विज्ञापन
विज्ञापन

बैचलर्स के बारे में 10 वो बातें जो आप नहीं जानतीं

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Sun, 24 Feb 2013 08:33 PM IST
 Do You Know How Single Men Think
ख़बर सुनें
गर्ल्स! आपने लोगों को ये कहते अकसर सुना होगा कि बैचलर लाइफ बहुत मजेदार होती है। बैचलर लाइफ के दिन बड़े ही रोमांचक होते हैं। लेकिन कभी आपने ये जानने की कोशिश की है कि आखिर लड़कियों के बारे में ये बैचलर लड़के क्या सोचते हैं। या फिर बैचलर लड़के कैसी लड़कियों को पसंद करते हैं। आइए जानें बैचलर लड़कों की सोच के बारे में।
विज्ञापन
  • प्रोफाइल की छानबीनः हालांकि सभी ऐसे नहीं हैं मगर आधे से ज्यादा बैचलर्स तो यही करते हैं। जी हां, 55 फीसदी लड़के डेट पर जाने से पहले लड़की की गूगल और फेसबुक पर छानबीन करते हैं। तो अपना फेसबुक प्रोफाइल जरा ठीक-ठाक बनाए रखें।

  • पहली डेट पर सेक्स से तौबाः तो अगर आप खुद चाहें तो भी बेहतर होगा कि पहली डेट पर सेक्स से परहेज करें। क्योंकि रिसर्च बताती है कि लगभग 78 फीसदी लड़के पहली डेट पर सेक्स करने को अच्छा नहीं मानते।

  • पिछली गर्लफ्रैंड मेमोरी से डिलीट नहीं होतीः पिछली गर्लफ्रैंड को खतरे की घंटी मानें। अपने बैचलर ब्वायफ्रैंड को उसके आसपास भी न फटकने दें। कारण? रिसर्च बताती है कि 63 फीसदी बैचलर अपने एक्स फ्रेंड या एक्स गर्लफ्रेंड के टच में रहते हैं।

  • डॉमिनेट करने में बुराई नहीं: इस बात की चिंता करने की जरूरत नहीं कि आपने किसी दिन अपने ब्वायफ्रैंड को कुछ ज्यादा ही डॉमिनेट कर दिया। 69 फीसदी बैचलर्स को डोमिनेटिंग लड़कियां ज्यादा पसंद आती है।

  • मायने रखती है दोस्तों की पसंदः अपने ब्वायफ्रैंड के दोस्तों को देखकर चिढ़ें नहीं। अगर हो सकते तो उनसे बहुत अच्छे से पेश आएं। 49 फीसदी लड़के उस लड़की के साथ डेट पर नहीं जाते जिसे उनके दोस्त पसंद नहीं करते।

  • ऐ मेरे हमसफरः 49 फीसदी बैचलर मानते हैं कि हर किसी का एक हमसफर जरूर होता है। वैसे यह परसेंटेज 50 से नीचे है मगर फिर भी ऐसे बैचलर्स की कमी नहीं जो अपने रिलेशन को सीरियसली लेंगे और जीवन भर साथ निभाने के बारे में सोचेंगे।

  • गलत नाम पर नाराज मत होनाः लगभग 31 फीसदी लड़के अपनी गर्लफ्रेंड का नाम याद नहीं रख पाते और उसे गलत नाम से पुकाते हैं। इसलिए अगर कभी आपका ब्वायफ्रैंड आपका नाम उल्टा-पुल्टा बोले तो उसकी नियत पर शक न करें।

  • मिशन इंपासिबलः 47 फीसदी बैचलर मानते हैं कि महिलाओं को पाना बहुत मुश्किल होता है। और अब आपकी समझ में आ गया होगा कि वे उन्हें इंप्रेस करने के लिए उटपटांग हरकतें क्यों करते हैं?

  • छोटी-छोटी बातें: तो बैचलर ब्वायफ्रैंड की छोटी-छोटी कोशिशों को नजरअंदाज न करें। रिसर्च बताती है कि 92 फीसदी बैचलर ऐसा सोचते हैं कि रिश्ते को जोड़ने की एक छोटी सी कोशिश भी रिश्ते में बदलाव ला सकती है।

  • किस्मत कनेक्शनः 33 फीसदी बैचलर मानते हैं कि लड़की से मिलने का सबसे बेहतर तरीका है किसी दोस्त को बीच में लाया जाए। तो किस्मत-लव-कनेक्शन का यह कांप्लीकेटेड गणित कभी आपकी लाइफ में आए तो इसको सावाधानी से हल करें।
विज्ञापन

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Relationship

एक किन्नर से शादी करने वाले मर्द की कहानी

मैं और निशा इस दस बाई दस फुट के कमरे में रहते हैं। रात को जब कमरे में हल्की रोशनी होती है तो दीवारों का ये केसरिया रंग मुझे अच्छा लगता है। हमारे पास एक ढोलक है, एक बिस्तर और कोने में दुर्गा जी की ये मूर्तियां।

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने कैलाश विजयवर्गीय और हेमा मालिनी पर दिया बेतुका बयान

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने सड़कों के बहाने कैलाश विजयवर्गीय और भाजपा सांसद हेमा मालिनी को लेकर बेतुका बयान दिया है।

15 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree