प्रबंधक प्रो.बीएस गोबाड़ी ने इस प्रयास को सराहनीय बताया है।
... और पढ़ें

बेटुलीधार में मलबा आने से रात भर बंद रही मुनस्यारी सड़क

मुनस्यारी (पिथौरागढ़)। पहाड़ी दरकने से थल-मुनस्यारी सड़क बेटुलीधार के पास बंद हो गई। जिस कारण सब्जी और गैस सिलिंडर के वाहन फंसे रहे। रविवार की देर शाम बारिश के कारण थल-मुनस्यारी सड़क में बेटुलीधार के पास पहाड़ी दरक गई। भारी मात्रा में मलबा और बोल्डर गिरने से सड़क पर वाहनों की आवाजाही ठप रही। मुनस्यारी को जा रहे सब्जी सहित सिलिंडरों ले जा रहे वाहन फंसे रहे। चालकों को पूरी रात वाहनों में ही बितानी पड़ी। सोमवार को जेसीबी से मलबा और बोल्डर हटाकर आवाजाही शुरू हुई।
नेपाल में लॉकडाउन की अवधि बढ़ने से परेशानी
धारचूला (पिथौरागढ़)। नेपाल सरकार ने लॉकडाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ा दी है। इस कारण धारचूला समेत विभिन्न राहत शिविरों में रह रहे 1000 से ज्यादा नेपाली मजदूरों की बड़ी मुश्किलें बढ़ गई हैं।
... और पढ़ें

नेपाल में लाक डाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ाई

धारचूला। नेपाल सरकार ने कोरोना की आशंका को देखते हुए लॉक डाउन की अवधि 15 अप्रैल तक बढ़ा दी है। लॉक डाउन की अवधि बढ़ने से भारत में फंसे एक हजार से अधिक नेपाली नागरिकों की मुश्किलें बढ़ सकती है। बता दें कि कोरोना महामारी की आशंका को देखते हुए भारत में लॉक डाउन के बाद हजारों की तादाद में काम करने वाले नेपाली नागरिक अपने देश लौटने के लिए एक सप्ताह पूर्व अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पहुंचे थे। लेकिन नेपाल की ओर से लॉक डाउन के चलते अंतरराष्ट्रीय झूला पुल के गेट नहीं नहीं खोले गए इसके चलते बड़ी संख्या में नेपाली भारत में ही फंसे हुए हैं। धारचूला में इस वक्त एक हजार जबकि झुलाघाट में ढाई सौ से अधिक नेपाली नागरिक फंसे हुए हैं इन सभी नेपाली नागरिकों को राजकीय इंटर कॉलेज सहित अन्य सरकारी भवनों में ठहराया गया है। इन सभी नागरिकों के लिए जिला प्रशासन भोजन की व्यवस्था कर रहा है। शिविर में रह रहे नेपाली नागरिकों को उम्मीद थी कि शीघ्र ही नेपाल के गेट खुल जाएंगे लेकिन नेपाल सरकार की ओर से लॉक डाउन की अवधि बढ़ा देने से शिविर में रह रहे नागरिकों को और अधिक मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। ... और पढ़ें

लॉकडाउन में गर्भवती महिलाओं के लिए जीवनदायिनी बनी 10

लॉकडाउन में गर्भवती महिलाओं के लिए 108 एंबुलेंस जीवनदायिनी बनी है। पिछले दो दिनों में 108 एंबुलेंसों से 14 गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए अस्पताल पहुंचाया गया, जबकि एंबुलेंस में दो सुरक्षित प्रसव कराए गए।
रविवार रात नाचनी के धामीगांव निवासी कमलेश कॉलोनी की पत्नी को प्रसव पीड़ा हुई। प्रसव पीड़िता को एंबुलेंस से थल लाते समय रास्ते में तेज पीड़ा होने लगी। हालत खराब होने पर ईएमटी अजय कुमार और चालक विनोद कुमार ने एंबुलेंस सड़क किनारे रोक कर प्रसव कराया। करीब दस बजे महिला ने स्वस्थ बालक को जन्म दिया। बाद में जच्चा बच्चा को थल अस्पताल में भर्ती कराया।
सोमवार सुबह छह बजे बंगापानी क्षेत्र की 21 वर्षीय ज्योति को प्रसव पीड़ा हुई। मुनस्यारी अस्पताल ले जाते समय मदकोट पुलिस चौकी के पास महिला को तेज पीड़ा होने पर 108 कर्मी कपिल मेहरा और राजेंद्र सिंह ने एंबुलेंस में ही प्रसव कराया। सुबह साढ़े सात बजे महिला ने स्वस्थ बालिका को जन्म दिया।
जच्चा-बच्चा को बाद में अस्पताल में भर्ती करा दिया। 108 के जिला कोऑर्डिनेटर परमानंद पंत ने बताया कि रविवार को बेड़ीनाग, गंगोलीहाट, डीडीहाट, धारचूला, थल क्षेत्र में 10 प्रसव पीड़िताओं को नजदीकी अस्पतालों में पहुंचाया गया। चार गर्भवती महिलाओं को जिला महिला अस्पताल पहुंचाया गया।
... और पढ़ें

कंट्रोल रूम से रखी जा रही बाहर से आए लोगों पर नजर

डीएम डॉ. विजय कुमार जोगदंडे के निर्देशानुसार कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए विभिन्न टीमों का गठन किया गया है। जिला स्तर पर बाहर से आने वाले व्यक्तियों की कड़ी निगरानी को जिला स्तर पर कलक्ट्रेट परिसर में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।
इसमें विभिन्न विभागों के कार्मिकों समेत रेडक्रॉस के स्वयंसेवी भी लगाए गए हैं। कंट्रोल रूम से जिले में होम या संस्थागत क्वारंटीन किए गए लोगों से लगातार संपर्क कर उनके सेहत की जानकारी ली जा रही है।
इन व्यक्तियों के सेहत में सकारात्मक सुधार नजर न आने पर इसकी जानकारी तत्काल मेडिकल टीम को देकर उनका तत्काल परीक्षण कराया जाएगा। क्वारंटीन किए गए जिन लोगों से संपर्क नहीं हो पा रहा है, उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए ब्लॉक रिस्पांस टीम के माध्यम से संबंधित ग्राम प्रधान, आशा, आरएसआई के माध्यम से सूचनाएं प्राप्त की जा रही हैं।
जिले में कांट्रेक्ट ट्रेसिंग के लिए बनाई गई इस व्यवस्था का नोडल अफसर सीडीओ गोपाल गिरी, सह नोडल सहायक निदेशक मत्स्य रमेश चलाल को बनाया गया है।
डीएम डॉ. विजय कुमार ने बताया कि जिले में कोरोना संक्रमण की जानकारी के लिए एक अलग से जिला कंट्रोल रूम स्थापित पूर्व से ही है, जिसका फोन नंबर 05964-226326, 228050, टॉल फ्री नंबर 1950 और 104 है। डीएम ने बताया कि जिले में कुल 3147 ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्हें निगरानी में रखा गया है। इसके अतिरिक्त बाहर से आए 912 लोग होम क्वारंटीन हैं। 29 लोगों को संस्थागत क्वारंटीन किया गया है।
... और पढ़ें

बैंकों और बाजार में बढ़ी भीड़

पिथौरागढ़। लॉकडाउन के दौरान सोमवार को बाजार में कुछ भीड़भाड़ नजर आई। अन्य दिनों की अपेक्षा सब्जी और परचून की दुकानों में खरीदार ज्यादा दिखाई दिए। बैंक और एटीएम खुले होने से लोगों ने लेनदेन भी किया। पिथौरागढ़ शहर के सभी वितरण स्पॉट पर सिलिंडरों की डिलीवरी की गई।
पिथौरागढ़ शहर में सुबह सात बजे से दुकानें खुलनी शुरू हो गई थीं। शहर के गांधी चौक में सोमवार को रविवार की अपेक्षा फल और सब्जी खरीदारों की भीड़भाड़ रहीं। हालांकि परचून की दुकानों में अन्य दिनों की तरह गिने-चुने लोग ही जरूरी सामान खरीदते नजर आए।
जिले के धारचूला, मुनस्यारी, गंगोलीहाट, गणाईगंगोली, डूनी, चहज, बेड़ीनाग, डीडीहाट, कनालीछीना, अस्कोट, जौलजीबी, नाचनी, थल, मुवानी, झूलाघाट, वड्डा, नाकोट, जाख, बड़ालू, बड़ाबे, गुरना आदि कस्बों में भी अन्य दिनों की अपेक्षा बाजारों में कुछ अधिक आवाजाही रही।
टायर पंक्चर, मोबाइल और टीवी रीचार्ज की दुकानें भी खुली रही। पिथौरागढ़ शहर के सभी वितरण स्पॉट में गैस सिलिंडरों के वाहनों से होम डिलीवरी की गई। गांवों से आने वाले लोगों को स्पॉट पर ही सिलिंडर दिए गए।
 पिथौरागढ़ के टकाना वितरण स्पॉट से सिलिंडरों की होम डिलीवरी की गई।  संवाद
पिथौरागढ़ के टकाना वितरण स्पॉट से सिलिंडरों की होम डिलीवरी की गई। संवाद- फोटो : PITHORAGARH
... और पढ़ें

मलबा आने से 11 घंटे बंद रहा पिथौरागढ़-घाट नेशनल हाइवे

दिल्ली बैंड के पास पिथौरागढ़-घाट नेशनल हाइवे पर रविवार रात फिर मलबा आ गया। इसके चलते वाहनों का संचालन ठप रहा। अपराह्न 3:30 बजे वाहनों की आवाजाही शुरू हुई। लगातार एनएच के बंद होने से सीमांत के लिए फल सब्जी, राशन, समाचार पत्र सहित अन्य जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति बाधित हो रही है।
पिथौरागढ़-घाट एनएच पर दिल्ली बैंड खतरनाक बन गया है। हाईवे पर दिल्ली बैंड के पास लगातार पहाड़ी दरक रही है। मलबा आने से शनिवार से रविवार की सुबह 10 बजे तक यातायात ठप रहा था। रविवार को दिन में वाहनों की आवाजाही सामान्य रही।
रविवार रात में फिर भारी मात्रा में मलबा आ गया। इसके चलते सोमवार सुबह सब्जी, राशन, गैस सिलिंडर, दूध, समाचार पत्र आदि के वाहन फंस गए। मैदानी क्षेत्रों को जा रहे ट्रांसपोर्ट वाहनों के चालकों को भी घंटों तक इंतजार करना पड़ा। एनएच खंड की ओर से मलबा हटाने के लिए जेसीबी और पोकलैंड भेजी, लेकिन पहाड़ी के लगातार दरकने से सड़क खोलने में लंबा वक्त लगा।
अपराह्न 3:30 बजे एनएच वाहनों के लिए खोला जा सका। सड़क बंद होने से दूसरे दिन भी समय से समाचार पत्र पिथौरागढ़ नहीं पहुंच पाए। दिल्ली बैंड के साथ ही नेशनल हाईवे पर कई स्थानों पर पहाड़ी से पत्थर गिरने का खतरा बना हुआ है। एनएच के अधिकारियों के अनुसार दिल्ली बैंड के पास पहाड़ी से लगातार पत्थर और मलबा गिरने से दिक्कत पेश आ रही है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में फंसे मजदूरों की मदद के लिए आगे आई आईटीबीपी

पिथौरागढ़/धारचूला/डीडीहाट। लॉक डाउन के कारण पिथौरागढ़, धारचूला, झूलाघाट में लगभग 1500 से अधिक मजदूर फंसे हुए हैं। इनमें से एक हजार मजदूर धारचूला और बलुवाकोट में हैं। सभी स्थानों पर मजदूरों को स्कूल भवनों में रखा गया है। मजदूरों के लिए दोनों समय भोजन का प्रबंध किया जा रहा है। धारचूला में फंसे नेपाली नागरिकों की मदद के लिए भारत तिब्बत सीमा पुलिस भी आगे आई है। धारचूला में प्रशासन की ओर से सभी फंसे मजदूरों के लिए आवास और भोजन की व्यवस्था की जा रही है। एनएचपीसी की ओर से भोजन कराया जा रहा है। अब आईटीबीपी भी सहायता के लिए आगे आ गई है। सातवीं वाहिनी के सेनानी अनुप्रीत टी बोरकर के निर्देश पर धारचूला में फंसे नेपाली नागरिकों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। आईटीबीपी के अधिकारियों ने धारचूला पहुचकर फंसे लोगों को भोजन कराया। वहीं आईटीबीपी की मेडिकल टीम ने लोगों को साफ सफाई व सोशल डिस्टेंसिंग की जानकारी दी। सेनानी बोरकर ने बताया कि कोरोना से लड़ी जा रही जंग में आईटीबीपी हमेशा आम नागरिकों के साथ खड़ी रहेगी। उधर झूलाघाट में ढाई सौ से अधिक नेपाली नागरिक फंसे हैं। सभी को सुबह शाम भोजन कराया जा रहा है। पिथौरागढ़ शहर में बिहार, झारखंड, बहराइच आदि स्थानों के मजदूर फंसे हैं। एबीवीपी सहित तमाम संगठन मजदूरों के लिए भोजन की व्यवस्था करा रहे हैं। प्रशासन की ओर से राशन भी बांटा जा रहा है। पिथौरागढ़ की विधायक चंद्रा पंत ने एंचोली, किरगांव, बिण,बांस,नाकोट,चंडाक आदि क्षेत्र में 450 परिवारों को राशन बांटा। इस अवसर पर गीता पंत,भूपेश पंत,कैलाश पंत, हरीश जोशी आदि मौजूद रहे। फोटो- ............ ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us