भंवरी हत्याकांड : साढ़े छह साल बाद भी जारी नहीं हुआ मृत्यु प्रमाण पत्र, नोटिस जारी

अमर उजाला टीम डिजिटल/जयपुर Updated Fri, 09 Feb 2018 08:16 PM IST
Bhanwari case : Rajasthan highcourt issued the notice about death certificate
file photo
बहुचर्चित एएनएम भंवरी देवी के मामले में साढ़े छह साल बाद भी मृत्यु प्रमाण पत्र जारी नहीं करने एवं परिलाभ नहीं देने पर राजस्थान हाईकोर्ट की जोधपुर मुख्यपीठ ने चिकित्सा सचिव सहित अन्य को नोटिस जारी किया है।
जस्टिस अरूण भंसाली की पीठ ने ये नोटिस जारी किया। मृतका भंवरी देवी के पुत्र साहिल, पुत्री अश्विनी और सुहानी की ओर से अधिवक्ता यशपाल खिलेरी के जरिये हाईकोर्ट में याचिका पेश की गई। याचिका में बताया गया कि एक तरफ तो राज्य सरकार ने मामला सीबीआई को रेफर कर दिया था, जहां 1 सितम्बर 2011 से भंवरी को मृत मानते हुए ट्रायल कोर्ट में मामला विचाराधीन है। वहीं, पुत्र साहिल को अनुकम्पा नौकरी भी दी गई है। दूसरी ओर, अभी तक मृत्यु प्रमाण पत्र जारी नहीं किया गया है। मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं होने की वजह से चिकित्सा विभाग समस्त पेंशनरी परिलाभ, ग्रेच्युटी जारी नहीं कर रहा है।

इस पर हाईकोर्ट ने प्रारम्भिक सुनवाई करते हुए चिकित्सा सचिव, सीएमएचओ जोधपुर, पेंशन विभाग के संयुक्त निदेशक, तहसीलदार पीपाड शहर को नोटिस जारी कर तीन सप्ताह में जवाब मांगा है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Sambhal

क्या विधायक लोकेंद्र को हो गया था अपनी मौत का पूर्वाभास

जिस दिन बंद कर लीं हमने आंखें, कई आंखों से उस दिन आंसू बरसेंगे, जो कहते हैं के बहुत तंग करते हैं हम, वही हमारी एक शरारत को तरसेंगे...

23 फरवरी 2018

Related Videos

सख्त हुई राजस्थान सरकार, बच्चियों से रेप करने वालों को देगी ये सजा

राजस्थान में छोटी बच्चियों के खिलाफ बढ़ते रेप के मामलों के मद्देनजर प्रदेश सरकार जल्द ही कठोर कानून ला सकती है।

20 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen