मोदी इफेक्ट: ओमान के इस बंदरगाह से चीन पर नजर रखेगा भारत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 14 Feb 2018 11:34 AM IST
India was somewhat late in acknowledging the importance of Duqm port oman
हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन खाड़ी देशों की यात्रा की है। अब उसका प्रभाव भी दिखना शुरू हो गया है। कहा जा सकता है कि भारत की रणनीति और कूटनीति का असर अब दिखने लगा है। इस यात्रा में पीएम मोदी ने ओमान, फलस्तीन और जॉर्डन का दौरा किया था। यहां उन्होंने कई रणनीतिक समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे। ऐसा ही एक समझौता भारतीय नौसेना को ओमान के दुक्म बंदरगाह तक पहुंचाने की अनुमति से संबंधित था।
हिंद महासागर के पश्चिमी भाग में भारत की रणनीतिक पहुंच के लिए यह समझौता बहुत अहम माना जा रहा है। जानकारों का मानना है कि इसके काफी दूरगामी परिणाम होंगे। बता दें कि इस साल मार्च में पर्शिया की खाड़ी में भारत और संयुक्त अरब अमीरात द्वारा संयुक्त सैन्य अभ्यास किया जाएगा।

जिस तरह से चीन, पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह को विकसित कर रहा है, उसे देखते हुए दुक्म में भारत की मौजूदगी रणनीतिक तौर पर काफी अहम हो जाएगी। इस समझौते के बाद भारत, चीन को ओमान की खाड़ी में रोकने में सक्षम हो जाएगा।

 यह भी पढ़ें: ओमान में PM मोदी बोले- मैं चायवाला, चाय से भी कम कीमत पर दिया हेल्थ इंश्योरेंस

बता दें कि ग्वादर पर ओमानी सुल्तान का हक था और उन्होंने 1950 के दशक में भारत को इससे जुड़ने की गुजारिश की थी। लेकिन उस समय भारत ने उस गुजारिश को इसलिए ठुकरा दिया था क्योंकि भारत जानता था कि वह इसे पाकिस्तान से नहीं बचा पाएगा।
आगे पढ़ें

भारत और ओमान करीबी राजनीतिक रिश्ते रहे हैं

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

मोदी के एयरपोर्ट न जाने पर उठी कनाडाई PM ट्रूडो के अपमान की आशंकाएं निराधार

एयरपोर्ट पर मोदी द्वारा स्वागत न किए जाने से कनाडा में यह आरोप लगाए गए थे।

20 फरवरी 2018

Related Videos

इस मुस्लिम युवक ने करवाया 500 साल पुराने मंदिर का जीर्णोधार

अहमदाबाद में एक मुस्लिम शख्स 500 साल से ज्यादा पुराने हनुमान मंदिर के नवीनीकरण में जुटा है। मोईन गुलाम नाम के शख्स ने इस मंदिर को फिर से बनाने का बीड़ा उठाया। इस काम में उन्होंने किसी से मदद लेने से इंकार कर दिया।

19 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen