विज्ञापन

शिक्षा घोटालों के लिए शुरू से बदनाम रहा है बिहार, जानिए पांच बड़े घोटाले

amarujala.com- Written by : हरेन्द्र सिंह मोरल Updated Tue, 06 Jun 2017 04:00 PM IST
Bihar has been a bad name with education scandal, these are top 5 scandal
ख़बर सुनें
बिहार में बोर्ड परीक्षाओं का रिजल्ट जारी होने के बाद 12वीं की परीक्षाओं में एक बार ‌फिर घोटाले की बू आ रही है। जिस तरह आईआईटी का एग्जाम क्लियर करने वाले छात्रों को फिजिक्‍स और मैथ के एग्जाम में फेल कर दिया गया है उससे बोर्ड परीक्षाओं की शुचिता पर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं।
विज्ञापन
हालांकि अभी ताजा मामले पर कोई कार्रवाई होती उससे पहले ही ईडी ने पिछले साल के टॉपर घोटाले में बड़ी कार्रवाई करते हुए मुख्य आरोपी बच्चा राय और बोर्ड अध्यक्ष रहे लालकेश्वर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। बहरहाल बिहार में शिक्षा घोटालों का लंबा इतिहास रहा है।

हकीकत ये है कि किसी भी सरकार ने पुराने अनुभवों से कभी कोई सबक नहीं लिया। पिछले सालभर के अंदर ही टॉपर्स घोटाले के बाद एमफिल घोटाला और शिक्षक घोटाला सामने आ चुका है। आइए डालते हैं बिहार के बड़े शिक्षा घोटालों पर एक नजर-
विज्ञापन
आगे पढ़ें

टॉपर्स घोटाला

विज्ञापन

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

Kumbh Mela 2019 Importance: मुगलकाल में भी होता था कुंभ, क्या है अखाड़ों का इतिहास और महत्व

आम तौर पर 'अखाड़ा' शब्द सुनते ही हमारी आंखों के सामने पहलवान और कुश्ती जैसे चित्र उभरने लगते हैं। लेकिन कुंभ में साधु-संतों के अखाड़े होते हैं।

16 जनवरी 2019

विज्ञापन

5 साल, 50 बयान | मणिशंकर अय्यर के चाय वाले बयान ने कैसे मोदी को मुंहमांगी मुराद दे दी

पूरे पांच साल हो गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुंह से चाय की बात सुनते। कभी-कभी कुछ चीजें इतनी मशहूर हो जाती हैं कि याद ही नहीं रहता--वो शुरू कैसे हुईं। चाय-चायकार भी उनमें से एक हैं। आपको पांच साल पहले की सर्दियों में ले चलते हैं।

16 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree