सादगीपूर्ण जिंदगी जीकर शीर्ष पर पहुंचे हैं नरेंद्र मोदी, ट्रेन की ये घटना सुनकर यकीन नहीं करेंगे आप

लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला Published by: ललित फुलारा Updated Tue, 28 May 2019 01:28 PM IST
नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)
1 of 7
विज्ञापन
23 मई को चुनाव नतीजे आने के बाद सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी और शंकर सिंह वाघेला को लेकर एक कहानी वायरल हो रही है। इस कहानी को नरेंद्र मोदी के सादगीपूर्ण व्यक्तित्व के साथ जोड़कर खूब शेयर किया जा रहा है। यह कहानी सबसे पहले साल 2014 में उस वक्त सामने आई थी जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे। अंग्रेजी अखबार 'द हिंदू' में छपे एक लेख में इस कहानी का जिक्र हुआ था। इस कहानी में नरेंद्र मोदी के ट्रेन यात्रा का जिक्र है....। हालांकि सबसे पहले जब यह कहानी साल 1995 में एक लेख के जरिए छपी थी तब लेखिका को नहीं पता था कि ट्रेन यात्रा कर रहे शख्स मोदी थे।  आइए जानते हैं क्या है यह कहानी जो 90 के दशक की है और फिर से लोग इसे अपने सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं..।

 
नरेंद्र मोदी
2 of 7
इस कहानी में नरेंद्र मोदी और शंकर सिंह वाघेला ने अपने विनम्र स्वभाव से दो अजनबी महिलाओं पर गहरी छाप छोड़ी थी। कहानी को रेलवे में वरिष्ठ अधिकारी लीना शर्मा ने अपने एक लेख के जरिए पांच साल पहले साझा किया था जो 2019 में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद फिर से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रही है। इस कहानी में लीना शर्मा ने 90 के दशक में अपनी अहमदाबाद यात्रा का जिक्र किया है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
नरेंद्र मोदी
3 of 7
लीना शर्मा ने उस घटना को याद किया जिसमें उनकी मुलाकात मोदी और वाघेला से हुई थी। दोनों ही ने अपना नाम बताया था लेकिन लीना को याद नहीं रहा। हालांकि दोनों ही लोगों के सादगीपूर्ण व्यवहार को वो कभी नहीं भूल सकी। यह कहानी तब की है जब लीला शर्मा अपने एक सहपाठी सहेली के साथ दिल्ली से अहमदाबाद जा रही थीं। उनकी और उनके बैचमेट का टिकट कंफर्म नहीं हुआ था। तब मोदी और वाघेला ने इन दोनों ही महिलाओं को अपनी सीट दी थी। इतना ही नहीं, जब सोने की भारी आई तो मोदी और शंकर सिंह वाघेला ट्रेन के फर्श पर चादर बिछाकर लेट गए और अपनी रिजर्व सीट दोनों महिलाओं को दी।
नरेंद्र मोदी
4 of 7
लेख में जिक्र किया गया है कि खाने के वक्त चार थाली आई जिसका बिल भी मोदी ने चुकाया और इन दोनों ही महिलाओं को गुजरात भाजपा में शामिल होने के लिए कहा। लीना ने इस घटना का जिक्र पहली बार 1995 में असम के एक अखबार में लेख लिखकर किया तब वह मोदी और वाघेला का नाम नहीं जानता थी और उन्होंने दो अज्ञात राजनेताओं के नाम का जिक्र किया था। तब लीना को नहीं पता था कि वो जिन दो नेताओं का जिक्र कर रही हैं वो आने वाले वक्त में इतने मशहूर होंगे। 
विज्ञापन
विज्ञापन
नरेंद्र मोदी
5 of 7
1996 में शंकर सिंह वाघेला गुजरात के मुख्यमंत्री बने। 2001 में नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने। जब मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो फिर लीना ने इस घटना को एक लेख के जरिए याद किया। लीना ने लिखा- साल 1990 गर्मियों की बात है। रेलवे में सेवा प्रोबेशनर्स के दौरान मैं और मेरी सहेली ट्रेन से लखनऊ से दिल्ली की यात्रा कर रही थी। उसी बोगी में दो सासंद भी यात्रा कर रहे थे। वो तो सही थे लेकिन उनके साथ बिना रिजर्वेशन के यात्रा कर रहे करीब 12 लोगों का व्यवहार डराने वाला था।  उन्होंने हमें हमारे रिजर्व बर्थ खाली करने के लिए मजबूर किया और हमारे सामान पर बैठ गए। इतना ही नहीं वो लोग भद्दी और गाली-गलौज वाली टिप्पणियां करने लगे। हमें लड़ाई से डर भी लग रहा था और गुस्सा भी आ रहा था।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00