कर्नाटक: दिन भर चला राजनीतिक नाटक, कांग्रेस के विधायक हुए लापता, भाजपा पर हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बंगलूरू Updated Wed, 16 May 2018 04:12 PM IST
Karnataka Political drama throughout the day, Congress MLA's missing, BJP accused of horse trading
ख़बर सुनें
त्रिशंकु विधानसभा का जनादेश देकर राज्य की जनता ने भाजपा, कांग्रेस और जदएस को सियासी भंवर में फंसा दिया है। बुधवार को दिन भर इन पार्टियों के शीर्ष नेता इससे निकलने के लिए कसरत करते रहे। विधायक दल की बैठक में नेता चुने जाने से लेकर राज्यपाल से मुलाकात तक का सिलसिला चला। इस बीच, राजनीतिक गलियारों में कांग्रेस और जदएस के विधायकों को खरीदने के लिए 100-100 करोड़ नकद और मंत्री पद जैसे प्रलोभन दिए जाने के समाचार भी तैरते रहे। पेश है पूरे दिन के घटनाक्रम पर एक नजर। 
कांग्रेस के विधायक गायब

सुबह सबसे पहले राज्य मुख्यालय में कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू हुई। सिद्धारमैया कहते रहे कि उनके सभी विधायक साथ हैं लेकिन सात माननीयों के लापता होने की बात सामने आई। कुस्टागी से चुनाव जीतने वाले अमरगौड़ा लिंगनगौड़ा पाटिल बयापुर ने खुलासा किया कि उनके पास भाजपा नेताओं का फोन आया था और पाला बदलने के लिए मंत्री पद का लालच दिया गया था।
 
सौ-सौ करोड़ का लालच

जदएस विधायक दल की बैठक दस बजे शुरू हुई जिसमें एचडी कुमारस्वामी को विधायक दल का नेता चुना गया। कहा जा रहा है कि इस बैठक में पार्टी के दो विधायक उपस्थित नहीं हुए। पार्टी ने आरोप लगाया कि उनके विधायकों को भाजपा नेताओं की ओर से 100-100 करोड़ रुपये का लालच दिया गया। इसके मद्देनजर विधायकों को कांग्रेस नेता केडी शिवकुमार के भाई केडी सुरेश के रिजॉर्ट ले जाने पर भी चर्चा हुई। कहा गया कि 102 कमरे बुक करा दिए गए हैं। इससे कयास लगाया गया कि जदएस के साथ कांग्रेस अपने विधायकों को भी वहीं रखेगी।
आगे पढ़ें

येदियुरप्पा चुने गए नेता

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

लोगों को लुभाने के लिए मोदी का नया दांव, अति पिछड़ा वर्ग के जरिए निकालेंगे एसपी-बीएसपी की काट

एमबीसी का मुद्दा ऐसा है जिसपर पहली बार पीएम ने बात कही है। इस मुद्दे को उछालना सिर्फ कैराना ही नहीं बल्कि 2019 में भी ओबीसी वोट्स साधने की कोशिश हो सकती है।

28 मई 2018

Related Videos

जानिए ये उपचुनाव किसके लिए हैं ‘अग्नि परीक्षा’

सोमवार को देश की चार लोकसभा सीटों के लिए मतदान हुआ। ये सीट सियासी दलों के लिए काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही हैं या यूं कहें कि ये उपचुनाव सियासी पार्टियों के लिए किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं।

28 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen