लब आजाद हैं....के साथ हम लिखेंगे महिलाओं के स्वाभिमान की कहानी

amarujala.com- Presented By: पूजा मेहरोत्रा Updated Wed, 15 Nov 2017 02:18 PM IST
childrens day special labazaad hain mission empowering women girl child raped and sexually abused
shamina - फोटो : social media
वर्ष 2015 में भारत में 34 हजार से ज्यादा रेप के मामले दर्ज किए गए थे, 2016 में भी महिलाओं के साथ होने वाले बलात्कार के आकंड़े इसी के आसपास ही रहे। अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो 18 से 30 साल की उम्र वाली महिलाओं के साथ बलात्कार के मामले 17000 से अधिक मामले सामने आए जिसमें 33 हजार से अधिक के मामलों में रेपिस्ट जानकार था। 
जब किसी बच्ची या महिला के साथ रेप होता है तो दर्द से सिर्फ महिला या बच्ची ही नहीं गुजरती है बल्कि उसका पूरा परिवार उस दर्द को झेलता है। कई बार इस ट्रॉमा से परिवार वालों को मुहल्ले से लेकर गांव-शहर तक छोड़ना पड़ता है।  

यही नहीं इंसाफ की चाह में कई बार घरबार तक बिक जाते हैं वहीं घरवालों को इतना कोर्ट का चक्कर लगाना पड़ता है कि लगी लगाई नौकरी तक छूट जाती है। ऐसे ही दर्द से जूझ रही रेप पीड़ितों को सशक्त बनाने में जुटी है पावर फाउंडेशन।  
आगे पढ़ें

बलात्कार पीड़ित महिलाओं और बच्चियों को सशक्त बनाने के लिए आगे आईं हैं

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

मोदी सरकार की ताकत ही बनती जा रही है उसकी कमजोरी

इससे जुड़े सवाल पर विदेश मंत्रालय के अधिकारी प्रतिक्रिया देने से बचने लगे हैं।

25 फरवरी 2018

Related Videos

डेढ घंटे बर्फ में दबे रहने के बाद जीवित निकला ये शख्स

केलांग में आए एवलॉन्च में तीन लोग दब गए। घटना रोहतांग टनल के नॉर्थ पोर्टल में हुई। यहां बीआरओ ऑफिसर इस एललॉन्च के चपेट में आ गए।

24 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen