अभिनेता अनुपम खेर ने पढ़ी लखनऊ के पंकज प्रसून की कविता, हजारों लोगों ने सराहा

विज्ञापन
ishwar ashish न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Published by: ishwar ashish
Updated Thu, 11 Feb 2021 10:41 AM IST
अपने पिता के साथ अनुपम खेर व पंकज प्रसून।
अपने पिता के साथ अनुपम खेर व पंकज प्रसून। - फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
राजधानी लखनऊ के कवि पंकज प्रसून की पिता पर लिखी एक कविता को बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ने पढ़ा है। अनुपम ने अपने पिता की पुण्यतिथि पर इस कविता को रिकॉर्ड कराकर अपने फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर अकाउंट पर भी पोस्ट किया है। उनके हजारों प्रशंसकों ने इसे लाइक और कमेंट के साथ शेयर किया।
विज्ञापन


इस संबंध में पंकज प्रसून ने बताया कि यह उनके लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी अनुपम खेर ने टाइम्स स्क्वॉयर न्यूयॉर्क से उनकी एक चर्चित ‘कविता लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं’ पढ़ी थी।


पंकज बताते हैं कि अनुपम खेर से उनका खास रचनात्मक रिश्ता है। वह उनकी कविताओं को पढ़ते वक्त काफी भावुक हो जाते हैं। पंकज बोले- एक महान अभिनेता के जरिए मेरी कविताएं करोड़ों लोगों के दिल तक पहुंच रही हैं, यह मेरे लिए उपलब्धि है।

अनुपम खेर की ओर से पोस्ट की गई कविता के अंश
‘मैं तुमको दोस्त या पिता कहूं
या पिता सा दोस्त
जो मुझे मुस्कान देता था और
पानी में गिरे मेरे आंसुओं को पहचान लेता था’

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X