लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Vaivasvata Saptami 2022: कब है वैवस्वत सप्तमी का पर्व? इन मंत्रों के जप से प्रसन्न होंगे सूर्यदेव, पूरी होगी हर मनोकामना

धर्म डेस्क, अमर उजला, नई दिल्ली Published by: आशिकी पटेल Updated Tue, 05 Jul 2022 03:51 PM IST
कब है वैवस्वत सप्तमी का पर्व? इन मंत्रों के जप से प्रसन्न होंगे सूर्यदेव
1 of 5
विज्ञापन
Ashadha Surya Saptami 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार, आषाढ़ माह में शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को वैवस्वत सूर्य की पूजा का विधान है। इस तिथि को सूर्य सप्तमी या वैवस्वत सूर्य के नाम से भी जाना जाता है। इस साल वैवस्वत सप्तमी तिथि 6 जुलाई 2022 शुक्रवार को है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन सूर्य की पूजा करने से विशेष लाभ प्राप्त होता है। इस दिन सूर्यदेव की पूजा करने से व्यक्ति को लंबी आयु, आरोग्य, धन-धान्य में बढ़ोत्तरी, यश-कीर्ति, विद्या, भाग्य और पुत्र, मित्र व पत्नी का सहयोग प्राप्त होता है। कहा जाता है कि इस दिन जो भी व्यक्ति सच्ची निष्ठा और श्रद्धाभाव से व्रत रखकर भगवान सूर्य की पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। सूर्य सप्तमी या वैवस्वत सूर्य के दिन वैवस्वत मनु की पूजा और व्रत करने से आरोग्य, धन में वृद्धि और दुश्मनों पर जीत पाने का वरदान मिलता है। ऐसे में आइए जानते हैं कि सूर्य सप्तमी के दिन कैसे करें सूर्यदेव को प्रसन्न...
कब है वैवस्वत सप्तमी का पर्व? इन मंत्रों के जप से प्रसन्न होंगे सूर्यदेव
2 of 5
कैसे करें सूर्यदेव की पूजा
सूर्य सप्तमी के दिन प्रातः काल सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें और उसके बाद तांबे के लोटे में जल भरें और उसमें लाल चन्दन, चावल, लाल फूल डालकर सूर्य निकले के बाद सूर्यदेव को अर्घ्य दें। जल चढ़ाते समय सूर्य के वरूण रूप को प्रणाम करें और 'ऊं रवये नम:' मंत्र का जाप करें। मान्यता है कि इस मंत्र  का जाप करने से सूर्य देव मनोवांछित फल देते हैं। 
विज्ञापन
कब है वैवस्वत सप्तमी का पर्व? इन मंत्रों के जप से प्रसन्न होंगे सूर्यदेव
3 of 5
इसके बाद दीप से सूर्य देव का पूजन करें। सूर्य से संबंधित चीजें जैसे तांबे का बर्तन, पीले या लाल कपड़े, गेहूं, गुड़, लाल चंदन का दान करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ऐसा करना शुभ माना जाता है। श्रद्धानुसार इन में से किसी भी चीज का दान किया जा सकता है। इस दिन सूर्यदेव की पूजा के बाद एक समय फलाहार करें।
कब है वैवस्वत सप्तमी का पर्व? इन मंत्रों के जप से प्रसन्न होंगे सूर्यदेव
4 of 5
सूर्य पूजा से मिलता है लाभ
मान्यता है कि, सुबह उगते हुए सूर्य को प्रणाम करने और जल चढ़ाने से आत्मविश्वास बढ़ता है। सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति होती है। शास्त्रों के अनुसार, सप्तमी तिथि पर सूर्य को जल चढ़ाने और पूजा करने से रोग दूर होती हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
कब है वैवस्वत सप्तमी का पर्व? इन मंत्रों के जप से प्रसन्न होंगे सूर्यदेव
5 of 5
सूर्यदेव को प्रसन्न करने के लिए करें इन मंत्रों जाप 

ॐ हृां मित्राय नम:
ॐ हृीं रवये नम:
ॐ हूं सूर्याय नम:
ॐ ह्रां भानवे नम:
ॐ हृों खगाय नम:
ॐ हृ: पूषणे नम:
ॐ ह्रां हिरण्यगर्भाय नमः
ॐ मरीचये नमः
ॐ आदित्याय नमः
ॐ सवित्रे नमः
ॐ अर्काय नमः
ॐ भास्कराय नमः
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00