विज्ञापन
विधानसभा चुनाव 2018 विधानसभा चुनाव 2018

पहले दिन उपसभापति ने कराई सरकार की किरकिरी, जीता विपक्ष का दिल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sat, 11 Aug 2018 09:00 AM IST
On first day in Rajyasabha Harivansh win the hearts of opposition and followed rule book
ख़बर सुनें
राज्यसभा के नवनिर्वाचित उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह के लिए सदन का पहला दिन हलचल भरा रहा। पहले दिन ही उन्होंने रूल बुक का इस्तेमाल किया और प्राइवेट मेंबर के बिल पर वोटिंग करवाई। इसके अलावा उन्होंने विपक्ष की ऑफ रिकॉर्ड टिप्पणियों पर भी पूरा ध्यान दिया। समाजवादी पार्टी के सांसद विशंभर प्रसाद के प्रस्तावित प्राइवेट बिल को वोटिंग के बाद रद्द कर दिया गया। 
विज्ञापन
विज्ञापन
इस बिल में जाति के लोगों को एक राज्य में योग्य माना जाता है लेकिन दूसरे राज्य में नहीं। उन्होंने मांग की कि संविधान में संशोधन करके इस बात को सुनिश्चित किया जाए कि एससी/एसटी लोगों को किसी भी राज्य में आरक्षण से वंचित नहीं रखा जाएगा। इस बिल पर जवाब देते हुए सरकार ने कहा कि एससी/एसटी/ओबीसी श्रेणी में जातियों को शामिल करने या उन्हें बाहर करने की प्रक्रिया संसद द्वारा तय की गई है।

केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री के इस जवाब से विपक्ष संतुष्ट नहीं हुआ और बिल पर वोटिंग करवाने की मांग रखी। जिसके बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बीच में हस्तक्षेप किया और कहा कि नियम के अनुसार इसपर वोटिंग की इजाजत नहीं है। इसके बाद उपसभापति ने रूल बुक देखी और कहा, 'एक बार प्रक्रिया शुरू होने के बाद इसे रोका नहीं जा सकता है।'

उपसभापति की इस प्रक्रिया पर जहां विपक्ष खुश हो गया और उसने मेजें थपथपाकर इसका स्वागत किया। बिल के पक्ष में 32 और विपक्ष में 60 वोट पड़े। जिसकी वजह से यह खारिज हो गया। उपसभापति के फैसले पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आपत्ति जताते हुए कहा कि सामान्य रूप से प्राइवेट मेंबर प्रस्ताव पर डिवीजन नहीं होता है, इसका मकसद सिर्फ सरकार को मुद्दे से अवगत कराना होता है। प्रस्ताव को पेश करने के बाद वापस ले लिया जाता है। उन्होंने कहा कि वोटिंग कराकर एक नई परंपरा डाली जा रही है। इसका समर्थन करते हुए सामाजिक न्याय और आधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि प्राइवेट बिल पर वोटिंग हो सकती है लेकिन प्रस्ताव पर कभी वोटिंग नहीं हुई।

उपसभापति हरिवंश ने कहा कि नियमों में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि एक बार कहने के बाद वोटिंग रोकी जा सके। इस पर केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने कहा कि यह आदेश तो हम मानेंगे लेकिन आगे इस नियम में आपको कुछ सुधार करना होगा। 

बता दें कि उपसभापति बनने के बाद हरिवंश की पीएम मोदी ने काफी तारीफ की थी। उन्होंने उन्हें कलम का धनी बताया था और कहा था कि अब हम हरि भरोसे हैं।

वहीं विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा था, 'हरिवंश जी पहले एनडीए के प्रत्याशी थे, लेकिन चुनाव जीतने और उपसभापति बनने के बाद यह पूरे सदन के हो गए हैं किसी एक पार्टी के नहीं। वह अपना काम अच्छे से करें, हमारी शुभकामनाएं उनके साथ हैं।' उन्होंने यह भी कहा था कि एक पत्रकार उपसभापति बने हैं तो उम्मीद है मीडिया में सदन की कार्यवाही ज्यादा दिखाई जाएगी और उनका अनुभव देश के काम आएगा।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News

विधानसभा चुनाव परिणाम 2018: आप को जनता ने किया खारिज, प्रत्याशियों से ज्यादा नोटा को मिले वोट

विधानसभा चुनाव नतीजों से पता चलता है तीन राज्यों में आम आदमी पार्टी के प्रत्याशियों को जनता ने सिरे से नकार दिया।

11 दिसंबर 2018

विज्ञापन

कांग्रेस की जीत पर हिंदी में बोले शशि थरूर, जनता ने ‘जुमलेबाजी’ का जवाब दिया

राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की जीत तय हो चुकी है। इस बीच पार्टी की लीड से गदगद शशि थरूर ने हिंदी में बयान देते हुए कहा कि जनता ने ‘जुमलेबाजी’ का जवाब दे दिया है।

11 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election