शौक ही नहीं इनका जुनून है खेल प्रतिभाओं को निखारना, खुद भी रह चुकी हैं बेस्ट एथलीट

ब्यूरो/अमर उजाला, लखनऊ Updated Wed, 25 Oct 2017 02:25 PM IST
Know about athlete and trainer vimla singh
विमला सिंह - फोटो : amar ujala
लखनऊ की खेल प्रतिभाओं को निखारना उनका शौक ही नहीं एक जुनून है। उनके द्वारा प्रशिक्षित धाविकाओं ने न सिर्फ राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में शहर का नाम रोशन किया बल्कि कई अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्द्धाओं में अव्वल रहकर देश का गौरव भी बढ़ाया है। हम बात कर रहे हैं विमला सिंह की, जिन्होंने शहर को कई नामी खिलाड़ी दिए और उनका ये प्रयास आज भी जारी है।
 
ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी सुधा सिंह हो या संगीता यादव, नेहा सिंह, अर्चना पाल, सुधा पाल, नंदिनी गुप्त, विजयलक्ष्मी...। उनके द्वारा तैयार की गई खेल प्रतिभाओं की सूची काफी लंबी है, जिन्होंने अंतर विश्वविद्यालयीय स्पर्धाओं से लेकर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में न सिर्फ भाग लिया है बल्कि पुरस्कार भी हासिल किए हैं।

क्रीड़ा अधिकारी के तौर पर विमला सिंह ने करीब 14 वर्षों तक केडी सिंह बाबू स्टेडियम में खिलाड़ियों का मार्गदर्शन किया। विमला सिंह के लिए यहां तक पहुंच पाना आसान नहीं था। 49 वर्षीया विमला कहती हैं कि मैं घर से ट्रैक सूट पहनकर निकलती थी और मेरे माता-पिता को भी बहुत बाद में पता चल सका कि मुझे छोटे कपड़े पहनकर दौड़ लगानी पड़ती है।

 
आगे पढ़ें

रिश्तेदार करते थे आलोचना

Spotlight

Most Read

Shimla

मिस नॉर्थ इंडिया प्रिंसेस के ताज की दौड़ में हिमाचल की बेटी

सौंदर्य प्रतियोगिता डाबर आंवला मिस नॉर्थ इंडिया प्रिंसेस के फाइनलिस्ट में हिमाचल की युवती प्राजोल ने जगह बना ली है।

22 फरवरी 2018

Related Videos

मुरादाबाद में मासूम ने आत्महत्या की! परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप

मुरादाबाद के भगतपुर में 14 वर्षीय छात्र ने मदरसे में खुद को फांसी लगाकर जान दे दी। घटना के बाद से इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ है। स्थानीय लोगों की माने तो इस क्षेत्र में ऐसी ये पहली घटना है।

23 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen