बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

2019 में बलात्कार और शारीरिक शोषण के चलते 72 महिलाओं को करनी पड़ी थी खुदकुशी

जितेंद्र भारद्वाज, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Harendra Chaudhary Updated Wed, 30 Sep 2020 06:57 PM IST

सार

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा जारी 'एक्सीडेंटल डेथ एंड सुसाइड इन इंडिया' 2019 रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है। पिछले साल बलात्कार और शारीरिक शोषण की वजह से 72 महिलाओं ने आत्महत्या की है...
विज्ञापन
Crime against Women
Crime against Women - फोटो : Amar Ujala (File)

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

अलीगढ़ के हाथरस की बिटिया को न्याय दिलाने के लिए देश के विभिन्न राजनीतिक और सामाजिक संगठन सड़कों पर उतर आए हैं। हाथरस की पीड़िता बच नहीं सकी। पिछले साल बलात्कार और शारीरिक शोषण के चलते 72 महिलाओं को खुदकुशी के लिए मजबूर होना पड़ा। इनमें उत्तर प्रदेश की नौ पीड़िताएं भी शामिल हैं।
विज्ञापन


नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा जारी 'एक्सीडेंटल डेथ एंड सुसाइड इन इंडिया' 2019 रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है। पिछले साल बलात्कार और शारीरिक शोषण की वजह से 72 महिलाओं ने आत्महत्या की है। इनमें मध्यप्रदेश की 18, असम दो, बिहार 01, झारखंड 08, कर्नाटक 02, केरल 04, महाराष्ट्र 01, पंजाब 04, राजस्थान 05, तमिलनाडु 17, उत्तरप्रदेश 09 और दिल्ली में एक महिला ने खुदकुशी की थी।


बांझपन की वजह से 237 महिलाओं ने आत्महत्या कर ली थी। शादी से संबंधित मामलों में 1815 महिलाओं ने खुदकुशी की थी। इनमें मध्यप्रदेश की 496, महाराष्ट्र की 158, उत्तर प्रदेश की 436 और पश्चिम बंगाल में 288 महिलाएं शामिल हैं। इतना ही नहीं, सामाजिक प्रतिष्ठा की खातिर 135 महिलाओं को खुदकुशी के रास्ते पर जाना पड़ा। वे महिलाएं, जिन पर संदिग्ध एवं अवैध संबंध होने का आरोप लगा, उन्होंने भी आत्महत्या जैसा घातक कदम उठा लिया। ऐसी महिलाओं की संख्या 255 रही है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us