विज्ञापन
विज्ञापन

सड़क पर पड़े सारस की जान बचाने के लिए कहां तक गए ये पति-पत्नी!

ब्यूरो/अमरउजाला, लखनऊ Updated Fri, 24 Jun 2016 05:11 PM IST
शिक्षक दंपती
‌शिक्षक दंपती - फोटो : amar ujala
ख़बर सुनें

खास बातें

  • सारस की जान बचाने हरदोई से लौटे शिक्षक दंपती
  • हाईटेंशन लाइन से बुरी तरह झुलसे सारस को देख जगी दया 
  • मंजिल छोड़ 80 किमी दूर से आए लखनऊ जू लेकर 
वर्तमान समय में जहां लोग सड़क पर घायल पड़े व्यक्ति को देख मुंह फेरकर चल देते हैं, वहीं एक शिक्षक दंपती ने हाईटेंशन लाइन से झुलसे राज्यपक्षी सारस की जान बचाने के लिए हरसंभव कोशिश की।
विज्ञापन
अपने गंतव्य के करीब पहुंच चुके शिक्षक दंपती करीब ढाई-तीन घंटे का सफर तय करने के बाद घायल सारस को लेकर वे लखनऊ जू पहुंचे, लेकिन यहां पता चला कि रास्ते में ही वह दम तोड़ चुका था।  

एक प्रतिष्ठित स्कूल के शिक्षक कानपुर रोड निवासी देवेंद्र नैथानी अपनी पत्नी अपर्णा नैथानी के साथ बुधवार दोपहर निजी काम से हरदोई के मल्लावां जा रहे थे।

रास्ते में लखनऊ से करीब 80 किमी. दूर संडीला गौसगंज के पास उन्हें खेत में हाईटेंशन लाइन से टकराकर गिरता हुआ सारस दिखा, जो बुरी तरह झुलस चुका था। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

सारस ने रास्ते में ही तोड़ ‌दिया था दम

विज्ञापन

Recommended

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स
safalta

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019
Astrology Services

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

बाल दिवस: उम्र का बंधन तोड़ छुआ बुलंदी का आसमान, अपने दम पर देश-दुनिया में बनाई अलग पहचान

उम्र बेशक कम हो, लेकिन दून के कई होनहार राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी मेधा की चमक बिखेर रहे हैं।

14 नवंबर 2019

विज्ञापन

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ का बड़ा फैसला, 'CJI दफ्तर भी आरटीआई के दायरे में'

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने बड़ा फैसला लिया है। सुप्रीम कोर्ट का दफ्तर आरटीआई के दायरे में होगा। आखिर कैसे लंबी लड़ाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने ये फैसला सुनाया। पूरा विश्लेषण इस रिपोर्ट में।

13 नवंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election