विज्ञापन

लड़के की चाह में तीसरी बार गर्भपात कराने से इनकार करनेवाली महिला की मौत

क्राइम डेस्क, अमर उजाला, रांची Updated Wed, 09 May 2018 02:21 PM IST
women dies on monday after two times gender test, abortion and coma
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बेटे की चाह में लोग इस कदर तर तक गिर जाते हैं कि वह पेट में पल रही मासूम की जान लेने से भी पीछे नहीं हटते। ऐसा ही एक मामला झारखंड के बरही से सामने आया है। यहां रूपा मिश्रा नाम की एक महिला पर उसके ससुराल वालों ने बहुत जुल्म ढाए। उन्होंने लड़के की चाह में दो बार उसका लिंग परीक्षण कराया और फिर गर्भपात करवा दिया। लिंग परीक्षण के खिलाफ कड़े कानून बनने के बाद भी ऐसी घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं।
विज्ञापन
इसके बाद तीसरी बार रूपा के पेट में पल रहे बच्चे का लिंग परीक्षण कराया गया। इस गैरकानूनी परीक्षण के बाद जब ये मालूम पड़ा कि उसके गर्भ में इस बार भी एक लड़की है तो उसे गर्भपात के लिए कहा गया। लेकिन इस बार उसने ऐसा करने से इंकार कर दिया। रूमा की नामंजूरी ससुराल वालों को नागवार गुजरी और उन्होंने गला दबाकर उसकी हत्या करने की कोशिश की। ब्रेन हेमरेज होने की वजह से वह बीते एक वर्ष से कोमा में थी। सोमवार को उसका बरही अनुमंडलीय अस्पताल में निधन हो गया। 

रूपा का शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने उसके ससुराल जमशेदपुर के गोविंदपुर भेज दिया। इसके बाद परिजनों ने मंगलवार को बरही थाने में आवेदन कर उसके पति रंजन मिश्रा, सास कुसुम रानी मिश्रा और ननद सोनी कुमारी को मौत का जिम्मेदार ठहराया। तीनों पर आरोप लगाया गया कि इन्होंने बार-बार मृतका का लिंग परीक्षण कर गर्भपात करवाया है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। 

परिजनों का कहना है कि ससुराल वाले रूपा के पति की दूसरी शादी करवाना चाहते थे इसलिए उन्होंने रूपा की हत्या करने की कोशिश की। उन्होंने बताया कि ससुरालवालों ने कई बार उसे मारने की योजना बनाई थी। वह पिछले एक साल से कोमा में थी लेकिन उसके पति और उसके परिवार वालों ने कभी उसका हाल-चाल नहीं पूछा।

उन्होंने बताया कि रूपा की एक 7 साल की बेटी भी है लेकिन उसे कभी उसकी बेटी से मिलने तक नहीं दिया गया। उसकी बेटी कहां है इसकी भी कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने मांग की कि दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

National

क्या है NOTA और क्यों पड़ी चुनाव में इसकी जरूरत?

नोटा के तहत ईवीएम मशीन में नोटा का गुलाबी बटन होता है। अगर मतदाता को किसी दल का उम्मीदवार ग़लत लगते हैं तो वो नोटा का बटन दबाकर जनता अपना विरोध दर्ज करा सकती है।

17 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

कांग्रेस में शामिल होंगे जसवंत सिंह के बेटे मानवेन्द्र सिंह समेत इन खबरों पर रहेगी नजर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे मानवेन्द्रसिंह को कांग्रेस की सदस्यता दिला सकते है, मिजोरम विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा अपना अभियान 17 अक्टूबर से शुरू करेगी, समेत इन बड़ी खबरों पर रहेगी नजर.

17 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree