हनुमान अष्टमी क्यों है बजरंगबली का विजय उत्सव, जानिए इसके पीछे की कथा

amarujala.com- Presented By: विनोद शुक्ला Updated Sat, 09 Dec 2017 01:33 PM IST
hanuman ashtami significance and importance
10 दिसंबर, रविवार को हनुमान अष्टमी है। पौष महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को यह त्योहार मनाया जाता है। हनुमान अष्टमी का यह पर्व विजय उत्सव के रूप में भी मनाया जाता है। जो भक्त इस खास मौक पर हनुमान जी का दर्शन और उनकी पूजा आराधना करता है उसकी हर मनोकामना पूरी होती है। शास्त्रों में हनुमान अष्टमी को हनुमानजी का विजय उत्सव मानने के पीछे प्रसंग है। जिसके अनुसार भगवान राम और रावण के बीच युद्ध के समय जब अहिरावण ने भगवान राम और लक्ष्मण को कैद करके पाताल लोक में ले जाकर दोनों की बलि देना चाहता था, तब भगवान हनुमान ने उसे युद्ध में हरा कर और उसका वध कर भगवान को छु़ड़ाया था। युद्ध के दौरान ज्यादा थक जाने के कारण हनुमानजी पृथ्वी के नाभि स्थल अवंतिका में आराम किया था। हनुमान जी बल के कारण भगवान राम प्रसन्न होकर आशीर्वाद दिया की पौष कृष्ण की अष्टमी को जो भी भक्त पूजा करेगा उसके सारे  कष्ट दूर हो जाएंगे। ऐसी मान्यता है तभी से इस दिन विजय उत्सव का पर्व मनाया जाता है । हनुमान अष्टमी के दिन हनुमान मंदिर जा कर हनुमानजी के दर्शन करना चाहिए और इस दिन हनुमान जी के 12 नामों का जप करना चाहिए ऐसा करने से 12 नामों का जप करने से आपकी हर मनोकामना पूरी हो जाएगी।
पढ़ें- ताकतवर होने के बावजूद हनुमानजी ने कैद से क्यों नहीं कराया माता सीता को मुक्त




 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all spirituality news in Hindi related to religion, festivals, yoga, wellness etc. Stay updated with us for all breaking news from fashion and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Festivals

Holi 2018: होलिका दहन पर इस विधि से करें पूजन, शुभ मुहूर्त का रखें खास ध्यान

हिन्दू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को होलिका दहन किया जाता है।

24 फरवरी 2018

Related Videos

असल जिंदगी में राजकुमारी हैं ये बॉलीवुड की नायिकाएं

वैसे तो फिल्मों में अभिनेत्रिया राजकुमारी का रोल निभाती ही हैं लेकिन बॉलीवुड में कई अभिनेत्रियां ऐसी भी हैं जो किसी न किसी रॉयल फैमिली से संबंध रखती हैं...

24 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen