विज्ञापन

कैलाश मानसरोवर यात्रा 2018 : वीजा अवधि खत्म, 60 यात्रियों को गुंजी में रोका

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिथौरागढ़ Updated Sat, 11 Aug 2018 08:13 PM IST
kailash mansarovar yatra Visa period ends 60 passengers stopped in gunji
विज्ञापन
ख़बर सुनें
वीजा अवधि खत्म होने पर 10वें और 11वें दल के 60 कैलाश मानसरोवर यात्रियों को फिलहाल गुंजी में रोक दिया गया है। जिन यात्रियों की वीजा अवधि खत्म हो गई है उनमें 10वें दल के 19 और 11वें दल के 41 यात्री शामिल हैं। उम्मीद जताई जा रहा है कि सोमवार तक उनकी वीजा अवधि बढ़ जाएगी। 
विज्ञापन
कैलाश मानसरोवर यात्रा पर इस बार मौसम की मार पड़ी है। धारचूला के ऊपर नजंग और लखनपुर में रास्ता खराब होने के चलते कैलाश यात्रा पर जा रहे तीसरे दल से यात्रियों को हवाई सेवा उपलब्ध कराई गई। छियालेख और गर्ब्यांग में घना कोहरा छाने से यात्रियों को करीब पखवाड़े भर तक इंतजार करना पड़ा। इससे यात्रा का संचालन कर रहे केएमवीएन को भी करोड़ों का घाटा उठाना पड़ रहा है। 

आईटीबीपी सातवीं वाहिनी मिर्थी कंट्रोल रूम से मिली जानकारी के अनुसार तीन दिन पहले मौसम खुलने पर 10वें और 11वें दल के 60 यात्रियों को गुंजी पहुंचाया गया। वीजा की अवधि खत्म होने पर इन 60 यात्रियों को तीन दिन से गुंजी में ही रोका गया है। विदेश मंत्रालय से वीजा आने के बाद ही उन्हें आगे की यात्रा पर रवाना किया जाएगा। उधर, 12वें दल के 43 यात्रियों का गुंजी में आईटीबीपी के चिकित्सकों ने मेडिकल परीक्षण किया। सभी यात्री स्वस्थ पाए गए। यात्री गुंजी से आईटीबीपी के सुरक्षा दस्ते के साथ कालापानी को रवाना हो गए हैं। दसवें दल के पहले गए 25 यात्री चीन के जोंग्जिबू पहुंच गए हैं। 13वें दल के 55 यात्रियों को अभी पिथौरागढ़ में रोका गया है।

10वें और 11वें दल के यात्रियों को मौसम खराबी के चलते विलंब हो गया है। दल 10-12 दिन विलंब से हैं। सोमवार तक यात्रियों का वीजा आ जाएगा। उसके बाद ही यात्रियों को गुंजी से आगे की यात्रा पर रवाना किया जाएगा।
- टीएस मर्तोलिया, जीएम केएमवीएन

यात्रियों ने ली हिमालय बचाओ की शपथ
13वें दल के कैलाश यात्रियों ने नोडल अधिकारी दिनेश गुरुरानी के नेतृत्व में शहीद स्मारक पर एक दीप शहीदों के नाम जलाया। इस दौरान उन्होंने हिमालय को बचाने की शपथ ली। यात्रियों ने उल्का देवी यात्री वाटिका में एक पौधा धरती मां के नाम पर भी लगाया। इस मौके पर दल के संपर्क अधिकारी सुनील बिष्ट, गोपालकृष्ण गणेशन, महेश कांडपाल, प्रताप नाथ, हर सिंह, पद्म सिंह, अजय धामी, पंकज पंत, भूपेंद्र सिंह, राजेंद्र सिंह, रजनी रावत, हंसी बिष्ट आदि थे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

गर्भवती को जलाकर मार डाला, कोर्ट ने पति, सास-ससुर को सुनाई बड़ी सजा

दहेज के लिए गर्भवती को जलाकर हत्या करने के मामले में फर्रुखाबाद जिला जज अरुण कुमार मिश्र ने पति, सास, ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

‘मौत के कुएं’ ने ली दो सगे भाईयों की जान, गांव में कोहराम

कानपुर देहात में कुएं में उतरे दो सगे भाइयों की मौत से हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि गांव के सालों पुराने कुएं से जहरीली गैस निकल रही थी जो दोनों भाईयों की मौत की वजह बनी।  

7 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree