मलाइका की बहादुरी पर सवालिया निशान!

अमर उजाला, दिल्ली Updated Thu, 23 Jan 2014 04:17 PM IST
Case of girl who foiled kidnap attempt last year to be reopened
जयपुर की मलाइका सिंह टांक को गीता चोपड़ा बहादुरी पुरुस्कार की घोषणा के बाद एक विवाद तूल पकड़ रहा है जिसकी चर्चा पूरे राजस्थान भर में है।

जिस बहादुरी के लिए उनको सम्मानित किया जा रहा है उस पर पुलिस ने सवालिया निशान लगा दिया है।

दरअसल पिछले साल 15 फरवरी को पजेरो सवार बदमाशों ने उनका अपहरण कर लिया था लेकिन उन्होंने अदम्य साहस दिखाया और बदमाशों के चंगुल से निकल गईं।

लेकिन पुलिस ने जांच करने के बाद कहा कि ऐसी कोई घटना कभी हुई ही नहीं। पुलिस ने इस घटना में पहले एफआर लगा दी थी लेकिन अब इस केस को रिओपन करने का फैसला किया गया है।

अब भारतीय बाल कल्याण परिषद ने इस मामले पर जयपुर जिला कलक्टर कृष्णा कुणाल से रिपोर्ट मांगी है।

गीता चोपड़ा अवार्ड
26 अगस्त 1978 में फिरौती के लिए गीता चोपड़ा और संजय चोपड़ा का अपहरण किया गया था। 29 अगस्त को उनकी लाशें मिलीं थीं।

मेडिकल में पता चला कि गीता के साथ रेप किया गया था।

जिस गाड़ी से उनका अपहरण किया गया था वह भी चोरी की निकली। इस मामले में दो लोगों को दोषी मानते हुए फांसी की सजा दी गई।

राष्ट्रीय बहादुरी पुरुस्कारों के साथ गीता चोपड़ा अवार्ड भी दिया जाता है।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने लहराया परचम, 24 में से 20 वॉर्ड पर कब्जा

मध्यप्रदेश के राघोगढ़ में हुए नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस को 20 वार्डों में जीत हासिल हुई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

करणी सेना के 'पद्मावत' विरोध के बीच इस महिला ने रो रोकर बताया अपना दर्द

फिल्म ‘पद्मावती’ का नाम बदलकर भले ही ‘पद्मावत’ कर दिया गया हो। लेकिन उसको लेकर विरोध जारी है। बुधवार को चित्तौड़गढ़ में राष्ट्रीय राजमार्गो और रेलवे ट्रैक को जाम किया जाएगा। इस विरोध के कारण कई लोगों को परेशानियों का समाना करना पड़ा।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper